1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. अनुसूचित जाति आयोग के समक्ष बोले वानखेड़े- मुझपर दबाव डाला जा रहा है

अनुसूचित जाति आयोग के समक्ष बोले वानखेड़े- मुझपर दबाव डाला जा रहा है

समीर वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडकर ने कहा कि उनके घर की रेकी की जा रही है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े ने रविवार को राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष अरुण हलदार के समक्ष कहा कि उन पर दबाव डाला जा रहा है। उन्हें हर दिन धमकी दी जा रही है। उन पर व्यक्तिगत आरोप लगाए जा रहे हैं। इसलिए इस मामले की गहन छानबीन कर उन्हें न्याय दिया जाए।

पढ़ें :- नवाब मलिक के अंडरवर्ल्ड से हैं संबंध, दीपावली बाद करूँगा बड़ा खुलासा - देवेंद्र फडणवीस !

वानखेड़े के दलित होने पर महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक कार्य मंत्री नवाब मलिक की ओर से सवाल खड़ा करने के बाद अनुसूचित जाति आयोग की टीम उपाध्यक्ष अरुण हलदार के नेतृत्व में मुंबई आई है। अरुण हलदार रविवार को समीर वानखेड़े के घर गए थे। इस अवसर वानखेड़े ने अरुण हलदार को बताया कि उनकी नियुक्ति राष्ट्रपति की ओर से की जाती है। उन्होंने पूरी ईमानदारी से अपने कर्तव्य का निवर्हन किया है, लेकिन इस समय कुछ लोग हर दिन सुबह पत्रकार वार्ता कर उन पर झूठा एवं बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं।

उन्हें नौकरी से निकलवाने की धमकी दी जा रही है, साथ ही उन्हें जेल भेजने की धमकी दी जा रही है। संपूर्ण खानदान को बोगस बताया जा रहा है। इस बोगस का क्या अर्थ है। वानखेड़े ने कहा कि उन्हें बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है, इसलिए इस मामले की गहन छानबीन की जानी चाहिए। वानखेड़े ने कहा कि वे दलित समाज से हैं और कभी धर्म परिवर्तन नहीं किया है।

समीर वानखेड़े की पत्नी क्रांति रेडकर ने कहा कि उनके घर की रेकी की जा रही है। उनकी सोसाइटी के लोगों ने उन्हें बताया कि तीन लोग उनके घर के बारे में पूछताछ कर रहे थे। इसलिए उन्होंने इस मामले की शिकायत स्थानीय पुलिस से की है।

उल्लेखनीय है कि समीर वानखेड़े के नेतृत्व में एनसीबी की टीम ने 2 एवं 3 अक्टूबर की दरमियानी रात को कार्डिलिया द इम्प्रेश क्रूज शिप पर छापेमारी की थी। इस दौरान फिल्म अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान और अन्य को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद अल्पसंख्यक कार्य मंत्री नवाब मलिक ने इस छापेमारी को फर्जी बताया था। मलिक ने कहा था कि समीर वानखेड़े बोगस व्यक्ति हैं। उन्होंने पहले मुस्लिम महिला से निकाह किया था, जिसे तलाक देकर दूसरा विवाह किया है। एक बार मुस्लिम बनने एवं उसके बाद फिर हिंदू बनने पर उस व्यक्ति को दलित आरक्षण नहीं मिलता है। वानखेड़े दलित आरक्षण के आधार पर नौकरी कर रहे हैं और उनकी नौकरी भी जाएगी और वह खुद जेल जाएंगे। इसके बाद वानखेड़े ने राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के समक्ष शिकायत की थी।

पढ़ें :- समीर वानखेड़े और उनके परिवार को रामदास आठवले ने दिया समर्थन

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...