1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. “गाता रहे मेरा दिल” के गीतकार शैलेंद्र ने खड़ा किया था 800 गीतों का समृद्ध संसार

“गाता रहे मेरा दिल” के गीतकार शैलेंद्र ने खड़ा किया था 800 गीतों का समृद्ध संसार

आज के इतिहास में जानें किस तरह 800 गीतों को बनाने वाले शैलेंद्र (शंकरदास केसरीलाल) ने महज 43 की उम्र में दुनिया को कहा था अलविदा।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

दुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समाईः जिस ‘तीसरी कसम’ को कल्ट फिल्म करार देते हुए मशहूर फिल्म निर्देशक ख्वाजा अहमद अब्बास ने इसे ‘सेल्युलाइड पर लिखी कविता’ बताया था, वही जब रिलीज हुई तो बुरी तरह फ्लॉप हो गयी थी। फिल्म को बनाने वाले मशहूर गीतकार शैलेंद्र अपनी जिंदगी भर की पूंजी गंवा कर इस कदर बेजार हुए कि इस सदमे से कभी उबर ही न सके। महज 43 साल की छोटी-सी उम्र में शैलेंद्र ने दुनिया को अलविदा कह दिया। 14 दिसंबर 1966 को उनका निधन हो गया।

पढ़ें :- सरदार पटेल के आग्रह पर पंजाब के पहले मुख्यमंत्री बनने वाले डॉ. गोपीचंद भार्गव का आज ही के दिन हुआ था जन्म

अजब संयोग कि 14 दिसंबर ही उनके जिगरी दोस्त राजकपूर का जन्मदिन था। आसान लफ्जों में जिंदगी के रंगों को कागज पर उतारने में माहिर राजकपूर की फिल्मों के लिए शैलेंद्र ने ‘आवारा हूं’ ‘मेरा जूता है जापानी’ सहित दर्जनों लोकप्रिय गाने लिखे।

शंकरदास केसरीलाल उर्फ शैलेंद्र का जन्म 30 अगस्त 1923 को रावलपिंडी (अब पाकिस्तान) में हुआ। उनके पिता ने रिटायरमेंट के बाद मथुरा में बसने का फैसला किया।

 

शैलेंद्र ने की थी रेलवे में नौकरी

यहीं से शैलेंद्र रेलवे की नौकरी करते हुए पहले झांसी और बाद में मुंबई पहुंचे थे। वैसे, इस परिवार की जड़ें बिहार के भोजपुर से थीं। शैलेंद्र ने हिंदी के साथ-साथ भोजपुरी में भी गाने लिखे।

पढ़ें :- Valentine's Day के अलावा भी क्यों जानना चाहिए 14 फ़रवरी के बारे में, जानिये कई वजहें

अपनी छोटी-सी जिंदगी में शैलेंद्र तकरीबन 800 गीतों का समृद्ध संसार छोड़ गए। उनके लिखे ज्यादातर गीत आज भी अपनी पूरी रंगत के साथ श्रोताओं पर असर छोड़ते हैं। मसलन फिल्म ‘गाइड’ के गाने- ‘आज फिर जीने की तमन्ना है’ ‘गाता रहे मेरा दिल’ या फिल्म ‘तीसरी कसम’ के ‘चलत मुसाफिर मोह लियो रे’ या ‘छोटी-सी है दुनिया पहचाने रास्ते हैं’ जैसे जादुई गीत। शैलेंद्र के गीतों को कभी भुलाया न जा सकेगा।

अन्य अहम घटनाएंः

1910ः साहित्यकार उपेंद्रनाथ अश्क का जन्म।

1918ः सुप्रसिद्ध योगगुरु बीकेएस आयंगर का जन्म।

1924ः दिग्गज फिल्म अभिनेता और निर्देशक राजकपूर का जन्म।

पढ़ें :- आज ही के दिन हुआ था आज़ादी के क्रांतिकारी और 80 किताबों के लेखक मन्मथनाथ गुप्त का जन्म

1931ः शायर जौन एलिया का जन्म।

1934ः ख्यातिलब्ध फिल्म निर्देशक श्याम बेनेगल का जन्म।

1936ः प्रसिद्ध फिल्म अभिनेता विश्वजीत का जन्म।

1946ः राजनेता व पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के छोटे पुत्र संजय गांधी का जन्म।

1953ः भारत के पूर्व टेनिस खिलाड़ी विजय अमृतराज का जन्म।

1971ःपरमवीर चक्र से सम्मानित फ्लाइंग ऑफिसर निर्मलजीत सिंह सेखों का निधन।

पढ़ें :- आज ही के दिन दुर्घटनाग्रस्त हुआ था अंतरिक्ष से धरती पर आ रहा कल्पना चावला का स्पेस शिप

2018ः हिंदी सिनेमा को कई हॉरर फिल्में देने वाले मशहूर निर्माता-निर्देशक तुलसी रामसे का निधन।

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...