1. हिन्दी समाचार
  2. विधानसभा चुनाव 2022
  3. बदला-बदला नजर आ रहा यूपी का राजनीतिक माहौल, इस पार्टी को मिलती दिख रही है बढ़त

बदला-बदला नजर आ रहा यूपी का राजनीतिक माहौल, इस पार्टी को मिलती दिख रही है बढ़त

-राजनीतिक समीक्षकों का कहना है कि पिछली बार से भी बढ़ सकती हैं भाजपा की सीटें।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

UP Assembly Election 2022 : उत्तर प्रदेश में बसपा के गिरते ग्राफ की संभावनाओं के बीच भाजपा और सपा की निगाहें बसपा के वोट बैंक को अपनी ओर खिंचने पर लग गयी हैं। इस बीच गुणा-गणित में भाजपा के दिग्गजों के बढ़े जमावड़े से भाजपा को बढ़त दिख रही है।

पढ़ें :- यूपी में 11 बजे तक 21.39 प्रतिशत मतदान, इन जगहों पर हुआ मतदान का बहिष्कार

एक सप्ताह से तेजी से बदले माहौल ने भी प्रमुख विपक्षी सपा को पीछे धकेल दिया है। राजनीतिक समीक्षकों की मानें तो यही स्थिति रहने पर पिछले विधानसभा चुनाव से भी भाजपा की ज्यादा सीटें आ जाएं तो कोई आश्चर्य नहीं है।

इत्र व्यापारी के यहां हुई रेड से बदला मंजर 

राजनीतिक समीक्षकों का कहना है कि पहले तो सपा के बढ़ते ग्राफ को देखकर ऐसा लग रहा था की वह भाजपा को कड़ी टक्कर देगी। वह सरकार बना भी सकने की स्थिति में आ सकती थी, लेकिन पिछले एक सप्ताह से भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व की ताबड़तोड़ रैलियों और इत्र व्यापारी के यहां करोड़ों की मिली संपत्ति ने लोगों के मनोभाव को बदल दिया है।

इसके आलावा कुछ राजनीतिक विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि इत्र कारोबारी के यहां पड़े छापे के बाद लोगों में सपा की पुरानी तस्वीर उभरकर सामने आ गयी है। इस कारण लोगों का मनोभाव बदल रहा है। तेजी से आये इस बदलाव में अब भाजपा की एक-तरफा जीत दिखने लगी है।

पढ़ें :- UP में 10 मार्च के बाद महिलाओं को सरकारी बसों में मुफ्त यात्रा : CM योगी

अन्य पार्टियों की अपेक्षा भाजपा का पलड़ा भारी

पर इसके इतर कुछ लोगों का मानना है कि, भाजपा के कार्यकाल में यूं तो बदलाव काफी हुआ है, पर इसके बावजूद भी भाजपा के लिए आगामी विधान सभा चुनाव में जीत की राह बहुत आसान नहीं है। राजनीति में कुछ भी स्पष्ट रूप से नहीं कहा जा सकता।

हालांकि यह सही है कि, आगामी विधान सभा चुनाव में यह पहले से ही दिख रहा है कि भाजपा का पलड़ा अन्य पार्टियों की अपेक्षा भारी है, लेकिन इस बीच हुए बदलाव ने लोगों के मनोभाव को और बदल दिया है। माहौल बदलने और किसी पार्टी की स्पष्ट जीत दिखने पर पांच प्रतिशत लोग स्वयं ही जीतने वाली पार्टी की ओर उन्मुख हो जाते हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...