1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. बाइडन ने अमेरिकियों से यूक्रेन छोड़ने का किया आह्वान, युद्ध की आशंका

बाइडन ने अमेरिकियों से यूक्रेन छोड़ने का किया आह्वान, युद्ध की आशंका

जो बाइडेन ने मीडिया से बातचीत में कहा कि अमेरिकी नागरिकों को वहां से तुरंत निकलना चाहिए।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

वाशिंगटन, 12 फरवरी : रूस-यूक्रेन विवाद के बीच राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अमेरिकी नागरिकों को यूक्रेन छोड़ने के लिए कहा है। जो बाइडेन ने मीडिया से बातचीत में कहा कि अमेरिकी नागरिकों को वहां से तुरंत निकलना चाहिए। हम दुनिया की सबसे बड़ी सेनाओं में से एक के साथ उलझ रहे हैं। यह बिल्कुल अलग तरह की स्थिति है, जो बहुत जल्द नियंत्रण से बाहर जा सकती है।

पढ़ें :- यूक्रेन के पास पोलैंड में रूसी हवाई हमले में दो की मौत; बाइडेन ने बुलाई आपातकालीन बैठक

ब्लिंकन ने कहा, कभी भी शुरू हो सकता है युद्ध

मेलबर्न में अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने एशिया प्रशांत के सहयोगी देशों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक में कहा कि हम एक ऐसे दौर में हैं, जहां हमला किसी भी वक्त शुरू हो सकता है और स्पष्ट कर दूं कि यह बीजिंग ओलिंपिक के दौरान भी हो सकता है। ब्लिंकन ने इस बात को सिरे से नकार दिया कि रूसी नेता बीजिंग ओलिंपिक के 20 फरवरी को खत्म होने का इंतजार करेंगे ताकि अपने सहयोगी चीन को नाराज ना करें।

करीब 1,30,000 सैनिकों का सीमा पर लगा है जमावड़ा

ब्लिंकेन ने कहा कि हम रूसी प्रसार के बहुत चिंता में डालने वाले संकेत देख रहे हैं। हालात पर नजर रखे लोगों का कहना है कि रूस ने जिस तरह से यूक्रेन की सीमा पर सेनाएं जुटाई हैं वो दूसरे विश्वयुद्ध के खात्मे पर बर्लिन में दाखिल हुई सोवियत सेना के बाद सबसे बड़ा शक्ति प्रदर्शन है। अमेरिका की तरफ से किए गए कुछ आकलनों में कहा जा रहा है कि दर्जनों युद्धक ब्रिगेड समेत करीब 1,30,000 सैनिकों का सीमा पर जमावड़ा लगा है। गुरुवार को रूस के टैंकों ने बेलारुस में लाइव फायर अभ्यास किया।

पढ़ें :- Japan : क्वॉड शिखर सम्मेलन में नेताओं ने कहा- वैश्विक शांति के लिए भारत-अमेरिका की दोस्ती अहम

यूक्रेन ने शुरू किया अपना युद्धाभ्यास

उधर, यूक्रेन का कहना है कि इतनी बड़ी संख्या में जंगी जहाजों की तैनाती “अभूतपूर्व” है। इसने यूक्रेन को दोनों सागरों से अलग कर दिया है। यूक्रेन ने अपना युद्धाभ्यास भी शुरू कर दिया है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि इससे तनाव या डर घटने के आसार बहुत कम ही हैं।
जर्मनी, रूस, यूक्रेन और फ्रांस के प्रतिनिधियों के बीच “मुश्किल बातचीत” गुरुवार को टूट गई और कोई नतीजा नहीं निकल सका। यूक्रेन ने शुक्रवार को कहा कि वह रूस समर्थित अलगाववादी नेताओं से बातचीत के लिए बनाए जा रहे रूसी दबाव के आगे नहीं झुकेगा।

हिन्दुस्थान समाचार

 

पढ़ें :- Russia Ukraine War : यूक्रेन के सूमी में खोला गया ग्रीन कॉरिडोर, 700 छात्रों का पहला जत्था सुरक्षित निकला
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...