Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. कांग्रेस के दिग्गजों की राय- अध्यादेश मामले में केजरीवाल के साथ खड़ा होना ठीक नहीं

कांग्रेस के दिग्गजों की राय- अध्यादेश मामले में केजरीवाल के साथ खड़ा होना ठीक नहीं

कांग्रेस  के कई दिग्गज अध्यादेश मामले में केजरीवाल के साथ खड़ा होना ठीक नहीं मानते हैं। उनका कहना है कि एक समय था जब केजरीवाल ने पानी पी-पी कर राहुल और सोनिया के खिलाफ काफी अपशब्द कहे थे।

By Rajni 

Updated Date

नई दिल्ली। कांग्रेस  के कई दिग्गज अध्यादेश मामले में केजरीवाल के साथ खड़ा होना ठीक नहीं मानते हैं। उनका कहना है कि एक समय था जब केजरीवाल ने पानी पी-पी कर राहुल और सोनिया के खिलाफ काफी अपशब्द कहे थे। अब जब केजरीवाल को जरूरत पड़ी को कांग्रेस के चौखट पर माथा टेक रहे हैं।

पढ़ें :- अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप पर हमले की PM मोदी और राहुल गांधी ने की निंदा, कहा- राजनीति और लोकतंत्र में हिंसा का कोई स्थान नहीं

दिग्गजों का कहना है कि कांग्रेस को अध्यादेश मामले पर केजरीवाल का समर्थन नहीं करना चाहिए। कांग्रेस की दिल्ली और पंजाब इकाई के नेताओं ने सोमवार को पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे से मुलाकात की।

दिल्ली और पंजाब के कांग्रेस नेताओं ने खरगे से मुलाकात की

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी और पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नेताओं ने खरगे से अलग-अलग मुलाकात की। बैठक के बाद केजरीवाल से गठबंधन संबंधी सवाल पर पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि जहां वैचारिक मतभेद हों, वहां गठबंधन नहीं हो सकता। इस बात को लेकर बहुत साफ हूं कि मेरी लड़ाई सत्य के पक्ष की है। मैं नैतिक मूल्यों को लेकर समझौता नहीं करता।

केजरीवाल और आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों से आग्रह किया था कि वे केंद्र के अध्यादेश से संबंधित विधेयक का संसद में विरोध करें। इसके बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन और कांग्रेस के कुछ अन्य नेताओं ने भी केंद्र सरकार के इस अध्यादेश पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए अपने आलाकमान से आग्रह किया था कि वह इस मामले में आम आदमी पार्टी एवं केजरीवाल का समर्थन न करें।

पढ़ें :- Video: पीएम मोदी के गढ़ में राहुल गांधी ने भरी हुंकार, गुजरात में छेड़े अयोध्या - अडानी के तार

केंद्र ने आईएएस और दानिक्स कैडर के अधिकारियों के तबादले और उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए राष्ट्रीय राजधानी सिविल सेवा प्राधिकरण बनाने के लिए हाल ही में अध्यादेश जारी किया था। यह अध्यादेश उच्चतम न्यायालय द्वारा दिल्ली में निर्वाचित सरकार को पुलिस, सार्वजनिक व्यवस्था और भूमि से संबंधित सेवाओं को छोड़कर अन्य सेवाओं का नियंत्रण सौंपने के बाद आया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com