1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड : पहाड़ से लेकर मैदान तक आफत की बारिश, जन जीवन हुआ अस्त व्यस्त !

उत्तराखंड : पहाड़ से लेकर मैदान तक आफत की बारिश, जन जीवन हुआ अस्त व्यस्त !

ऊंची चोटियों पर बर्फबारी, कई मार्ग बाधित.

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

उत्तराखंड, 18 अक्टूबर । उत्तराखंड में पहाड़ से लेकर मैदान तक सोमवार को लगातार दूसरे दिन आफत की बारिश रुक-रुक जारी है। मौसम विभाग ने बारिश-तूफान को लेकर अगले 48 घंटे के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। केदारनाथ, बद्रीनाथ सहित ऊंची चोटियों पर बर्फबारी और बारिश से तापमान में गिरावट दर्ज की गई है।

पढ़ें :- Uttarakhand News:चमोली में 700 मीटर गहरी खाई में गिरी बोलेरो,एक दर्जन के आस-पास लोगों की मौत

बारिश से जगह-जगह भूस्खलन और मार्ग पर पत्थरों के आने से कई राष्ट्रीय राजमार्ग पर आवागमन बाधित हो गए हैं। विभाग की ओर से सड़कों को खोलने का कार्य जारी है। मुख्यमंत्री स्वयं बारिश और आपदा की स्थिति को देखते हुए जिलाधिकारियों को लगातार निर्देश दे रहे हैं।

आपदा प्रबंधन विभाग ने भी जारी किया हाईअलर्ट 

सोमवार सुबह से ही राजधानी देहरादून सहित प्रदेश भर में बारिश हो रही है। रविवार सुबह से जारी बारिश रुकने का नाम नहीं ले रही है। आकाश काले और घनघोर बादलों से पूरी तरह से घिरा हुआ है। दो दिन से सूर्यदेव के दर्शन नहीं हो पाए हैं। कई स्थानों पर भारी बारिश, आकाशीय बिजली गिरने के साथ ही कुछ स्थानों पर 60 से 80 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से झक्कड़ आने की चेतावनी दी गई है। एहतियातन राज्य में बारिश और आपदा की स्थिति को देखते हुए आज प्रदेश भर के सभी स्कूलों को बंद रखा गया है। मौसम विभाग के भारी रेड अलर्ट को देखते हुए आपदा प्रबंधन विभाग ने हाईअलर्ट जारी किया है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी चार धाम यात्रा पर पहुंचे यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर रोकने के लिए जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं। साथ ही उनके ठहरने और भोजन का प्रबंध भी करने को कहा है। मुख्यमंत्री ने मौसम के अलर्ट के दिनों में राज्य में यात्रियों को आने से परहेज करने की अपील की है और मौसम सामान्य होने पर सभी यात्रियों के राज्य में आने के लिए स्वागत किया है।

पढ़ें :- Uttarakhand: उत्तराखंड के जोशीमठ में दर्दनाक हादसे, गहरी खाई में गाड़ी गिरने से 12 लोगों की मौत

मलबा आने से मार्ग बाधित

इन दिनों केदारनाथ, बद्रीनाथ और यमुनोत्री धाम में ऊंची चोटियों पर बर्फबारी हो रही हैं। वहीं पिथौरागढ़ के धारचूला, मुनस्यारी क्षेत्रों में हिमपात से अचानक ठंडक बढ़ गई है। बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग, गंगोत्री और यमुनोत्री हाईवे पर कई जगह मलबा आने से मार्ग बाधित है। कलियासौड़ और सिरोबगड़ में बंद हो गया है। जिसकी वजह से वाहनों को पौड़ी चुंगी और श्रीकोट में रोका जा रहा है। वहीं इसके आलावा टनकपुर और पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग में आठ जगहों पर मलबा आ जाने के कारण से बंद कर दिया गया है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार अगले 24 घंटे में पर्वतीय जिलों के कुछ स्थानों पर भारी बारिश को रेड अलर्ट जारी किया गया है। उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर, पिथौरागढ़ में 3500 मीटर और ऊंचाई वाले इलाकों में हल्की बर्फबारी की भी संभावना है। इसके साथ ही कुछ स्थानों पर तेज हवाओं के साथ झक्कड़ आ सकते हैं।

ऊंचाई वाले इलाकों में हो सकती है हल्की बर्फबारी

राज्य के सभी जिलों में हल्की से मध्यम बारिश बारिश का दौर जारी रहेगा। कुमाऊं के कई इलाकों और गढ़वाल में कहीं कहीं हल्की से मध्यम बारिश और गर्जना के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर, पिथौरागढ़ में 3500 मीटर और ऊंचाई वाले इलाकों में हल्की बर्फबारी हो सकती है। पिथौरागढ़, चमोली और बागेश्वर के कुछ स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है। 20 अक्टूबर को राज्य के सभी जिलों में मौसम शुष्क रहने की संभावना है।

पढ़ें :- Uttarakhand news:हल्द्वानी में पांडे परिवार के घर में रहस्यमय तरीके से 7 दिन में 11 बार लगी आग, 'प्रेत आत्मा' की हो रही चर्चा

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता और दक्षिण पूर्वी क्षेत्रों से आ रही ठंडी हवाओं ने उत्तराखंड में मौसम का मिजाज बिगाड़ दिया है। राज्य में एहतियात के तौर पर अलर्ट किया गया है। उन्होंने बताया कि पर्वतीय इलाकों में 35 सौ मीटर से अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में जहां बर्फबारी की संभावना है। साथ ही आकाशीय बिजली गिरने, ओलावृष्टि के साथ ही 60 से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने के भी आसार हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...