1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. आयुष मंत्रालय का बयान: गिलोय का इस्तेमाल पूरी तरह सुरक्षित

आयुष मंत्रालय का बयान: गिलोय का इस्तेमाल पूरी तरह सुरक्षित

अध्ययन के मुताबिक गुडुची (टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया) इस्तेमाल करने के लिहाज से सुरक्षित है, लेकिन कुछ समान दिखने वाले पौधे जैसे टिनोस्पोरा क्रिस्पा हानिकारक हो सकते हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 5 अक्टूबर। आयुष मंत्रालय के मुताबिक गिलोय का इस्तेमाल पूरी तरह से सुरक्षित है। आयुष मंत्रालय ने हाल ही में सोशल मीडिया और कुछ वैज्ञानिक पत्रिकाओं में प्रकाशित लेखों और पोस्ट में गुडुची (टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया) के उपयोग को लेकर सुरक्षा संबंधी चिंताओं पर ध्यान दिलाया गया है।

पढ़ें :- News Bulletin : रहना चाहते हैं 'अप टू डेट' तो कम शब्दों में पढ़ें सुबह की 5 बड़ी ख़बरें

अध्ययन के मुताबिक गुडुची (टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया) इस्तेमाल करने के लिहाज से सुरक्षित है, लेकिन कुछ समान दिखने वाले पौधे जैसे टिनोस्पोरा क्रिस्पा हानिकारक हो सकते हैं। गुडुची एक लोकप्रिय जड़ी बूटी है, जिसे गिलोय के नाम से जाना जाता है और आयुष प्रणालियों में लंबे समय से चिकित्सा के लिए इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

गुडुची (टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया) की सुरक्षा और प्रभावकारिता को प्रमाणित करने के लिए पीयर रिव्यू वाली अनुक्रमित पत्रिकाओं में अच्छी संख्या में अध्ययन प्रकाशित हुए हैं। इसके हेपाटो-सुरक्षात्मक गुण भी अच्छी तरह से स्थापित हैं। गुडुची अपने विशाल चिकित्सीय अनुप्रयोगों के लिए जाना जाता है और इसके इस्तेमाल को कई लागू प्रावधानों के मुताबिक विनियमित किया जाता है।

ये देखा गया है कि टिनोस्पोरा की कई प्रजातियां मौजूद हैं और केवल टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया का उपयोग चिकित्सा विज्ञान में किया जाना चाहिए, जबकि समान दिखने वाली प्रजातियां जैसे टिनोस्पोरा क्रिस्पा से प्रतिकूल असर पड़ सकता है।

पढ़ें :- Jharkhand : अवैध कार्यों पर अधिकारी लगाएं लगाम, नहीं तो होगी कठोर कार्रवाई- डीजीपी
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...