1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. अनूपपुर: शिव मंदिर पर सोन नदी के जल से विशेष पूजा से दूर होता है कालसर्प चक्र का दोष

अनूपपुर: शिव मंदिर पर सोन नदी के जल से विशेष पूजा से दूर होता है कालसर्प चक्र का दोष

सोन-केवई नदी तट पर शिव जी की मंदिर प्रांगण विगत 100 वर्षों से आस्था का केंद्र बना हुआ है। मान्यता है कि यहां सोन नदी के जल से विशेष पूजा करने पर काल सर्प का दोष दूर होता है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

अनूपपुर, 22 अगस्त। जिले के जैतहरी जनपद क्षेत्र के ग्राम पंचायत चोलना अंतर्गत प्राकृतिक धरोहर के बीच सोन-केवई नदी तट पर शिव जी की मंदिर प्रांगण विगत 100 वर्षों से आस्था का केंद्र बना हुआ है। करीब दो दर्जन से ज्यादा गांव के आसपास लोग यहां सावन व मकर संक्रांति के दिनों में पूजा- पाठ करने बड़ी संख्या में आते हैं। मान्यता है कि यहां सोन नदी के जल से विशेष पूजा करने पर काल सर्प का दोष दूर होता है।

पढ़ें :- MP में सड़क हादसा, हाईवे पर काम कर रहे 4 मजदूरों की तेज रफ्तार कार की चपेट में आने से मौत

ग्रामीणों ने बताया कि कभी-कभी मंदिर प्रांगण पर अद्भुत दृश्य देखने व सुनने को मिलता है। कभी प्रसाद चढ़ा हुआ होता है तो कभी घंटी व चमीटे की आवाज सुनाई पड़ती है। ग्राम के पूर्व सरपंच अमोल सिंह पाटिल ने बताया कि पूर्वज बताते हैं कि 100 साल पहले से यहां पर शिवजी की प्रतिमा स्थापित है। शिव मंदिर के कुछ दूर पर ही सोन और केवई नदी का संगम है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि संगम होने के कारण यहां पर पिंड दान अस्थि विसर्जन भी किया जाता है। मकर संक्रांति के दिन इस तट पर भव्य मेला का आयोजन भी होता है। प्राकृतिक धरोहर के बीच यहां दूर-दूर से लोग परिवार सहित पिकनिक बनाने के लिए भी पहुंचते हैं।

ग्रमीणों ने बताया कि जब किसी व्यक्ति की कुंडली में सभी ग्रह राहु और केतु के बीच में आ जाते हैं तो ज्योतिष शास्त्र इस योग को काल सर्प दोष का नाम दिया जाता है। ज्योतिष शास्त्र में इस योग को शुभ फल देने वाला नहीं माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि जिस व्यक्ति की कुंडली में यह दोष लग जाता है उसे सफलता बहुत देरी से मिलती है। परन्तु सोन नदी तट पर स्थित शिव मंदिर पर सोन नदी के जल से विशेष पूजा करने पर जल्द ही कालसर्प चक्र का दोष दूर हो जाता है।

हिन्दुस्थान समाचार

पढ़ें :- मोबाइल चोरी के शक में मध्य प्रदेश में मासूम को कुएं में लटकाया- देखें वायरल वीडियो

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...