1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Stock Market: उतार-चढ़ाव वाले हफ्ते में तेजी से फिसला शेयर बाजार, सेंसेक्स में टॉप लेवल से 1694 अंक तक की गिरावट

Stock Market: उतार-चढ़ाव वाले हफ्ते में तेजी से फिसला शेयर बाजार, सेंसेक्स में टॉप लेवल से 1694 अंक तक की गिरावट

मिडकैप और स्मॉलकैप के शेयरों में हुई जोरदार बिकवाली के कारण शुक्रवार को खत्म हुए कारोबारी सप्ताह के दौरान बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का मिडकैप इंडेक्स 4 फीसदी लुढ़क गया, वहीं स्मॉल कैप इंडेक्स भी 5 फीसदी गिरकर बंद हुआ।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर। शुक्रवार को खत्म हुआ कारोबारी सप्ताह भारतीय शेयर बाजार के लिए जोरदार उतार-चढ़ाव वाला साबित हुआ। जहां इस सप्ताह BSE का सेंसेक्स पहली बार 62 हजार अंक का स्तर पार करने में सफल हुआ। तो वहीं कारोबारी सप्ताह का अंत होते-होते ये सूचकांक लुढ़क कर 60 हजार अंक के दायरे में पहुंच गया। यानी इस सप्ताह के शुरुआत में शेयर बाजार ने रिकॉर्ड तोड़ तेजी दिखाई, लेकिन सप्ताह खत्म होते होते बुरी तरह लुढ़क कर नीचे भी आ गिरा।

पढ़ें :- Moody's Cuts Economic Growth : मूडीज ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 8.8 फीसदी किया

सेंसेक्स पहली बार 62,245.43 अंक पर पहुंचा

इस सप्ताह सेंसेक्स 62,245.43 अंक के सर्वोच्च स्तर तक पहुंचा। सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को सेंसेक्स अपने सर्वोच्च स्तर से 1,694.28 अंक लुढ़क कर 60,551.15 अंक के स्तर तक पहुंच गया। हालांकि साप्ताहिक आधार पर देखा जाए सेंसेक्स 0.79 फीसदी फिसल कर 484.33 अंक की गिरावट के साथ 60,821.62 अंक के स्तर पर बंद हुआ। इसी तरह NSE का निफ्टी भी साप्ताहिक आधार पर 223.65 अंक की गिरावट के साथ 18,114.9 अंक के स्तर पर बंद हुआ।

इस पूरे कारोबारी हफ्ते के दौरान स्मॉल कैप और मिड कैप के शेयरों में जोरदार उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रही। सप्ताह के शुरुआती दो दिनों में जहां मिडकैप और स्मॉलकैप के शेयरों ने तेज रफ्तार का नजारा दिखाया, वहीं बाद के 3 दिनों में मिडकैप और स्मॉलकैप के शेयर में बिकवाली का जोरदार दबाव बन गया। जिसके कारण पूरे शेयर बाजार का सेंटीमेंट नेगेटिव हो गया। इस वजह से सेंसेक्स और निफ्टी दोनों सूचकांक टॉप लेवल से लुढ़क कर काफी नीचे आ गए। मिडकैप और स्मॉलकैप के शेयरों में हुई जोरदार बिकवाली के कारण शुक्रवार को खत्म हुए कारोबारी सप्ताह के दौरान बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का मिडकैप इंडेक्स 4 फीसदी लुढ़क गया, वहीं स्मॉल कैप इंडेक्स भी 5 फीसदी गिरकर बंद हुआ।

पिछले कारोबारी सप्ताह के दौरान स्मॉल कैप के शेयरों के परफॉर्मेंस पर काफी ज्यादा असर पड़ा। इस दौरान स्मॉल कैप इंडेक्स के 110 शेयर ऐसे रहे, जिनमें साप्ताहिक आधार पर 10 से लेकर 25 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई। ऐसे शेयरों में बलरामपुर चीनी मिल, एंटोनी वेस्ट हैंडलिंग सेल, एमईपी इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपर्स, NLC इंडिया, आरईआई इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस, एंजल ब्रोकिंग और डीसीएम श्रीराम के नाम प्रमुखता के साथ लिए जा सकते हैं।

पढ़ें :- Market Buzzes : अक्षय तृतीया पर बाजार गुलजार, 15 हजार करोड़ रुपये का हुआ कारोबार- कैट

दूसरी ओर स्मॉल कैप के 21 शेयर ऐसे भी रहे, जिन्होंने मंदी के माहौल के बावजूद साप्ताहिक आधार पर 10 से लेकर 40 फीसदी तक की तेजी का प्रदर्शन किया। तेजी दिखाने वाले स्माल कैप के शेयरों में रेल विकास निगम, ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, आईआरबी इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपर्स, जिंदल वर्ल्डवाइड और विश्वराज शुगर इंडस्ट्रीज के नाम शामिल हैं।

जानकारों का कहना है कि पिछले कारोबारी सप्ताह में भारतीय शेयर बाजार ने शानदार मजबूती के साथ कारोबार की शुरुआत की थी, लेकिन ओवर वैल्यूएशन के कारण शेयर बाजार इस तेजी को संभाल नहीं सका। धामी सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट प्रशांत धामी का मानना है कि शुक्रवार को खत्म हुए सप्ताह के दौरान शेयर बाजार में हुई जोरदार बिकवाली के लिए नेगेटिव सेंटीमेंट को जिम्मेदार नहीं माना जाना चाहिए। बाजार में आई गिरावट की मूल वजह ओवरवैल्यूड मार्केट में हुआ एसेंशियल करेक्शन है। धामी के मुताबिक सोमवार से शुरू होने वाले अगले कारोबारी सप्ताह में भी करेक्शन का ये दौर जारी रह सकता है, क्योंकि पिछले कारोबारी सप्ताह के दौरान भी सबसे ज्यादा बिकवाली उन शेयरों में ही हुई, जिनका वैल्यूएशन वास्तविक मूल्य की तुलना में काफी अधिक हो गया था।

जानकारों के मुताबिक पहली तिमाही के शानदार नतीजों के विपरीत दूसरी तिमाही के उम्मीद से कमजोर नतीजे भी शेयर बाजार के सेंटीमेंट पर प्रतिकूल असर डाल रहे हैं। ऐसे में अगले सप्ताह भी शेयर बाजार पूरी मजबूती के साथ अपने पैर जमाने के लिए संघर्ष करता हुआ नजर आ सकता है। अगले कारोबारी सप्ताह में कई बड़े बैंकों के तिमाही नतीजे भी आने वाले हैं। इन नतीजों का असर बैंकों के शेयर मूल्य पर तो पड़ेगा ही, साथ ही सेंसेक्स और निफ्टी की चाल भी इन नतीजों से प्रभावित होगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...