1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. कोरोना विस्फोट: 24 घंटों में 1.79 लाख से अधिक नए मामले, प्रवासियों का घर वापसी सिलसिला फिर शुरू

कोरोना विस्फोट: 24 घंटों में 1.79 लाख से अधिक नए मामले, प्रवासियों का घर वापसी सिलसिला फिर शुरू

घर लौटते प्रवासियों का कहना है, पिछली बार कोरोना कहर जब बरपा तब घर वापसी के बाद काफी प्रयास से खोजकर मजदूरी कर अपने परिवार का भरण पोषण करते रहेे, लेकिन ऐसा कब तक चलता। दिल्ली में मालिक ने हमें बुलाया और हम चले आये, काम भी अच्छी तरह से मिला लेकिन अब जब एक बार फिर कोरोना ने अटैक कर दिया है तो दिल्ली डराने लगा। मोबाइल पर देखते हैं कि दिल्ली में रोज हजारों लोग संक्रमित पाए जा रहे हैं, मौत का सिलसिला फिर से शुरू हो गया है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली : देश में कोरोना के मामले एक बार फिर बेहद तेज रफ्तार पकड़ रहे हैं। सोमवार सुबह तक यानी पिछले 24 घंटों में नए मरीजों की संख्या एक लाख, 79 हजार 723 से ज्यादा नए मरीज मिले हैं। वहीं, ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 46 हजार, 569 है। इस महामारी में अबतक 146 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

पढ़ें :- अरविन्द केजरीवाल के बाद अब मनोज तिवारी कोरोना संक्रमित, केजरीवाल ने कल देहरादून में की थी रैली

सोमवार को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या कुल तीन करोड़, 45 लाख, 172 है। इस दौरान कोरोना से रिकवरी रेट घटकर 96.62 प्रतिशत हो गया है। देश में एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर सात लाख, 23 हजार, 619 हो गई है। रोजाना संक्रमण दर 13.29 प्रतिशत हो गया है।

वहीं, आईसीएमआर (ICMR) के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 13 लाख 52 हजार टेस्ट किए गए। अबतक कुल 69 करोड़ 15 लाख टेस्ट किए जा चुके हैं।

कोरोना का असर, प्रवासी लौट रहें है घर 

देश के तमाम हिस्सों में कोरोना के तीसरी लहर से दहशत का माहौल बन गया है। कई राज्यों में संक्रमण को रोकने के लिए नए गाइडलाइन तय किए गए हैं, नाइट कर्फ्यू लगाए गए हैं। बाजार बंद कराए जा रहे हैं, स्कूल-कॉलेज बंद हो चुके हैं, तो ऐसे में एक बार फिर प्रवासी बिहारी कामगारों के बीच दहशत का माहौल बन गया है और वह अपने गांव की ओर भाग रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामले और जारी किए गए गाइडलाइन के कारण दिल्ली, मुंबई आदि शहरों में रह रहे प्रवासी कामगार लॉकडाउन की आशंका से भयभीत हैं। उन्हें लग रहा है कि इन हालातों के बीच कही लॉकडाउन हो गया तो दिल्ली और मुंबई जैसे राज्य की सरकार बाहरी प्रदेशों के लिए कोई व्यवस्था नहीं कर पाती है और उन्हें फिर पैदल गांव जाना पड़ेगा। इससे बेहतर है कि अभी ट्रेन चल रही है तो गांव की ओर रुख किया जाए। इसी को लेकर प्रवासी कामगारों के घर वापसी का सिलसिला शुरू गया है और सिर्फ बेगूसराय जिला में प्रत्येक दिन पांच सौ से अधिक लोग घर आ रहे हैं।

पढ़ें :- Delhi Omicron : दिल्ली सरकार ने लागू किया गया Yellow Alert, बंद रहेंगे स्कूल, कॉलेज और जिम

प्रवासियों के लिए वैशाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस वरदान

दिल्ली से आने वाले कामगारों के लिए वैशाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस वरदान बन रही है। प्रत्येक दिन बरौनी और बेगूसराय स्टेशन पर प्रवासियों की भीड़ उतरती है लेकिन इसमें दुखद पहलू यह है कि स्टेशन पर बाहर से आने वालों के लिए ना जांच की कोई व्यवस्था है और ना उन्हें जांच के बाद ही घर जाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। बेगूसराय में पिछले सप्ताह से संक्रमितों की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है, एक सप्ताह में संक्रमितों की संख्या अप्रत्याशित रूप से तीन से दो सौ गुना बढ़कर छह सौ के आकड़े को पार कर गया है। लेकिन बेगूसराय स्टेशन पर जांच की कोई व्यवस्था नहीं रहने के कारण दिल्ली से वैशाली एक्सप्रेस से वापस आने वाले सीधे अपने घर जा रहे हैं। इससे गांव में संक्रमितों की संख्या बढ़ने से इंकार नहीं किया जा सकता है। वैशाली एक्सप्रेस के माध्यम से दिल्ली से लौटे मोहन राय, विनय एवं सुनील आदि ने बेगूसराय स्टेशन पर बताया कि हम लोग कई साल से दिल्ली में रहकर मजदूरी करते हैं। 2020 में जब लॉकडाउन लग गया तो वहां कोई व्यवस्था नहीं रहने के कारण किसी तरह कहीं पैदल ज़लालत झेलते हुए गांव पहुंचे थे।

सरकार के लागू किये लॉकडाउन ने मन में डर बैठा दिया है 

सरकार ने शनिवार और रविवार को लॉकडाउन लगा दिया है, जिससे वहां 24 घंटा मन में भय बना रहता था कि अगर लॉकडाउन लग गया तो फिर हम क्या खाएंगे, कहां रहेंगेे, गांव कैसे जाएंगे। इधर गांव से भी बार-बार फोन आ रहा था कि कोरोना फैल रहा है घर लौट आओ, जिसके कारण तीसरी लहर के डर से दिल्ली को बाय-बाय कहकर लॉकडाउन के डर से गांव आ गए हैं। श्रमिकों ने बताया कि दिल्ली में रहने वाले हजारों-लाखों श्रमिक लॉकडाउन के डर से गांव आने के लिए परेशान हैंं, ट्रेन चल रही है लेकिन टिकट नहीं मिल पाता है। सरकार प्रवासियों के लिए स्पेशल ट्रेन चलाए, नहीं तो दिल्ली में रह रहे श्रमिक मानसिक रूप से काफी परेशान हो जाएंगे।

 

पढ़ें :- Omicron: WHO की चेतावनी- हम एक और तूफान आते हुए देख सकते हैं

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...