1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Crypto को मुद्रा की मान्यता नहीं : निर्मला सीतारमण

Crypto को मुद्रा की मान्यता नहीं : निर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार आरबीआई की मुद्रा को ही स्वीकार्य मानती है। भारतीय रिजर्व बैंक ब्लॉकचेन और अन्य तकनीक का उपयोग करते हुए डिजिटल करंसी (डिजिटल रुपये) लाएगा।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 01 फरवरी। केंद्रीय वित्त मंत्री सीतारमण ने मंगलवार को बजट में वर्चुअल डिजिटल संपत्ति पर कर के प्रावधान पर साफ किया है कि इसका मतलब यह नहीं कि सरकार क्रिप्टो को मुद्रा की मान्यता दे रही है। उन्होंने कहा कि क्रिप्टो के नियमन को लेकर काम किया जा रहा है। फिलहाल इसे संपत्ति मानकर इससे होने वाले लाभ को कर के दायरे में लाया गया है।

पढ़ें :- रवीना के खिलाफ जांच के आदेश,जंगल के नियम तोड़ बिल्कुल नजदीक से वीडियो बनाने का मामला आया सामने

वित्त मंत्री सीतारमण ने बजट पेश करने के बाद संवाददाता सम्मेलन में यह स्पष्टीकरण दिया। उन्होंने कहा कि सरकार आरबीआई की मुद्रा को ही स्वीकार्य मानती है। भारतीय रिजर्व बैंक ब्लॉकचेन और अन्य तकनीक का उपयोग करते हुए डिजिटल करंसी (डिजिटल रुपये) लाएगा।

क्रिप्टो को मुद्रा का दर्जा नहीं देती सरकार

उन्होंने कहा कि सरकार क्रिप्टो को मुद्रा का दर्जा नहीं देती। हालांकि कथित क्रिप्टो करंसी से लोगों को लाभ मिल रहा है। ऐसे में सरकार इस लाभ पर कर लगा रही है। उन्होंने कहा कि इस वर्चुअल संपत्ति के लेनदेन के दौरान पेमेंट पर एक फीसदी टीडीएस लगेगा। सरकार प्रत्येक लेनदेन पर एक प्रतिशत टीडीएस लगाकर क्रिप्टो संपत्ति के लेनदेन को ट्रैक कर रही है।

उल्लेखनीय है कि बजट भाषण में वित्त मंत्री ने यह ऐलान किया है कि वर्चुअल डिजिटल संपत्ति में लेनदेन तेजी से बढ़ा है। इसे देखते हुए किसी भी वर्चुअल डिजिटल संपत्ति के लेनदेन से होने वाली आमदनी पर 30 प्रतिशत की दर से कर लगाएगा जाएगा।

पढ़ें :- UP News:रायबरेली में भीषण सड़क हादसा, 2 ट्रकों में भिड़ंत से ड्राइवर समेत 3 लोगों की मौत

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...