1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल का बयान- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने के हालात

महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल का बयान- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने के हालात

चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि राज्य में सत्ताधारी दल ही प्रतिपक्ष को धमकी दे रहा है, ये अपने आपमें आश्चर्य की बात है। राज्य सरकार के पास सभी तरह के अधिकार हैं। वो जो चाहे कार्रवाई कर सकती है। राज्य सरकार की ओर से की जाने वाली किसी भी कार्रवाई से बीजेपी डरने वाली नहीं है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

मुंबई, 18 नवंबर। महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने गुरुवार को बड़ा बयान देते हुए कहा कि महाविकास आघाड़ी सरकार में राज्य में महिलाओं के खिलाफ अत्याचार बढ़े हैं। कई शहरों में दंगे हो रहे हैं। कानून-व्यवस्था की हालत बद से बदतर हो गई है। उन्होंने कहा कि ये सब हालात राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए पर्याप्त हैं, लेकिन वो इस संबंध में होने वाली संभावित कार्रवाई पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे।

चंद्रकांत पाटिल ने पत्रकारों से कहा कि राज्य में सत्ताधारी दल ही प्रतिपक्ष को धमकी दे रहा है, ये अपने आपमें आश्चर्य की बात है। राज्य सरकार के पास सभी तरह के अधिकार हैं। वो जो चाहे कार्रवाई कर सकती है। राज्य सरकार की ओर से की जाने वाली किसी भी कार्रवाई से बीजेपी डरने वाली नहीं है। राज्यपाल का पद किसी भी राज्य के लिए संवैधानिक प्रमुख का होता है, लेकिन राज्य सरकार राज्यपाल के दिशा-निर्देशों का पालन नहीं कर रही है। राज्य में दंगे हो रहे हैं। महिलाओं के खिलाफ अत्याचार बढ़े हैं। कानून व्यवस्था की हालत बद से बदतर हो गई है।

पाटिल ने कहा कि राज्य में राजनीति का अपराधीकरण हो चुका है। मुख्य विपक्षी दल बीजेपी महाविकास आघाड़ी सरकार के कारनामों को जनता के सामने लाने के लिए लगातार प्रयासरत है। बीजेपी की इसी कोशिश की वजह से पूर्व गृहमंत्री और राकांपा के वरिष्ठ नेता अनिल देशमुख जेल में हैं। उन्होंने दावा किया कि आगामी दिनों में राज्य सरकार के कई और मंत्री जेल जा सकते हैं।

गौरतलब है कि गुरुवार को शिवसेना और राकांपा के प्रवक्ता ने बीजेपी पर साजिश के तहत केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया था। इन दोनों दलों की ओर से कहा गया था कि बीजेपी की ओर से की जा रही कार्रवाई का बदला जरूर लिया जाएगा। इसका जवाब देते हुए चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसियां अपने अधिकार के तहत काम कर रही हैं। महाविकास आघाड़ी सरकार अपने अधिकार क्षेत्र के हिसाब से जो करना चाहे कर सकती है, लेकिन उसे धमकी नहीं देना चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X