1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. राजस्थान सीएम गहलोत ने की प्रियंका को हिरासत में लेने की निंदा

राजस्थान सीएम गहलोत ने की प्रियंका को हिरासत में लेने की निंदा

उत्तरप्रदेश के लखीमपुर में पुलिस द्वारा कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने की राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निंदा की है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

जयपुर, 04 अक्टूबर। उत्तरप्रदेश के लखीमपुर में पुलिस द्वारा कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने की राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निंदा की है।

पढ़ें :- प्रियंका गांधी ने जारी किया कांग्रेस का महिला घोषणा पत्र, पुलिस बल में 25 प्रतिशत नौकरियां महिलाओं को देने का किया वादा

सोमवार को मुख्यमंत्री गहलोत ने ट्विट करते हुए कहा, एआईसीसी महासचिव प्रियंका गांधी जी एवं अन्य नेताओं को उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने की मैं कड़े शब्दों में निंदा करता हूं। वे प्रमुख विपक्षी नेता हैं और लखीमपुर खीरी जिले में कल जो किसान मारे गये उनके परिवारों से मिलने जा रही थीं। विपक्षी नेताओं को गैरकानूनी तरीके से रोका जाना लोकतांत्रिक मानदंडों के खिलाफ है। पहले शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों पर भाजपा नेताओं के काफिले की गाड़ियां चढ़ाकर उनको बर्बरता से मार दिया गया, फिर विपक्षी नेताओं को वहां जाने से रोका जा रहा है, जो बिल्कुल गलत है। प्रियंका जी उन परिवारों के साथ खड़े होने के लिये जा रहीं थीं जिन्होंने अपने प्रियजनों को कल की हिंसा में खोया है। इस कर्तव्य निर्वहन के लिये उनको रोकना पूर्णतया अनुचित है।’

पढ़ें :- महंगाई को लेकर केन्द्र पर जमकर बरसे सीएम गहलोत

गहलोत ने यह भी लिखा, ‘भाजपा सरकार का अमानवीय चेहरा पूरी तरह सामने आ चुका है। किसानों की मांगों को अनसुनी करना, किसान आंदोलन को तोड़ना, उन पर अत्याचार करना और फिर किसी विपक्षी दल को उनके साथ न खड़े होने देना, यह सत्ताधारी दल का लोकतंत्र विरोधी रूप है जिसकी जितनी भर्त्सना की जाए कम है।’

गहलोत ने लिखा कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री तथा पंजाब के उप मुख्यमंत्री को राज्य में आने से रोका जा रहा है जो कि निंदनीय है। ऐसा केवल एक तानाशाह सरकार ही कर सकती है।

गहलोत ने सवाल किया कि क्या यूपी में सत्तारूढ़ भाजपा लोकतंत्र को खत्म कर देना चाहती है? इस तरह नागरिक अधिकारों का हनन संविधान की भावना के भी विपरीत है।
हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...