1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. गुजरात में बरामद ड्रग्स कहां से आई, इसकी जांच की जाए- शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत

गुजरात में बरामद ड्रग्स कहां से आई, इसकी जांच की जाए- शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत

संजय राऊत ने कहा- अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक को सीएम उद्धव ठाकरे का पूरा समर्थन हासिल है और वो महाविकास आघाड़ी को बदनाम करने वालों को माकूल जवाब देते रहेंगे।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

मुंबई, 11 नवंबर। शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत ने कहा कि गुजरात में ड्रग्स कहां से आ रही है, इसकी गहन जांच जरूरी है। संजय राऊत ने कहा कि ये मुद्दा देश की सुरक्षा से जुड़ा है, इसकी अनदेखी नहीं की जानी चाहिए। इसी तरह अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का पूर्ण समर्थन हासिल है और वो महाविकास आघाड़ी को बदनाम करने वालों को माकूल जवाब देते रहेंगे। संजय राऊत ने कहा विपक्ष ST कर्मचारियों को गुमराह कर रहा है। राज्य सरकार ST कर्मचारियों के संबंध में सकारात्मक है।

गुजरात में 350 किलोग्राम ड्रग्स पकड़ी गई

संजय राऊत ने गुरुवार को पत्रकारों को बताया कि पड़ोसी राज्य गुजरात में 350 किलोग्राम ड्रग्स पकड़ी गई। वो कहां से आई, इसका पता लगाया जाना जरूरी है। संजय राऊत ने कहा कि मुंबई में 1-2 ग्राम ड्रग्स पकड़ बड़े पैमाने पर पब्लिसिटी हो रही है, लेकिन अब लगता लगा है कि ड्रग्स पाकिस्तान से गुजरात पहुंच रहा है और वहां से देश में सर्कुलेट हो रहा है। इसलिए इसकी जांच जरूरी है।

महाराष्ट्र सरकार का मंत्री नवाब मलिक को पूरा समर्थन

संजय राऊत ने कहा कि इस समय महाराष्ट्र में कीचड़ उछालने की राजनीति चरम पर है। यो लड़ाई कहां से शुरू हुई, ये सभी जानते हैं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे सहित महाराष्ट्र सरकार ने मंत्री नवाब मलिक को पूरा समर्थन दिया है। ये सब महाराष्ट्र में महाविकास आघाड़ी सरकार को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है, लेकिन इससे महाराष्ट्र की बदनामी हो रही है।

संजय राऊत ने कहा कि महाराष्ट्र में विपक्ष ST कामगारों को उकसाकर उनसे आंदोलन करवा रहा है। जबकि राज्य में उनकी सरकार थी, तो तत्कालीन वित्तमंत्री ने साफ कहा था कि ST महामंडल को राज्य सरकार में शामिल नहीं किया जा सकता है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने ST कर्मचारियों की मांग मंजूर कर ली है और उनकी मांग ST महामंडल को राज्य सरकार में विलीन करने के लिए समिति गठित की गई है। इसलिए ST कर्मचारियों को विपक्ष की राजनीति का मोहरा ना बनते हुए आंदोलन स्थगित कर काम पर लौटना चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
India Voice Ads
X