1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. दिसंबर से शुरू हो सकता है RBI की डिजिटल करेंसी का ट्रायल

दिसंबर से शुरू हो सकता है RBI की डिजिटल करेंसी का ट्रायल

हर पहलू पर संतुष्ट होने के बाद ही रिजर्व बैंक चरणबद्ध तरीके से अपनी वर्चुअल करेंसी को बाजार में लॉन्च करेगा। दुनिया के कई देशों में अपनी-अपनी सीबीडीसी को लॉन्च करने की तैयारी की जा रही है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 11 सितंबर। भारतीय रिजर्व बैंक इस साल के आखिरी तक अपनी सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) का ट्रायल शुरू कर सकता है। माना जा रहा है की वर्चुअल करेंसी मार्केट में मौजूद जोखिम को देखते हुए RBI किसी भी तरह की हड़बड़ी नहीं करना चाहता है। अपनी डिजिटल करेंसी की सुरक्षा और संचालन से जुड़ी हर बात का बारीकी के साथ परीक्षण करने और उसके नतीजों से संतुष्ट होने के बाद ही, रिजर्व बैंक चरणबद्ध तरीके से अपनी वर्चुअल करेंसी को बाजार में लॉन्च करेगा।

पढ़ें :- फरवरी में कुल 12 दिनों तक बंद रहेंगे बैंक, ये है छुट्टियों की पूरी लिस्ट

डिजिटल करेंसी पर काम जारी- RBI

भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से जारी एक बयान में बताया गया है कि फिलहाल सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (सीबीडीसी) को चरणबद्ध तरीके से लॉन्च करने की दिशा में काम किया जा रहा है। आपको बता दें कि दुनिया के कई देशों में अपनी-अपनी सीबीडीसी को लॉन्च करने की तैयारी की जा रही है। कुछ देशों में इस डिजिटल करेंसी का ट्रायल भी शुरू हो चुका है। सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) मूल रूप से किसी भी देश के कागज के नोट (करेंसी नोट) का ही डिजिटल वर्जन होता है, जिसे उस देश का केंद्रीय या नियामक बैंक (भारत में भारतीय रिजर्व बैंक) जारी करता है।

व्यवस्था  के हर पहलू की जांच

बताया जा रहा है कि वर्चुअल/डिजिटल करेंसी मार्केट में जोरदार उतार-चढ़ाव के जोखिम को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक अपनी डिजिटल करेंसी जारी करने के पहले हर व्यवस्था को हर तरह से चेक कर लेना चाहता है, ताकि इस डिजिटल करेंसी के जारी होने के बाद उपभोक्ताओं को किसी जालसाजी या ठगी का शिकार ना होना पड़े। फिलहाल, भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से नियुक्त विशेषज्ञ डिजिटल करेंसी से जुड़े हर पहलुओं का गहराई से अध्ययन कर रहे हैं। इसके साथ ही अर्थशास्त्रियों की एक टीम को इस डिजिटल करेंसी की वजह से मौद्रिक नीति और मौजूदा व्यवस्था के तहत मौजूद करेंसी नोट के लेनदेन पर पड़ने वाले असर का अध्ययन करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

पढ़ें :- Digital Payment : बिना इंटरनेट भी अब आपका पैसा होगा ट्रांसफर! Offline Digital Payment को मिली मंजूरी

भारतीय रिजर्व बैंक की साइट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक दुनियाभर में 86 फीसदी देशों के सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी की क्षमता का आकलन करवा रहे हैं। इनमें से 60 फीसदी सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी से जुड़ी प्रौद्योगिकी के परीक्षण का काम शुरू कर चुके हैं, वहीं दुनिया के 14 फीसदी देशों के सेंट्रल बैंक में डिजिटल करेंसी को लेकर पायलट प्रोजेक्ट शुरू कर दिया गया है।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...