1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Uttar Pradesh: कोरवा ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में बनेगी AK-203 राइफल, केंद्र ने दी मंजूरी

Uttar Pradesh: कोरवा ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में बनेगी AK-203 राइफल, केंद्र ने दी मंजूरी

भारतीय सेना को करीब 7 लाख 70 हजार इन राइफलों की जरूरत है, जिनमें से 1 लाख राइफल्स का रूस से आयात किया जाएगा और बाकी 5 लाख से अधिक का निर्माण 'मेक इन इंडिया' के तहत भारत में किया जाएगा।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 04 दिसंबर। लंबे इंतजार के बाद केंद्र सरकार ने भारत में AK-203 राइफलों का निर्माण करने को मंजूरी दे दी। रूस के सहयोग से उत्तर प्रदेश के अमेठी में कोरवा ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में 5 लाख से अधिक इन असॉल्ट राइफलों का उत्पादन किया जाएगा। आखिरकार एक दशक बाद भारतीय सेना की स्वदेशी आधुनिक असॉल्ट राइफल की तलाश AK-203 के रूप में पूरी होने वाली है जो इंसास राइफल की जगह लेगी। इसकी डिजाइन इस तरह से की गई है कि इसके इस्तेमाल से सैनिकों की युद्ध क्षमता और बढ़ जाएगी। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की 6 दिसंबर को होने वाली भारत यात्रा से पहले मंजूरी देने के कई राजनीतिक मायने भी निकाले जा रहे हैं।

पढ़ें :- Uttar Pradesh : बसपा में मायावती का उत्तराधिकारी कोई दलित ही होगा- सतीश चंद्र मिश्रा

5 लाख से अधिक राइफलों का निर्माण ‘Make in India’ के तहत होगा

भारतीय सेना को करीब 7 लाख 70 हजार इन राइफलों की जरूरत है, जिनमें से 1 लाख राइफल्स का रूस से आयात किया जाएगा और बाकी 5 लाख से अधिक का निर्माण ‘Make in India’ के तहत भारत में किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3 मार्च, 2019 को इस योजना का औपचारिक उद्घाटन उत्तर प्रदेश के अमेठी स्थित कोरवा ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में कर चुके हैं। इसके बाद रूस के सहयोग से बनाई जाने वाली AK-203 की कीमत को लेकर सरकार से पेंच फंसने के कारण 2 साल तक ये परियोजना वार्ताओं के दौर में उलझ गई थी। ‘मेक इन इंडिया’ परियोजना में देरी होने की वजह से भारतीय सेना को अमेरिका से 72 हजार सिग सॉयर राइफलें खरीदी और इसके बाद 72 हजार राइफल्स के लिए एक और ऑर्डर देना पड़ा।

AK-203 राइफल के लिए सौदे को अंतिम रूप

भारत और रूस के बीच जनवरी 2019 में हुए अनुबंध के समय एक आयातित राइफल की कीमत करीब 1100 अमेरिकी डॉलर होने की उम्मीद थी, लेकिन बातचीत आगे बढ़ने पर भारत में बनने वाली 6 लाख 50 हजार रायफलों की रॉयल्टी को लेकर रूस से मतभेद हो गए। इन मुद्दों को हल करने के लिए जून, 2020 में रक्षा मंत्रालय ने एक समिति का गठन किया। इसकी रिपोर्ट और सिफारिशें हालांकि सार्वजनिक नहीं हुईं, लेकिन करीब एक साल तक कीमतों का मुद्दा लटका रहा। सितंबर, 2020 में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जब शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के रक्षा मंत्रियों की बैठक के लिए मास्को गए तो AK-203 राइफल के लिए सौदे को अंतिम रूप दिया गया, लेकिन कीमतों को लेकर पेंच फंसा रहा। अब कीमत को लेकर फंसा पेंच 2 साल की लंबी बातचीत के बाद सुलझ गया है।

पढ़ें :- Uttar Pradesh : BJP के IT हेड के खिलाफ FIR दर्ज कराएगी सपा- अखिलेश यादव

इस परियोजना को इंडो-रशियन जॉइंट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से जाना जाएगा। ये राइफल एडवांस वेपंस एंड इक्विपमेंट इंडिया लिमिटेड, मियूनीशेंन्स इंडिया लिमिटेड और रूस की रोसोबोरोन एक्सपोर्ट और कॉनकॉर्न कालाशनिकोव मिलकर बना रही है। इस परियोजना में देरी होने के मुख्य कारणों में से एक मोलभाव था। आखिरकार परियोजना को अंतिम मंजूरी देने का फैसला 6 दिसंबर को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की भारत यात्रा से पहले लिया गया है। 7.62 X 39 MM कैलिबर की पहली 70 हजार AK-203 राइफल्स में रूसी कलपुर्जे लगे होंगे, लेकिन इसके बाद पूरी तरह से ये राइफल स्वदेशी हो जाएगी। ये राइफल्स काउंटर इंसर्जेंसी और काउंटर टेररिज्म ऑपरेशंस में भारतीय सेना की परिचालन प्रभावशीलता को बढ़ाएंगी।

AK-203 राइफलों की खासियत

स्वदेश निर्मित इन राइफलों की लंबाई करीब 3.25 फुट है। गोलियों से भरी राइफल का वजन करीब 4 किलोग्राम होगा। ये नाइट ऑपरेशन में भी काफी कारगर होगी। क्योंकि ये एक सेकंड में 10 राउंड फायर यानी एक मिनट में 600 गोलियां दुश्मन के सीने में उतार सकती है। जरूरत पड़ने पर इससे 700 राउंड भी फायर किए जा सकते हैं। दुनिया को सबसे खतरनाक गन देने वाली शख्सियत का नाम मिखाइल कलाशनिकोव है। इन्हीं के नाम पर AK-47 का नाम पड़ा। AK का फुलफॉर्म होता है ऑटोमैटिक कलाशनिकोव। AK-203 असॉल्ट रायफल 300 मीटर की रेंज में आने वाले दुश्मन को ये छलनी कर देती है। AK-203 असॉल्ट रायफल की गोली की गति 715 किलोमीटर प्रति घंटा होती है। नई असॉल्ट राइफल में AK-47 की तरह ऑटोमेटिक और सेमी ऑटोमेटिक दोनों सिस्टम होंगे। एक बार ट्रिगर दबाकर रखने से गोलियां चलती रहेंगी।

ये ख़बर भी पढ़ें:

Tripura: TSR जवान ने की दो अफसरों की हत्या, घटना पर मुख्यमंत्री ने जताया दुख

पढ़ें :- UP Election 2022 : योगी आदित्यनाथ को मथुरा से उम्मीदवार बनाए जाने की मांग

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...