1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. इस लेखक को मराठी के राजनीतिक उपन्यास का जनक कहा जाता है, पढ़ें इनके बारे में

इस लेखक को मराठी के राजनीतिक उपन्यास का जनक कहा जाता है, पढ़ें इनके बारे में

देश के स्वाधीनता आंदोलन और संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन में इस लेखक ही प्रमुख भागीदारी याद की जाती है। संस्कृत काव्यशास्त्र के ज्ञाता और अभिजात रसवादी होने के बावजूद उन्होंने आधुनिकता से कभी परहेज नहींं किया।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

गजानन त्र्यंबक माडखोलकरः पत्रकारिता हो अथवा साहित्यिक रचना-संसार, यह नाम मराठी जगत में बहुश्रुत और बहुचर्चित है। फिर देश के स्वाधीनता आंदोलन और संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन में उनकी प्रमुख भागीदारी इतिहास-विज्ञ है। तत्कालीन बंबई (अब मुंबई) में 28 दिसंबर, 1900 को पैदा हुए गजानन त्र्यंबक माडखोलकर को इस अर्थ में विशेष रूप से याद करना चाहिए कि संस्कृत काव्यशास्त्र के ज्ञाता और अभिजात रसवादी होने के बावजूद उन्हें आधुनिकता से भी परहेज नहीं रहा। क्या गजब कि स्त्री-पुरुष सम्बंधों की स्पष्ट व्याख्या वाली उनकी रचनाओं को भी प्रसिद्ध आलोचकों ने अश्लीलता से परे माना है।

पढ़ें :- सरदार पटेल के आग्रह पर पंजाब के पहले मुख्यमंत्री बनने वाले डॉ. गोपीचंद भार्गव का आज ही के दिन हुआ था जन्म

रवि किरण मंडल नामक कवि समाज से प्रभावित इस रचनाकार ने पहले कविताएं सृजित कीं। हालांकि फिर वे आलोचना और कथा संसार की ओर अभिमुख हुए और मराठी में राजनीतिक उपन्यास के तो वे जनक ही माने जाते हैं। उनकी शैली और काव्यमयी भाषा पाठकों को बांधे रहती है। यही कारण है कि मराठी के अलावा हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं में भी उनके पाठकों की संख्या अपार है। ‘मुक्तात्मा’, ‘शाप’, ‘भंग लेते देउल’, ‘दुहेरी जीवन’, ‘प्रभदूरा’, ‘डाक बंगला’, ‘चंदनबाड़ी’ आदि उपन्यास अधिक चर्चा में रहे। ‘दुहेरी जीवन’ को तो विदेशी सत्ता ने 1942 में जप्त कर लिया था। ‘विष्णुकृष्ण चिपलूषकर’ और ‘वाङ्मय विलास’ की चर्चा प्रमुख समलोचनात्मक ग्रंथों में होती है। उनके कहानी संग्रहों में शुक्राचे चांदणी बहुप्रसिद्ध है। उनके रचना संचार में से चुने हुए ये कुछ उदाहरण ही हैं। ऐसे रचनाकार माडखोलकर जी 27 नवंबर,1976 को हमारे बीच नहीं रहे।

अन्य प्रमुख घटनाएंः

1612 – गैलीलियो ने नेप्च्यून ग्रह को देखा। फिर उसे स्थिर तारा बताया।

1836 – स्पेन ने मेक्सिको की स्वतंत्रता को मान्यता दी।

पढ़ें :- Valentine's Day के अलावा भी क्यों जानना चाहिए 14 फ़रवरी के बारे में, जानिये कई वजहें

1885- इंडियन नेशनल कांग्रेस की स्थापना।

1895- सिनेमा के इतिहास में पहली बार किसी कहानी को फिल्म का रूप दिया गया। इसे फ्रांस के लूमीर बंधुओं ने बनाई।

1903- हंगरी के गणितज्ञ और वैज्ञानिक जॉन फॉन न्यूमन का जन्म।

1922- अमेरिकन कॉमिक्स निर्माता (मार्बल कॉमिक्स) स्टेन ली का जन्म।

1926 – इंपिरियल एयरवेज ने भारत और इंग्लैंड के बीच यात्री और डाक सेवा शुरू की।

पढ़ें :- आज ही के दिन हुआ था आज़ादी के क्रांतिकारी और 80 किताबों के लेखक मन्मथनाथ गुप्त का जन्म

1928- पहली बार बोलती फिल्म मेलोडी ऑफ लव प्रदर्शित हुई।

1952- भारतीय राजनेता अरुण जेटली का जन्म।

1957- सोवियत संघ का परमाणु परीक्षण।

1966 चीन का लोप नोर में परमाणु परीक्षण।

1972- लेखक, राजनीतिज्ञ और दार्शनिक चक्रवर्ती राजगोपालाचारी का निधन।

1974- पाकिस्तान में 6.3 तीव्रता के भूकंप में 5200 लोग मारे गए।

पढ़ें :- आज ही के दिन दुर्घटनाग्रस्त हुआ था अंतरिक्ष से धरती पर आ रहा कल्पना चावला का स्पेस शिप

1976- अमेरिका का नेवादा में परमाणु परीक्षण।

1983- दिग्गज बल्लेबाज सुनील गावस्कर का वेस्टइंडीज के खिलाफ मद्रास टेस्ट में 30 वां शतक। इसके साथ ही महान बल्लेबाज सर डॉन ब्रैडमेन का रिकॉर्ड तोड़ा।

2016- दो बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा का निधन।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...