Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. America: एलन मस्क की मेडिकल डिवाइस कंपनी न्यूरालिंक के खिलाफ जांच शुरू, इंसानी दिमाग में चिप लगाने के प्लान में आई रुकावट

America: एलन मस्क की मेडिकल डिवाइस कंपनी न्यूरालिंक के खिलाफ जांच शुरू, इंसानी दिमाग में चिप लगाने के प्लान में आई रुकावट

Elon Musk News:अरबपति कारोबारी एलन मस्क की मुसीबत बढ़ती नजर आ रही है,ट्विटर के मालिक एलन मस्क की कंपनी न्यूरालिंक (Neuralink) के खिलाफ अमेरिका में जांच शुरू कर दी गई है,अमेरिकी प्रशासन द्वारा ये जांच पशु-कल्याण कानूनों के संभावित उल्लंघन को लेकर की जा रही है,समाचार एजेंसी रॉयटर्स से मिली जानकारी के अनुसार कंपनी के ही कर्मचारी ने शिकायत करते हुए पशु परीक्षणों के बारे में सूचना दी है,कर्मचारी ने बताया है कि न्यूरालिंक पशु परीक्षण में जल्दबाजी कर रही है, जिससे पशुओं को अनावश्यक पीड़ा और मृत्यु हो रही है.

By रेनू मिश्रा 

Updated Date

New Delhi: अरबपति कारोबारी एलन मस्क की मुसीबत बढ़ती नजर आ रही है,ट्विटर के मालिक एलन मस्क की कंपनी न्यूरालिंक (Neuralink) के खिलाफ अमेरिका में जांच शुरू कर दी गई है,अमेरिकी प्रशासन द्वारा ये जांच पशु-कल्याण कानूनों के संभावित उल्लंघन को लेकर की जा रही है,समाचार एजेंसी रॉयटर्स से मिली जानकारी के अनुसार कंपनी के ही कर्मचारी ने शिकायत करते हुए पशु परीक्षणों के बारे में सूचना दी है,कर्मचारी ने बताया है कि न्यूरालिंक पशु परीक्षण में जल्दबाजी कर रही है, जिससे पशुओं को अनावश्यक पीड़ा और मृत्यु हो रही है.

पढ़ें :- रूस से जंग होगी और भीषण , यूक्रेन को अमेरिका देगा 2.2 अरब डॉलर, फ्रांस, इटली देंगे मिसाइल सिस्टम

इस मामले कि जानकारी रखने वाले सूत्रो के अनुसार,संघीय अभियोजक के अनुरोध पर अमेरिकी कृषि विभाग के महानिरीक्षक द्वारा हाल के महीनों में कंपनी के खिलाफ संघीय जांच शुरू की गई थी,कंपनी के खिलाफ जांच पशु कल्याण अधिनियम के उल्लंघन पर केंद्रित है, जो नियंत्रित करता है कि शोधकर्ता कुछ जानवरों का इलाज और परीक्षण कैसे करते हैं,कंपनी के ही कर्मचारी ने इसकी शिकायत की है कि एलन मस्क लगातार विकास अथवा परीक्षण में तेजी लाने के लिए दबाव डाल रहे है,और जिसके परिणामस्वरूप कई प्रयोग विफल हुए हैं

दरअसल, न्यूरालिंक कॉर्प एक मस्तिष्क प्रत्यारोपण (ब्रेन इम्प्लांट) विकसित कर रहा है. कंपनी आने वाले दिनों में इंसानी दिमाग में चिप लगाने का ट्रायल करने वाली है, जिससे लकवाग्रस्त लोगों को फिर से चलने और अन्य न्यूरोलॉजिकल बीमारियों का इलाज करने में मदद मिलेगी. न्‍यूरालिंक की तरफ से दावा किया गया है कि इस चिप को लगाने के बाद कई तरह के रोगियों को बड़ी सुविधा मिलेगी. दिमाग में चिप लगाने के साथ ही एक चिप रीढ़ में भी लगाया जा सकता है. इसके लिए कंपनी ने जानवरों पर परीक्षण किया है और कुछ जानवरों में ब्रेन चिप इंप्‍लांट की है.

दरअसल, अरबपति कारोबारी एलन मस्क ने बीते दिनों कहा था कि उनकी न्यूरालिंक कंपनी इंसानों के दिमाग में उपकरण लगाने (ब्रेन इम्प्लांट) का परीक्षण करने की जल्द ही अनुमति मांगेगी. मस्क ने कहा था कि उनकी टीम अमेरिकी नियामकों से उन्हें उपकरण का परीक्षण करने की अनुमति देने का अनुरोध करेगी. उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि कंपनी को लगभग छह महीने में परीक्षण के तहत मानव मस्तिष्क में उपकरण लगाने में सक्षम होगी.

पढ़ें :- भारत में बनी आई ड्रॉप EzriCare को लेकर अमेरिका में अलर्ट, कंपनी ने दवाई वापस मंगाई
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com