History News in Hindi

“कुछ सुखों की इच्छा ही मेरे दुखों का कारण है” जानें उस लेखक के बारे में जिसे पूरी दुनिया में मिली अभूतपूर्व शौहरत

“कुछ सुखों की इच्छा ही मेरे दुखों का कारण है” जानें उस लेखक के बारे में जिसे पूरी दुनिया में मिली अभूतपूर्व शौहरत

इच्छा आधा जीवन और उदासीनता आधी मौतः वह लेखक जो अपनी सूक्तियों के लिए दुनिया भर में जाना गया। हम बात कर रहे हैं खलील जिब्रान की जिनकी सूक्तियां पूरी दुनिया में विचारों के रूप में सुगंध बिखेर रही है- उत्कंठा ज्ञान की शुरुआत है। लेबनानी-अमेरिकी कवि, लेखक और आर्टिस्ट

सेवानिवृत्त होने के बाद न्यूटन ने खोजा था गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत

सेवानिवृत्त होने के बाद न्यूटन ने खोजा था गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत

गुरुत्वाकर्षण और पेड़ से सेव गिरने की घटनाः गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत और गति के नियम प्रतिपादित करने वाले इंग्लैंड के महान भौतिकी विज्ञानी, गणितज्ञ और दार्शनिक सर आइजक न्यूटन का जन्म 4 जनवरी 1643 में हुआ था। गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत को प्रतिपादित करने के संदर्भ में न्यूटन के सामने पेड़

जानें क्या था मिर्ज़ा ग़ालिब का असल नाम

जानें क्या था मिर्ज़ा ग़ालिब का असल नाम

कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयां औरः उर्दू और फारसी के सर्वकालिक मक़बूल शायर मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्म 27 दिसंबर 1796 को आगरा में हुआ। उनका असल नाम मिर्ज़ा असदुल्लाह बेग ख़ान था, जिन्हें फ़ारसी शायरी की लयबद्धता और उसकी गति को हिंदुस्तानी जबान में लोगों तक पहुंचाने का

ग्वालियर में आज ही के दिन हुआ था पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म

ग्वालियर में आज ही के दिन हुआ था पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म

देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को ग्वालियर में हुआ। तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी एनडीए के पहले प्रधानमंत्री बने। पहली बार उन्होंने गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री के रूप में अपना कार्यकाल पूरा किया। साल 1996 में अटल जी पहली बार

फिल्मी दुनिया में किस संगीतकार को कहा जाता है शहंशाह-ए-तरन्नुम, पद्मश्री से हैं सम्मानित

फिल्मी दुनिया में किस संगीतकार को कहा जाता है शहंशाह-ए-तरन्नुम, पद्मश्री से हैं सम्मानित

…ये दुनिया, ये महफिल मेरे काम की नहीं : हिंदी सिनेमा के श्रेष्ठ गायकों में शुमार और अपने चाहने वालों के बीच शहंशाह-ए-तरन्नुम का मान पाने वाले मोहम्मद रफी का जन्म 24 दिसंबर 1924 को अमृतसर के करीब कोटला सुल्तान सिंह में हुआ था। कशिश भरी आवाज के साथ सादगी भरा

खौफनाक अग्निकांड : महज 7 मिनट चली गई थी 442 लोगों की जान

खौफनाक अग्निकांड : महज 7 मिनट चली गई थी 442 लोगों की जान

रुह कंपा देने वाले वे 7 मिनटः 23 दिसम्बर 1995 को हरियाणा के डबवाली (1995 Dabwali fire accident) के एक स्कूल में हुए अग्निकांड ने पूरे देश को सन्न कर दिया था। इस भयावह घटना को कभी भूला नहीं जा सकता, हालांकि कोई इसे याद नहीं करना चाहता। इस खौफनाक

जानें कब मतदाता की उम्र 21 से घटाकर हुई थी 18?

जानें कब मतदाता की उम्र 21 से घटाकर हुई थी 18?

मतदान की आयु घटकर 18 सालः भारतीय मतदान प्रक्रिया में सुधारवादी कदम के लिहाज से 21 दिसम्बर महत्वपूर्ण तिथि है। साल 1988 में आज के दिन ही संसद ने 62वें संविधान संशोधन के जरिये मतदान की उम्र 21 वर्ष से घटाकर 18 साल करने संबंधी विधेयक को मंजूरी दी। जनता

चंद्रमोहन जैन कैसे बने ओशो, अमेरिका में 65 हजार एकड़ में बनाया आश्रम

चंद्रमोहन जैन कैसे बने ओशो, अमेरिका में 65 हजार एकड़ में बनाया आश्रम

ओशो का जन्मः आलोचना और विवादों से जीवनपर्यंत घिरे रहने के बावजूद धार्मिक व वैचारिक रूढ़िवादिता के कटु आलोचक एवं तर्कवादी, आचार्य रजनीश का जन्म 11 दिसंबर 1931 को मध्य प्रदेश के कुचवाड़ा में हुआ। शुरू में उनका नाम चंद्रमोहन जैन था, जिनका बचपन से ही दर्शन की तरफ झुकाव

अपनी जिंदगी के आखिरी समय में अल्फ्रेड नोबेल को क्यों था पश्चाताप ? पढ़े आगे

अपनी जिंदगी के आखिरी समय में अल्फ्रेड नोबेल को क्यों था पश्चाताप ? पढ़े आगे

तबाही का सामान, शांति का संदेशः मानवता और शांति के लिए उल्लेखनीय कार्य करने वाली शख्सियतों को नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) से सम्मानित किया जाता है। दशकों से दुनिया भर में इस पुरस्कार की साख और उसका सम्मान रहा है। यह आश्चर्य की बात है कि जिस व्यक्ति के नाम

क्या आपको मालूम है संविधान सभा की पहली बैठक की अध्यक्षता किसने की थी?

क्या आपको मालूम है संविधान सभा की पहली बैठक की अध्यक्षता किसने की थी?

स्वर्णिम सफर की शुरुआतः 9 दिसंबर 1946 को संविधान सभा की पहली बैठक हुई। संविधान सभागृह (आज संसद भवन सेंट्रल हॉल) में आयोजित बैठक की अध्यक्षता सच्चिदानंद सिन्हा ने की। सभा को संबोधित करने वाले प्रथम वक्ता थे- जेबी कृपलानी। अलग राष्ट्र की मांग करते हुए मुस्लिम लीग ने इस

भारतीय नौसेना में शामिल हुई पहली पनडुब्बी

भारतीय नौसेना में शामिल हुई पहली पनडुब्बी

नई दिल्ली : आज का दिन देश की नौसेना के लिए काफी महत्वपूर्ण है। वर्ष 1967 में आज ही के दिन भारतीय नौसेना की ताकत को बढ़ाने के लिए पहली पनडुब्बी को नौसेना में शामिल किया गया था। इस पनडुब्बी का नाम कलवरी रखा गया था। इस पनडुब्बी को हिंद महासागर

तीन दिसंबर की सुबह भोपाल के छोला रोड इलाके में परसा था मौत का मंजर

तीन दिसंबर की सुबह भोपाल के छोला रोड इलाके में परसा था मौत का मंजर

हर तरफ था मौत का मंजरः स्थान- भोपाल, साल- 1984, तारीख- 02/03 दिसंबर। कयामत की रात की दास्तां, उस मनहूस सुबह के चेहरे पर हमेशा के लिए चस्पा हो गयी। आधी रात को भोपाल स्थित यूनियन कार्बाइड नामक कंपनी के कारखाने से जहरीली गैस मिथाइल आइसो साइनाइड के रिसाव ने

आज के दिन हुई थी जामिया मिलिया इस्लामिया की स्थापना

आज के दिन हुई थी जामिया मिलिया इस्लामिया की स्थापना

जामिया मिलिया इस्लामिया की स्थापनाः देश के प्रमुख शिक्षा केंद्रों में एक, जामिया मिलिया इस्लामिया 29 अक्टूबर 1920 को6 स्थापित हुआ। इसे केंद्रीय विश्वविद्यालय का स्तर हासिल है। इसके संस्थापकों में महमूद हसन देवबंदी, मोहम्मद अली जौहर, हाकीम अजमल खान, मुख्तार अहमद अंसारी, अब्दुल मजीद ख्वाजा और जाकिर हुसैन शामिल

व्यंग्य को नई रंगत देने वाले श्रीलाल शुक्ल ने आज के दिन दुनिया को कहा था अलविदा

व्यंग्य को नई रंगत देने वाले श्रीलाल शुक्ल ने आज के दिन दुनिया को कहा था अलविदा

राग दरबारी का रचयिताः कालजयी व्यंग्य उपन्यास ‘राग दरबारी’ के रचयिता श्रीलाल शुक्ल का 28 अक्टूबर 2011 में निधन हो गया। व्यंग्य लेखन से हिंदी साहित्य को नयी रंगत देने वाले श्रीलाल शुक्ल ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित थे। बेबाक बयानी के लिए मशहूर श्रीलाल शुक्ल उद्देश्यपूर्ण व्यंग्य लेखन के लिए

किसने की थी सिलाई मशीन की खोज, आपको जानना जरूरी

किसने की थी सिलाई मशीन की खोज, आपको जानना जरूरी

एक नयी संभावना का जन्मः सिलाई मशीन की खोज कर आइजैक मेरिट सिंगर ने सिले हुए परिधान के क्षेत्र में जैसे क्रांति ला दी। वर्ष 1811 में अमेरिका में पैदा हुए आइजैक सिंगर को सिलाई मशीन की खोज का श्रेय दिया जाता है। साल 1839 में वे सिलाई मशीन बनाने