1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. एक दुल्हन से शादी करने बारी बारी पहुंचे सात दुल्हें, देखें फिर किससे हुई शादी

एक दुल्हन से शादी करने बारी बारी पहुंचे सात दुल्हें, देखें फिर किससे हुई शादी

हमारे समाज से जुड़ी एक से बढ़ कर एक खबरें सामने आती रहती है। ऐसे में प्रदेश की राजधानी भोपाल से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है, जहां सात अलग-अलग दूल्हे एक ही दुल्हन से शादी करने उसके घर पहुंचे। लेकिन न तो ससुरालीजन मिले, न शादी कराने वाले और न ही दुल्हन। ये एक फर्जीवाड़े का मामला बताया जा रहा है। इसके बाद वे अपनी समस्या लेकर पुलिस के पास पहुंचे तो कोलार पुलिस ने शादी कराने वाली संस्था के प्रबंधक पर फर्जीवाड़े का केस दर्ज किया है।

By Team India Voice 
Updated Date

भोपाल। हमारे समाज से जुड़ी एक से बढ़ कर एक खबरें सामने आती रहती है। ऐसे में प्रदेश की राजधानी भोपाल से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है, जहां सात अलग-अलग दूल्हे एक ही दुल्हन से शादी करने उसके घर पहुंचे। लेकिन न तो ससुरालीजन मिले, न शादी कराने वाले और न ही दुल्हन। ये एक फर्जीवाड़े का मामला बताया जा रहा है। इसके बाद वे अपनी समस्या लेकर पुलिस के पास पहुंचे तो कोलार पुलिस ने शादी कराने वाली संस्था के प्रबंधक पर फर्जीवाड़े का केस दर्ज किया है।

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में शगुन जन कल्याण सेवा समिति नाम की संस्था लोगों की शादी करवाने के नाम पास लाखों की ठगी करते थे। इसे समिति ने सात दूल्हों को एक ही दिन यानी 25 मार्च की तारीख को शादी कराने की बात कही थी। यह संस्था गरीब लड़कियों की शादी करने के बहाने ठगी का पूरा गिरोह चलाती थी। साथ ही लड़की पक्ष को लड़के भी दिखा दिए जाते थे। इसके लिए संस्था लड़के वालों से 20 हजार रुपये भी वसूलती थी।

वहीं, जब बात शादी तक पहुंचती तो यह लड़की के परिजनों से कह देते कि लड़के ने शादी से मना कर दिया है। इसी को लेकर सात-सात अलग दूल्हे दी गयी तारीख पर बारात लेकर पहुंचे थे। लेकिन वहां कोई नहीं मिला, सबके सब गायब तो वहीं तय ससुराल में भी ताला लटका मिला। सब घंटों संस्था को, दुल्हन पक्ष के लोगों को फोन मिलाते रहे लेकिन कोई जवाब नहीं आया। ऐसे में ये पीड़ित अपनी शिकायत लेकर थाने पहुंचे।

खबर है कि सभी दूल्हों से शादी करवाने के नाम पर 20-20 हजार रुपये जमा करवाए गए थे। मामले के प्राथमिक जांच में सामने आया है कि, कुलदीप तिवारी नामक व्यक्ति और उसकी पत्नी रोशनी तिवारी शगुन जन कल्याण सेवा समिति संचालित चलाते हैं औए एक अन्य रिंकू सेन लोगों को स्वयं को संस्था का कर्मचारी बताता था। रोशनी तिवारी लड़कियों की मां बनकर फरियादियों को ठगती थी। अब इस फर्जीवाड़े को लेकर पुलिस ने संस्था के संचालकों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X