Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. एके एंटनी के बेटे अनिल ने छोड़ी कांग्रेस, PM मोदी पर BBC डॉक्यूमेंट्री का किया था विरोध

एके एंटनी के बेटे अनिल ने छोड़ी कांग्रेस, PM मोदी पर BBC डॉक्यूमेंट्री का किया था विरोध

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर BBC के दो हिस्सों वाली डॉक्यूमेंट्री का विरोध करने के एक दिन बाद केरल के पूर्व मुख्यमंत्री एके एंटनी के बेटे अनिल ने कांग्रेस के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है.

By Ruchi Kumari 

Updated Date

Anil K Antony Resigns: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी बीबीसी की विवादास्पद डॉक्यूमेंट्री को लेकर सियासी घमासान के बीच कांग्रेस के दिग्गज नेता एके एंटनी के बेटे अनिल के एंटनी (Anil K Antony) ने कांग्रेस पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है. एके एंटनी के बेटे अनिल एंटनी ने बुधवार को ट्वीट कर अपने इस्तीफे का ऐलान किया है. बता दें कि केंद्र सरकार ने वृत्तचित्र का लिंक साझा करने वाले यूट्यूब वीडियो और ट्विटर पोस्ट ब्लॉक कर दिए हैं.

पढ़ें :- सुप्रीम कोर्ट ने 2002 के गुजरात दंगों से संबंधित BBC डॉक्यूमेंट्री पर बैन के मामले में सरकार से तीन हफ्तों में मांगा जवाब

अनिल एंटनी ने ट्विटर पर कहा, ‘मैंने कांग्रेस से अपने सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है. मुझ पर एक ट्वीट को वापस लेने के असहिष्णुता से दबाव बनाया जा रहा था. वह भी उनकी तरफ से जो अभिव्यक्ति की आजादी के लिए खड़े होने की बात करते हैं. मैंने मना कर दिया.’ बता दें कि बीबीसी की ओर से पीएम मोदी और 2002 के गुजरात दंगों पर पर बनाई गई डॉक्यूमेंट्री पर एंटनी ने सरकार का साथ दिया था. इसके बाद कांग्रेस के भीतर ही उनका विरोध हो रहा था और ट्वीट वापस लेने का दवाब बनाया जा रहा था.

पढ़ें :- सुप्रीम कोर्ट पहुंचा BBC डॉक्यूमेंट्री पर बैन का विवाद,छह फरवरी को होगी सुनवाई

मंगलवार को केरल में हुई थी बीबीसी डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग

बता दें कि भाजपा युवा मोर्चा के विरोध के बीच मंगलवार को केरल में विभिन्न राजनीतिक संगठनों ने 2002 के गुजरात दंगों पर विवादास्पद बीबीसी डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग की थी. बीबीसी के “इंडिया: द मोदी क्वेश्चन” की स्क्रीनिंग का भाजपा के युवा मोर्चा ने विरोध किया था. इसके बाद अनिल एंटोनी ने भी भाजपा युवा मोर्चा के इस कदम का समर्थन किया.

डॉक्यूमेंट्री विवाद पर दिया BJP का साथ

अनिल एंटनी ने मंगलवार को कहा कि जो लोग ब्रिटिश प्रसारक और ब्रिटेन के पूर्व विदेश सचिव जैक स्ट्रा के विचारों का समर्थन करते हैं और उन्हें जगह देते हैं, वे भारतीय संस्थानों पर एक खतरनाक मिसाल कायम कर रहे हैं. क्योंकि 2003 के इराक युद्ध के पीछे जैक स्ट्रा का दिमाग था. उन्होंने कहा कि भाजपा के साथ बड़े मतभेद के बावजूद, मुझे लगता है कि यह हमारी संप्रभुता को कमजोर करेगा.

पढ़ें :- बीबीसी की डॉक्‍यूमेंट्री पर DU में बवाल,धारा 144 लागू, कई छात्र हिरासत में
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com