1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. 19 नवम्बर से बजेंगे विवाह के ढोल, शुभ हैं ये 12 लग्न

19 नवम्बर से बजेंगे विवाह के ढोल, शुभ हैं ये 12 लग्न

इस साल नवम्बर और दिसम्बर में 12 शुभ लग्नें हैं। लेकिन बहुत आवश्यक होने पर इन जाड़े में अन्य तारीखों में भी लग्नें है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

विवाह के ढोल बजने का समय आ गया है। कुंवारे और कुंवारियों की विवाह की प्रतिक्षा की घड़ी भी अब समाप्त हुई। शहरों की सड़कों पर अब बैंड-बाजों की धुन पर ‘आज मेरे यार की शादी है.’ गाने पर बाराती नाचते हुए नजर आने लगेंगे। पंचाग के अनुसार देवोत्थानी एकादशी से विवाह लग्ने शुरू हो जाती है। इस साल नवम्बर और दिसम्बर में 12 शुभ लग्नें हैं। लेकिन बहुत आवश्यक होने पर जाड़े में अन्य तारीखों में भी लग्नें है।

कोरोना के कारण इस साल गर्मी की विवाह लग्नें तो यूं ही चली गई। जहां बहुत जरूरी था, वहीं शादियां हो पाई थी। बहुत से माता-पिता ने शादियों को जाड़े की लग्नों के लिए टाल दिया था, तब कई कुंवारें और कुंवारियां जो विवाह की दहलीज पर खड़े थे, मन मसोस कर रहे गए थे। खैर इस समय मौसम भी अच्छा हो गया है। कोरोना पूरी तरह से गया तो नहीं है, हां हल्का पड़ गया है। अब विवाह के लिए उचित मौका है। इस बार दिसम्बर तक विवाह लग्नें भी बहुत है।

पंचागों के अनुसार आषाढ़ मास की शुक्ल पक्ष की देवशयनी एकादशी से लेकर कार्तिक मास की देवोत्थानी एकादशी तक इस चार मास में विवाह नहीं होते हैं। पं. अनिल कुमार पाण्डेय बताते हैं कि इस चार मास की अवधि को चौमासा कहा जाता है। चौमासें में हिन्दुओं में विवाह नहीं होते हैं। उन्होंने बताया कि पिछले साल भी जाड़े में गुरू और शुक्र के लंबे समय तक अस्त होने के कारण भी शादियां कम ही हो पाई थीं। गुरू और शुक्र के अस्त होने पर भी विवाह नहीं होते हैं। कारण इन दोनों ग्रहों का विवाह के समय उदय होना आवश्यक है।

अध्यात्म एवं ज्योतिष शोध संस्थान के निदेशक पं.सत्य प्रकाश द्विवेदी ने बताया कि देवोत्थानी एकादशी से विवाह लग्ने आंरभ हो जाती हैं। इस बार विवाह में किसी भी प्रकार की कोई बाधा भी नहीं है। उन्होंने बताया कि विवाह के कारक गुरू और शुक्र दोनों ग्रह उदय है। विवाह बहुत शुभ लग्न में हो सकते हैं। उन्होंने बताया कि इस समय चल रहे नवम्बर माह में 19, 20, 21, 28, 29 व 30 तारीखामें बहुत शुभ लग्ने हैं। लेकिन बहुत जरूरी हो तो 15, 16, 22, 26 व 27 नवम्बर की तारीखों में विवाह कराया जा सकता है। लेकिन इन तारीखों में लग्न की शुद्धि अनिवार्य बताई गई है।

पं. द्विवेदी ने दिसम्बर में 1, 6, 7, 11, 12 व 13 तारीखों में शुभ विवाह लग्नें है। लेकिन दिसम्बर की 2, 3, 4 व 5 तारीखों में भी लग्न शुद्धि कराकर विवाह हो सकता है। उन्होंने बताया कि 13 दिसम्बर के बाद खरमास शुरू हो जाएगा। खरमास में शादियां करना वर्जित बताया है। इसके बाद अगले साल मकर संक्राति के बाद ही पुनः विवाह लग्नें आरंभ होंगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X