1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. आज ही के दिन हुआ था जलियांवाला बाग हत्याकांड का बदला लेने वाले उधम सिंह का जन्म

आज ही के दिन हुआ था जलियांवाला बाग हत्याकांड का बदला लेने वाले उधम सिंह का जन्म

अपने मकसद को पूरा करने के लिए उन्होंने अफ्रीका, नैरोबी, ब्राजील और अमेरिका की यात्रा की।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

21 साल बाद सीने में 6 गोलियां उतार कर लिया बदलाः भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महान सेनानी और क्रांतिकारी शहीद उधम सिंह का जन्म 26 दिसंबर 1889 को पंजाब के संगरूर जिले के सुनाम गांव में हुआ था। उधम सिंह ऐसे सपूत थे, जिन्होंने 21 साल बाद जलियांवाला बाग के बर्बरतम नरसंहार का बदला लिया। उन्होंने इस नरसंहार के समय पंजाब के गवर्नर रहे माइकल ओ ड्वायर को लंदन में एक सार्वजनिक सभास्थल पर छह गोलियां मार कर मौत के घाट उतार दिया।

पढ़ें :- सरदार पटेल के आग्रह पर पंजाब के पहले मुख्यमंत्री बनने वाले डॉ. गोपीचंद भार्गव का आज ही के दिन हुआ था जन्म

दरअसल, 1919 में रॉलेट एक्ट के तहत कांग्रेस के सत्यपाल और सैफुद्दीन किचलू को अंग्रेजों ने गिरफ्तार कर लिया, जिसके खिलाफ अमृतसर के पार्क में हजारों की संख्या में लोग शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन और सभा कर रहे थे। इसी दौरान जनरल डायर अपनी फौज के साथ वहां पहुंचा और निहत्थी भीड़ पर गोलियां बरसाकर इस क्रूरतम घटना को अंजाम दिया था, जिसे जलियांवाला बाग हत्याकांड का नाम दिया गया। जलियांवाला बाग नरसंहार के साक्षी रहे उधम सिंह ने इसका बदला लेने की शपथ ली।

अपने मकसद को पूरा करने के लिए उन्होंने अफ्रीका, नैरोबी, ब्राजील और अमेरिका की यात्रा की। 1934 में वे लंदन पहुंचे और वहां 9, एल्डर स्ट्रीट कमर्शियल रोड पर रहने लगे। उन्होंने एक कार और छह गोलियों वाली रिवॉल्वर खरीदी। छह साल बाद 1940 में उन्हें मौका मिल गया। 13 मार्च 1940 को रॉयल सेंट्रल एशियन सोसायटी की लंदन के काक्सटन हॉल में बैठक थी, जिसमें जलियांवाला बाग नरसंहार के समय पंजाब का गवर्नर रहा माइकल ओ ड्वायर भी वक्ता के तौर पर शामिल था।

उधम सिंह अपनी रिवॉल्वर समेत पूरी तैयारी से वहां पहुंचे और मौका मिलते ही माइकल ओ ड्वायर के सीने पर पूरी पिस्तौल खाली कर दी। जिससे तत्काल उसकी मौत हो गयी। अपना बदला पूरा करने के बाद उधम सिंह ने वहां से भागने की बजाय स्वयं गिरफ्तारी दी। उनपर मुकदमा चला और 4 जून 1940 को उन्हें दोषी करार देते हुए फांसी की सजा सुनाई गई। 31 जुलाई 1940 को उन्हें पेंटनविले जेल में फांसी दी गयी।

अन्य अहम घटनाएंः

पढ़ें :- Valentine's Day के अलावा भी क्यों जानना चाहिए 14 फ़रवरी के बारे में, जानिये कई वजहें

1925ः भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना।

1948ः सुप्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता प्रकाश आम्टे का जन्म।

1976ः हिंदी के यशस्वी कथाकार और निबंधकार यशपाल का निधन।

1978ः पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को जेल से रिहा किया गया, उन्हें मोरारजी देसाई की सरकार ने 19 दिसंबर को गिरफ्तार किया था।

1986ः भारत की महिला क्रांतिकारी बीना दास का निधन।

पढ़ें :- आज ही के दिन हुआ था आज़ादी के क्रांतिकारी और 80 किताबों के लेखक मन्मथनाथ गुप्त का जन्म

1989ः शंकर के नाम से प्रख्यात भारतीय कार्टूनिस्ट के. शंकर पिल्लई का निधन।

1997ः नवीन पटनायक ने बीजू जनता दल (बीजद) की स्थापना की।

1999ः भारत के नौवें राष्ट्रपति डॉ. शंकर दयाल शर्मा का निधन।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...