1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. अंकिता के परिजनों के लिए उत्तराखंड सरकार ने की 25 लाख मुआवजे की घोषणा

अंकिता के परिजनों के लिए उत्तराखंड सरकार ने की 25 लाख मुआवजे की घोषणा

उत्तराखंड के पौड़ी जिले के यमकेश्वर में गंगा भोगपुर में वनतारा रिजॉर्ट में 19 साल की अंकिता भंडारी रिसेप्शनिस्ट के तौर पर काम करती थी.सीएम पुष्कर सिंह धामी ने मुआवजे का किया एलान

By Ruchi Kumari 
Updated Date

अंकिता भंडारी हत्याकांड को लेकर उत्तराखंड के सभी शहरों में लोगों में नाराजगी दिख रही है तो वहीं दूसरी तरफ सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अंकिता भंडारी के परिजनों को 25 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है.ये जानकारी मुख्यमंत्री कार्यालय ने दी है.बता दें कि अंकिता का शव 24 सितंबर को चीला नहर से बरामद किया गया था. अंकिता भंडारी की कथित रूप से रिजॉर्ट संचालक पुलकित आर्य ने अपने दो कर्मचारियों, प्रबंधक सौरभ भास्कर और सहायक प्रबंधक अंकित गुप्ता के साथ मिलकर ऋषिकेश के पास चीला नहर में धका देकर हत्या कर दी थी. इससे पहले, अंकिता की गुमशुदगी के मामले में 23 सितंबर को तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था जिन्होंने पूछताछ में उसकी हत्या की बात स्वीकार की थी.

पढ़ें :- नेता प्रतिपक्ष ने महागठबंधन की सरकार पर साधा निशाना, कही ये बात, पढ़ें

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हमने न्यायालय से अनुरोध किया हुआ है कि मामले की जल्द से जल्द सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बना दिया जाए. उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में इस तरह की घटना सहन करने योग्य नहीं है, दोषियों को कठोर से कठोर सजा के लिए हमने कोर्ट से अनुरोध किया है.
उत्तराखंड के पौड़ी जिले के यमकेश्वर में गंगा भोगपुर में वनतारा रिजॉर्ट में 19 साल की अंकिता भंडारी रिसेप्शनिस्ट के तौर पर काम करती थी. इस मामले में मुख्य आरोपी पुलकित हरिद्वार के पूर्व भाजपा नेता विनोद आर्य का पुत्र है. घटना के सामने आने के बाद भाजपा ने आर्य को पार्टी से निष्कासित कर दिया था.

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...