1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Uttar Pradesh Election : PM मोदी का बलरामपुर दौरा बेहद है ख़ास, जानें किन परियोजनाओं की देंगे सौगात

Uttar Pradesh Election : PM मोदी का बलरामपुर दौरा बेहद है ख़ास, जानें किन परियोजनाओं की देंगे सौगात

PM मोदी इस दौरान बलराम पुर में Saryu Canal National Project का करेंगे लोकार्पण।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

 

पढ़ें :- Hyderabad : दुनिया को लीड कर सकते हैं भारतीय युवा, पीएम मोदी ने कहा- आज दुनिया महसूस कर रही है 'India Means Business'

बलरामपुर में सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना’ का करेंगे लोकार्पण 

PM Narendra Modi : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 11 दिसम्बर को उत्तर प्रदेश के बलरामपुर का दौरा करेंगे और दोपहर करीब 1 बजे ‘सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना’ (Saryu Canal National Project) का लोकार्पण करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने शुक्रवार को बताया कि परियोजना पर काम 1978 में शुरू हुआ लेकिन बजटीय समर्थन की निरंतरता, अंतरविभागीय समन्वय और पर्याप्त निगरानी के अभाव में इसमें देरी हुई और लगभग 4 दशकों के बाद भी पूरा नहीं हुआ।

किसान कल्याण और सशक्तिकरण के लिए प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण और राष्ट्रीय महत्व की लंबे समय से लंबित परियोजनाओं को प्राथमिकता देने की उनकी प्रतिबद्धता ने परियोजना पर बहुत आवश्यक ध्यान केंद्रित किया। नतीजतन 2016 में, इस परियोजना को समयबद्ध तरीके से पूरा करने के लक्ष्य के साथ प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत लाया गया था।

 

4 वर्षों में पूरी हुई परियोजना का निर्माण 9800 करोड़ रुपये में हुआ 

बता दें कि इस प्रयास में नई नहरों के निर्माण और परियोजना में महत्वपूर्ण अंतराल को भरने के लिए साथ ही पिछले भूमि अधिग्रहण से संबंधित लंबित मुकदमे को हल करने के लिए नई भूमि अधिग्रहण के लिए अभिनव समाधान पाए गए। परियोजना पर नए सिरे से ध्यान केंद्रित करने के परिणामस्वरूप परियोजना केवल चार वर्षों में पूरी हो गई है।

पढ़ें :- Madhya Pradesh : भारत में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप्स ईकोसिस्टम- प्रधानमंत्री मोदी

सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना का निर्माण कुल 9800 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से किया गया है, जिसमें से पिछले चार वर्षों में 4600 करोड़ रुपये से अधिक का प्रावधान किया गया था। इस परियोजना में क्षेत्र के जल संसाधनों का इष्टतम उपयोग सुनिश्चित करने के लिए पांच नदियों – घाघरा, सरयू, राप्ती, बाणगंगा और रोहिणी को आपस में जोड़ना भी शामिल है।

 

परियोजना से 6200 से अधिक गांवों के किसानों को होगा लाभ 

यह परियोजना 14 लाख हेक्टेयर से अधिक भूमि की सिंचाई के लिए सुनिश्चित पानी उपलब्ध कराएगी और 6200 से अधिक गांवों के लगभग 29 लाख किसानों को लाभान्वित करेगी। इससे पूर्वी उत्तर प्रदेश के नौ जिले बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, गोंडा, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संत कबीर नगर, गोरखपुर और महाराजगंज लाभान्वित होंगे। क्षेत्र के किसान, जो परियोजना में अत्यधिक देरी से सबसे ज्यादा पीड़ित थे, अब उन्नत सिंचाई क्षमता से अत्यधिक लाभान्वित होंगे। वे अब बड़े पैमाने पर फसल उगाने और क्षेत्र की कृषि क्षमता को अधिकतम करने में सक्षम होंगे।

 

और पढ़ें – प्रियंका गांधी ने लॉन्च किया थीम सॉंग, लिखा मैं लड़की हूँ लड़ सकती हूँ, मैं कुछ भी कर सकती हूँ

पढ़ें :- JITO Connect 2022 : भारत की तरफ भरोसे से देख रही है दुनिया- प्रधानमंत्री मोदी

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...