1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. इंसानियत शर्मसार : किताब कॉपी के बहाने से छह साल की बच्ची को अगवा कर किया दुष्कर्म

इंसानियत शर्मसार : किताब कॉपी के बहाने से छह साल की बच्ची को अगवा कर किया दुष्कर्म

घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को खंगाला। एक कैमरे में आरोपी कैद हो गया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, मध्य जिले के रणजीत नगर इलाके में छह साल की बच्ची को अगवा कर दुष्कर्म का मामला सामने आया है। बच्ची लंगर लेने के लिए गुरुद्वारा जा रही थी। इसी दौरान आरोपित युवक ने किताब कॉपी देने की बात कहकर बच्ची को बहलाया और दस रुपये देकर उसे अपने साथ एक कमरे पर ले जाकर घटना को अंजाम दिया।

पढ़ें :- Delhi : स्टेडियम में IAS अधिकारी द्वारा कुत्ते को घुमाने का मामला, दिल्ली सरकार ने कहा- अब रात 10 बजे तक खुले रहेंगे सभी स्टेडियम

बच्ची खून से लथपथ हालत में किसी तरह घर पहुंची और बेटी की हालत देखकर बदहवास मां ने पति को फोन कर घटना की जानकारी दी और उसे अस्पताल में भर्ती कराया। बच्ची की हालत स्थिर है और राम मनोहर लोहिया अस्पताल के गहन चिकित्सा कक्ष में उसका इलाज चल रहा है। पुलिस ने इस बाबत मामला दर्ज कर आरोपित की पहचान कर रही है। हालांकि सीसीटीवी कैमरे में आरोपित बच्ची को ले जाते हुए दिख रहा है।

छह साल की बच्ची अपने परिजनों के साथ रणजीत नगर इलाके में रहती है। पिता माल ढोने वाला रिक्शा चलाता है, जबकि मां घरों में साफ-सफाई का काम करती है। बच्ची का एक 11 महीने की छोटी बहन है। बच्ची के पिता ने बताया कि शुक्रवार दोपहर में बच्ची गुरुद्वारा में लंगर लेने गई थी। एक बार लंगर लेकर वह घर पहुंचा चुकी थी जबकि दूसरी बार लंगर लेने जा रही थी।

इसी दौरान एक 20 से 25 साल का युवक उसे कॉपी किताब देने का लालच दिया और अपने साथ चलने के लिए कहा। युवक उसे लेकर एक कमरे में गया, जहां उसने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। युवक के वहां से भागने के बाद बच्ची किसी तरह से घर पहुंची। बच्ची खून से लथपथ थी, बच्ची की हालत देखकर उसकी मां बदहवास हो गई और फोन कर अपने पति को सारी जानकारी दी।

बच्ची का पिता तुरंत घर पहुंचा और बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया। जहां बच्ची का ऑपरेशन किया गया। बच्ची की हालत नाजुक बनी हुई है। अस्पताल से मिली जानकारी के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस आरोपित की पहचान करने में जुटी है।

पढ़ें :- Delhi : दिल्ली की सड़कें एक महीने के अंदर होंगी गड्ढा मुक्त- मनीष सिसोदिया

सीसीटीवी कैमरे के कैद हुआ आरोपित

घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को खंगाला। एक कैमरे में आरोपी कैद हो गया है। वह बच्ची को अपने साथ ले जाता दिख रहा है। पहले वह बच्ची को लेकर एक गली में घुस गया और फिर वहां से निकलने के बाद बच्ची को लेकर दूसरी गली में घुस गया। पुलिस फुटेज के जरिए उसके कमरे की पहचान करने में जुटी है जहां आरोपित बच्ची को लेकर गया है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि सीसीटीवी कैमरे में कैद आरोपित ने मास्क पहन रखा है। आरोपी के फोटो के जरिए उसकी पहचान की जा रही है।

बेटे की मौत के गम से उबरा नहीं कि टूटा दुखों का पहाड़

बेटी के साथ हुए दर्दनाक घटना से परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। रोते हुए बच्ची के पिता ने बताया कि पिछले साल दिल में छेद होने की वजह से सात साल के बेटे की मौत हो गई थी। एक एक पैसा जोड़कर बेटे का पंत अस्पताल में ऑपरेशन करवाया था लेकिन बेटे को बचा नहीं पाए।

उसकी मौत के गम से उबरे भी नहीं थे कि शुक्रवार को बेटी के साथ ऐसी घटना हो गई। मेहनत मजदूरी कर अपनी दो बेटियों का पालन पोषण करते हैं। ऐसा होता है कि कभी उनके पास पैसे नहीं होते हैं तो मजबूरी में बच्ची गुरुद्वारा जाकर लंगर लेकर आती है। लेकिन उसे नहीं पता था कि बच्ची पर किसी की नजर थी। बेटी की हालत देखा नहीं जा रहा है। वह दर्द से कराह रही है। बच्ची के पिता ने कहा कि पुलिस जल्द से जल्द आरोपित को गिरफ्तार कर और उसे फांसी की सजा देनी चाहिए।

पढ़ें :- दिल्ली में डॉक्टरों की हड़ताल से मरीज परेशान

बेटी को लेकर दर दर भटकना पड़ा

बच्ची के पिता ने कहा कि घटना की जानकारी मिलने के बाद वह तुरंत भागकर अपने घर पहुंचा और बच्ची की हालत देखकर रोने लगा। वह बच्ची को लेकर तुरंत वल्लभ भाई पटेल अस्पताल पहुंचा। वहां बच्ची का इलाज नहीं होने और राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाने के लिए कहा गया। वहां पहुंचने पर बच्ची को भर्ती नहीं किया गया और कहा गया कि बच्ची को कलावती अस्पताल ले जाओ।

वहां पहुंचने पर उसे दुबारा राममनोहर लोहिया अस्पताल ले जाने के लिए कहा गया। इस दौरान बच्ची खून से लथपथ थी। आखिरकार काफी गिड़गिड़ाने पर शाम को बच्ची को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती किया गया। शाम से बच्ची का ऑपरेशन किया गया और रात 11 बजे उसे गहन चिकित्सा कक्ष में भेज दिया गया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...