1. हिन्दी समाचार
  2. तकनीक
  3. 5G Spectrum Auction : 7 दिन बाद खत्म हुई 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी, 1.5 लाख करोड़ से ज्यादा की लगी बोली, 15 अगस्त से पहले 5जी स्पेक्ट्रम का आवंटन

5G Spectrum Auction : 7 दिन बाद खत्म हुई 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी, 1.5 लाख करोड़ से ज्यादा की लगी बोली, 15 अगस्त से पहले 5जी स्पेक्ट्रम का आवंटन

देश में 5जी सर्विस आने से इंटरनेट की गति 4G के मुकाबले करीब 10 गुना ज्यादा हो जाएगी। 5G स्पेक्ट्रम के लिए 4 प्रमुख दूरसंचार मोबाइल कंपनियों ने 21,800 करोड़ रुपये बतौर धरोहर राशि जमा कराई है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 01 अगस्त। भारत में हाई स्पीड की इंटरनेट सेवा उपलब्ध कराने के लिए 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी 7 दिन बाद सोमवार को खत्म हो गई है। 5जी एयरवेव्स की नीलामी से सरकार को 1,50,173 करोड़ रुपये की कमाई हुई है। इसके लिए रिलायंस जियो, भारती एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया और अडाणी समूह की कंपनी अडाणी डेटा नेटवर्क्स ने बोली लगाई। अब सरकार कंपनियों को 15 अगस्त से पहले 5जी स्पेक्ट्रम का आवंटन करेगी।

पढ़ें :- भाजपा की संसदीय दल की बैठक में हर घर तिरंगा अभियान पर दिया जोर

रिलायंस जियो ने सबसे अधिक 80 हजार करोड़ की बोली लगाई

5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी के लिए 7 दिन में कुल 40 राउंड की बोलियां लगाई गई। टेलीकॉम स्पेक्ट्रम की नीलामी खत्म होने पर सरकार को 150, 173 करोड़ रुपये (1.5 ट्रिलियन रुपये) राजस्व मिला, जो आखिरी दिन 43 करोड़ रुपये रहा। स्पेक्ट्रम के लिए रिलायंस जियो ने सबसे अधिक 80 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की बोली लगाई। इसके बाद भारती एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया और अडाणी समूह का नंबर रहा है।

सरकार ने आय का पिछला रिकॉर्ड पार किया

सरकार ने 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी से 1.50 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा जुटाने के साथ ही आय का पिछला रिकॉर्ड पार कर लिया है। नीलामी से अर्जित राशि सरकार की अपेक्षा से कहीं ज्यादा है। ये साल 2010 के बाद 2015 में 4जी स्पेक्ट्रम की नीलामी से मिले 113,932 करोड़ रुपये से बेहतर है।

पढ़ें :- Maharashtra : संजय राउत को 4 अगस्त तक ED की कस्टडी, उद्धव ठाकरे बोले- जब हमारा वक्त आएगा तो सोचिए आपका (BJP) क्या होगा?

1,50,173 करोड़ रुपये की बोली लगाई गई

वहीं केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बताया कि 5-जी स्पेक्ट्रम की नीलामी बहुत अच्छे से सफलतापूर्वक संपन्न हुई। जिसमें कुल बोली 1,50,173 करोड़ रुपये की लगाई गई। इसमें 72,098 मेगाहर्ट्ज़ में से 51,236 मेगाहर्ट्ज़ की बिकवाली हुई। अडानी डेटा नेटवर्क लिमिटेड ने 400 मेगाहर्ट्ज़ लिया है, मिलीमीटर-वेव में भारती एयरटेल ने 19,867 मेगाहर्ट्ज़ (900 MHz, 1800 MHz, 2100 MHz, 3300 MHz & 26 GHz में) लिया है। रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड ने 24,740 मेगाहर्ट्ज़ (700 MHz, 800 MHz, 1800 MHz, 3300 MHz & 26 GHz में) लिया है। वोडाफोन आइडिया लिमिटेड ने 6228 मेगाहर्टज़ (1800 MHz, 2100 MHz, 2500 MHz, 3300 MHz & 26 GHz में) लिया है।

5जी स्पेक्ट्रम की वैलिडिटी 20 साल की होगी

बतादें कि दूरसंचार विभाग ने 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी में 4.3 लाख करोड़ रुपये के 72 गीगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम ब्लॉक को नीलामी के लिए रखा था। इसकी वैलिडिटी 20 साल की होगी। देश में 5जी सर्विस आने से इंटरनेट की गति 4G के मुकाबले करीब 10 गुना ज्यादा हो जाएगी। 5G स्पेक्ट्रम के लिए 4 प्रमुख दूरसंचार मोबाइल कंपनियों ने 21,800 करोड़ रुपये बतौर धरोहर राशि जमा कराई है।

गौरतलब है कि अत्यधिक उच्च गति की इंटरनेट सेवा देने में सक्षम 50 स्पेक्ट्रम की नीलामी 6 दिनों पहले शुरू हुई थी। पिछले 6 दिनों में 1,50,130 करोड़ रुपये की बोलियां मिली थी, जबकि रविवार को आयोजित 7 नए दौर की बोली में 163 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई थी। सरकार को स्पेक्ट्रम की पहली नीलामी से करीब एक लाख करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद थी, जबकि कुल 4.3 लाख करोड़ रुपये के 72 गीगाहर्ट्ज नीलामी के लिए रखे गए थे।

पढ़ें :- Jharkhand : झारखंड विधानसभा सत्र में गूंजा कांग्रेसी विधायकों का मुद्दा, सरयू ने कहा- सीएम सोरेन करें मामला स्पष्ट

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...