1. हिन्दी समाचार
  2. बिहार
  3. बिहार के 38 में से 37 जिले कोरोना के प्रभाव में, JDU का दफ्तर भी हुआ सील

बिहार के 38 में से 37 जिले कोरोना के प्रभाव में, JDU का दफ्तर भी हुआ सील

पटना स्थित जदयू कार्यालय में गार्ड समेत पांच लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इसके बाद दफ्तर को सील कर दिया गया।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

बिहार : प्रदेश में कोरोना की रफ्तार तेज हो गयी है। राज्य के 37 जिलों में कोरोना ने दस्तक दे दी है। उधर, मंगलवार दोपहर तक अरवल में एक भी एक्टिव केस नहीं मिला था। इस बीच राजधानी पटना हाट स्पॉट बना हुआ है। मंगलवार दोपहर को पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में 522 नए लोग कोरोना संक्रमित मिले।

पढ़ें :- बिहार के औरंगाबाद में छह सहेलियों ने एक साथ निगला जहर, तीन की मौत

पटना स्थित जदयू कार्यालय में गार्ड समेत पांच लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इसके बाद दफ्तर को सील कर दिया गया। इधर, इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के प्राचार्य भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। वे पहली और दूसरी लहर में भी संक्रमित हुए थे। कोरोना के बढ़ते असर को देखते हुए हाईकोर्ट में मंगलवार से वर्चुअल सुनवाई शुरू की गई है।

सोमवार को बिहार में नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनएमसीएच) के 72 डॉक्टर और मेडिकल छात्र समेत 344 पॉजिटिव केस मिले थे। पूर्व सीएम जीतनराम मांझी के बॉडीगार्ड, पीए समेत पूरा परिवार संक्रमित हो गया है। सोमवार को सीएम नीतीश कुमार के जनता दरबार में भी जांच में 14 लोग पॉजिटिव पाए गए। छह संक्रमित फरियादी तो मुख्यमंत्री से भी मिल चुके थे। राज्य में एक्टिव मरीजों की संख्या एक हजार,385 हो गई है। अब प्रदेश में कुल संक्रमितों का आंकड़ा सात लाख,27 हजार,873 पहुंच गया है। हालांकि इनमें से सात लाख, 14 हजार,391 लोगों ने कोरोना को मात दे दी है। वैसे कोरोना से प्रदेश में, 12 हजार ,096 लोगों की मौत हो चुकी है।

बीते दिन 30 जिलों में मिले नए केस

सोमवार को सर्वाधिक 160 नए संक्रमित पटना जिले में पाये गये हैं। कुल मिलाकर, बिहार में संक्रमण की रफ्तार से रिकवरी रेट में कमी आई है। रिकवरी रेट 98.15 प्रतिशत हो गया है, जो 30 नवंबर को 98.66 प्रतिशत था। पटना शहर में पॉजिटिव आने वाले 90 फीसदी लोगों में लक्षण नहीं मिलें हैं। करीब 10 फीसदी लोगों में सामान्य सर्दी, खांसी- बुखार के लक्षण हैं। अभी अस्पताल और ऑक्सीजन की जरूरत लोगों में नहीं है। गंभीर बीमारी वाले लोगों को अस्पताल की जरूरत पड़ सकती है।

पढ़ें :- राजद सुप्रीमो लालू यादव को दिल्ली एम्स ने भर्ती करने से किया इनकार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...