1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Russia Ukraine Conflict : रूस के साथ बैठक में यूक्रेन ने देश छोड़ने को कहा, संयुक्त राष्ट्र ने मांगा युद्धविराम

Russia Ukraine Conflict : रूस के साथ बैठक में यूक्रेन ने देश छोड़ने को कहा, संयुक्त राष्ट्र ने मांगा युद्धविराम

बेलारूस में साढ़े 3 घंटे चली रूस-यूक्रेन प्रतिनिधियों के बीच बैठक, संयुक्त राष्ट्र महासभा के आपात सत्र में संयम बरतने की हुई अपील।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

कीव, 28 फरवरी। यूक्रेन पर रूस के हमले के 5वें दिन बेलारूस में रूस और यूक्रेन के बीच साढ़े 3 घंटे तक बैठक हुई। बैठक में यूक्रेन ने रूसी सैन्य बलों से तुरंत यूक्रेन छोड़ने को कहा। उधर संयुक्त राष्ट्र महासभा की आपात बैठक में तुरंत युद्ध विराम की मांग की गई।

पढ़ें :- यूक्रेन ने रूसी युद्धपोत 'मॉस्कवा' उड़ाया, रूस के सामने एक हजार यूक्रेनी सैनिकों का समर्पण

बेलारूस में हुई साढ़े 3 घंटे तक बैठक

दोनों ओर से सैकड़ों जान ले चुका युद्ध सोमवार को वार्ता की मेज तक पहुंचा। पड़ोसी देश बेलारूस में हुई ये बैठक साढ़े 3 घंटे तक चली। यूक्रेन के प्रतिनिधिमंडल में रक्षा मंत्री अलेक्सी रेजनिकोव, सत्ताधारी सर्वेंट ऑफ द पीपल गुट के प्रमुख डेविड अरखामिया और उप विदेश मंत्री निकोले टोचिट्स्की बैठक में शामिल हुए। वहीं रूस के प्रतिनिधिमंडल में मॉस्को के राजदूत, रूस के उप रक्षा मंत्री, एक वरिष्ठ सांसद और राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के सहयोगी व्लादिमीर मेडिंस्की शामिल रहे।

बैठक में यूक्रेन ने तुरंत युद्धविराम की मांग की

करीब साढ़े 3 घंटे तक चली इस बैठक में यूक्रेन ने तुरंत युद्धविराम की मांग की। साथ ही कहा कि रूस तुरंत सभी सैन्य बलों को यूक्रेन छोड़ने को कहे, जिसमें क्रीमिया और डोनबास भी शामिल हैं। वहीं बेलारूस की तरफ से इस बैठक के बाद कहा गया कि राष्ट्रपति लुकाशेंको सिंसरेली को उम्मीद है कि हुई बातचीत से नाजुक मामले को लेकर कोई हल निकल पाएगा। बेलारूस के लोग इसके लिए प्रार्थना कर रहे हैं। हालांकि बैठक में रूस का क्या रुख रहा, ये अभी तक साफ नहीं हो पाया है। लेकिन सभी उम्मीद जता रहे हैं कि इस बैठक का असर यूक्रेन में चल रही जंग पर जरूर दिखेगा।

पढ़ें :- हमले का 25वां दिन : 18 यूक्रेनी शहरों पर बरसेंगे रूसी बम!

समस्या का समाधान केवल शांति के जरिए संभव- संयुक्त राष्ट्र संघ

संयुक्त राष्ट्र संघ भी रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध रोकने की कोशिशों में लगा है। इस मसले पर संयुक्त राष्ट्र महासभा का आपात सत्र बुलाया गया। इसमें संयुक्त राष्ट्र महासभा ने सभी पक्षों से तत्काल युद्ध विराम लागू करने, संयम बरतने और तत्काल वार्ता शुरू करने की मांग की। संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि हिंसा को बढ़ावा देने का मतलब आम नागरिकों की जान लेना है। अब बहुत हो चुका है। सैनिकों को अपनी बैरकों में वापस लौटने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि मानवीय सहायता महत्वपूर्ण है लेकिन ये समाधान नहीं है। समस्या का समाधान केवल शांति के जरिए संभव है।

यूक्रेन में 14 बच्चों सहित 352 आम नागरिकों की मौत

रूसी सेना ने बीती पूरी रात यूक्रेन पर मिसाइलों से हमला किया। राजधानी कीव और प्रमुख शहर खार्किव में धमाकों की दहशत से यूक्रेनी नागरिक बंकरों में कैद होने को विवश हैं। यूक्रेन के राष्ट्रपति के सलाहकार ओलेक्सी एरिस्टोविच ने बताया कि पूरी रात रूस की सेना ने यूक्रेन पर मिसाइलों से हमले किए हैं। उन्होंने बताया कि कीव, जाइटोमिर, जापोरिझिया और चेर्निहिव में हवाई हमले हुए। कई अन्य इलाकों से भी हवाई हमलों के सायरन बजने की सूचनाएं आ रही हैं। यूक्रेन की स्टेट सर्विस ऑफ स्पेशल कम्युनिकेशंस एंड इंफॉर्मेशन प्रोटेक्शन ने बताया कि सोमवार सुबह यूक्रेन की राजधानी कीव और प्रमुख शहर खार्किव में धमाकों की आवाज सुनी गई। यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के पहले 4 दिनों में यूक्रेन के 352 आम नागरिकों की मौत हो चुकी है। इस लड़ाई में 14 बच्चों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। यूक्रेन के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक रविवार रात 11 बजे तक 1,684 लोग इस लड़ाई के दौरान जख्मी हो चुके थे। जख्मी होने वालों में बच्चों की संख्या 116 है।

पढ़ें :- भारत अस्थायी तौर पर यूक्रेन से पोलैंड स्थानांतरित करेगा अपना दूतावास
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...