1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. जिन्हें अब तक कोविड नहीं हुआ, पूजा के दौरान उन्हें अधिक सतर्क रहने की जरुरत

जिन्हें अब तक कोविड नहीं हुआ, पूजा के दौरान उन्हें अधिक सतर्क रहने की जरुरत

कोरोना की दूसरी लहर होली के बाद ही आई थी और अपना प्रकोप दिखा गई थी। ऐसा इसलिए भी हुआ था क्योंकि होली के दौरान देश भर के विभिन्न प्रदेशों से लोग आए थे। जिससे संक्रमण फैला था। ऐसे में दीपावली में भी लोगों को सतर्कता बरतने के लिए डॉक्टर नसीहत दे रहे हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची- कोरोना की दूसरी लहर होली के बाद ही आई थी और अपना प्रकोप दिखा गई थी। ऐसा इसलिए भी हुआ था क्योंकि होली के दौरान देश भर के विभिन्न प्रदेशों से लोग आए थे। जिससे संक्रमण फैला था। दुर्गा पूजा के दौरान भी लोग केरल, महाराष्ट्र, नॉर्थ इस्ट जैसे प्रदेशों से झारखंड आ रहे हैं। इसको देखते हुए डॉ देवेश ने कहा कि लोगों के आने जाने से कोरोना आने की संभावना को नकारा नहीं जा सकता है। उन्होंने कहा ऐसे में वैसे लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरुरत है, जो अब तक एक बार भी कोरोना संक्रमित नहीं हुए हैं और कोरोना का टीका नहीं लिए हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि लोग दोबारा भी संक्रमित हो सकते हैं। इसलिए सतर्कता ही बचाव है। पूजा के दौरान लोगों को भीड़ भाड़ से बचकर रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि लोग दूसरे दूसरे प्रदेशों से आ रहे हैं, मिलकर पूजा के दौरान घूमेंगे ही, ऐसे में म्यूटेशन कब हो जाएगा कोई नहीं जानता। डॉ देवेश ने कहा कि पूजा से लेकर छठ तक लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। वहीं डॉ देवेश ने लोगों से अतिआत्मविश्वासी नहीं होने की सलाह दी है क्योंकि कोरोना कब कितना खतरनाक हो जाएगा कोई नहीं जानता। हलांकि उन्होंने जरूर कहा कि डरने की जरुरत नहीं है सतर्कता जरूरी है।

जहां भीड़ वहां कोविड

रिम्स क्रिटिकल केयर के इंचार्ज डॉ प्रदीप भट्टाचार्य ने कहा कि जहां भीड़ होगी वहां कोविड की संभावना अधिक हो जाएगी। उन्होंने बताया कि कोरोना माइक्रो ड्रॉपलेट के जरिए फैलता है, माइक्रो ड्रॉपलेट से भीड़ में आने वाले लोगों को संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि भीड़ बढ़ने से कोरोना के संक्रमितों की संख्या में फिर से बढ़ोतरी होने की संभावना बढ़ जाएगी। उन्होंने कहा कि जिस शहर में लोगों का आना जाना ज्यादा रहेगा वहां कोरोना होने की संभावना अधिक रहेगी। ऐसे में कोरोना की संभावना को नकारा नहीं जा सकता। लोगों को अधिक सतर्क रहने की जरुरत है और भीड़ भाड़ से दूर रहने की जरुरत है।

पैनल ऑफ टेस्टिंग की जरुरत

डॉ पीके भट्टाचार्य ने बताया कि अब पैनल ऑफ टेस्टिंग पर ध्यान देने की जरुरत है। सिर्फ एक टेस्ट पर फोकस नही करना चाहिए। पैनल ऑफ टेस्टिंग से एक बार जांच में इंफ्लूएंजा, एचवन एनवन, हेपेटाइटिस ए, हेपेटाइटिस बी, कोविड, सहित कई तरह के जांच आ जाते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना से बचने के लिए सबसे अधिक जरूरी मास्क और वेक्सीनेशन है। जिन्होंने दोनों डोज नहीं ली है उन्हें बचकर रहने की जरुरत है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X