1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके

ख़बरें जरा हटके (Khabre Zara Hat Ke News in Hindi)

ऐसा वैज्ञानिक जिसने अपने समय में ऐसी भविष्यवाणियां कीं, जो सौ वर्षों बाद सही साबित हुई

ऐसा वैज्ञानिक जिसने अपने समय में ऐसी भविष्यवाणियां कीं, जो सौ वर्षों बाद सही साबित हुई

ऐसा वैज्ञानिक जिसने मानव इतिहास को बदल दियाः एक ही समय में भूत, भविष्य और वर्तमान को देखने वाला ऐसा वैज्ञानिक जिसने अपने समय में ऐसी हैरतअंगेज भविष्यवाणियां कीं, जो सौ वर्षों बाद सही साबित हुई। इस वैज्ञानिक ने खुद कई ऐसी खोजें कीं जो मानव के बौद्धिक समृद्धि की

“कुछ सुखों की इच्छा ही मेरे दुखों का कारण है” जानें उस लेखक के बारे में जिसे पूरी दुनिया में मिली अभूतपूर्व शौहरत

“कुछ सुखों की इच्छा ही मेरे दुखों का कारण है” जानें उस लेखक के बारे में जिसे पूरी दुनिया में मिली अभूतपूर्व शौहरत

इच्छा आधा जीवन और उदासीनता आधी मौतः वह लेखक जो अपनी सूक्तियों के लिए दुनिया भर में जाना गया। हम बात कर रहे हैं खलील जिब्रान की जिनकी सूक्तियां पूरी दुनिया में विचारों के रूप में सुगंध बिखेर रही है- उत्कंठा ज्ञान की शुरुआत है। लेबनानी-अमेरिकी कवि, लेखक और आर्टिस्ट

अयोध्या में चरम तनाव के वक्त कल्याण सिंह ने कहा था कि रामलला के लिए अगले कई जन्म जेल में रहने के लिए तैयार हूं

अयोध्या में चरम तनाव के वक्त कल्याण सिंह ने कहा था कि रामलला के लिए अगले कई जन्म जेल में रहने के लिए तैयार हूं

जब कल्याण ने कहा, रामलला के लिए अगले कई जन्म जेल में रहने को तैयार हूंः 6 दिसंबर 1992 को ढलती हुई सर्द शाम तक अयोध्या में विवादित ढांचे का आखिरी हिस्सा भी ध्वस्त हो जाने की प्रामाणिक खबरें लखनऊ और दिल्ली तक पहुंच चुकी थीं। तनाव चरम पर था।

सेवानिवृत्त होने के बाद न्यूटन ने खोजा था गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत

सेवानिवृत्त होने के बाद न्यूटन ने खोजा था गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत

गुरुत्वाकर्षण और पेड़ से सेव गिरने की घटनाः गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत और गति के नियम प्रतिपादित करने वाले इंग्लैंड के महान भौतिकी विज्ञानी, गणितज्ञ और दार्शनिक सर आइजक न्यूटन का जन्म 4 जनवरी 1643 में हुआ था। गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत को प्रतिपादित करने के संदर्भ में न्यूटन के सामने पेड़

पुस्तक समीक्षा : प्रेम के मानकों को परिभाषित करती इस्मत चुगताई की ‘सौदाई’

पुस्तक समीक्षा : प्रेम के मानकों को परिभाषित करती इस्मत चुगताई की ‘सौदाई’

पागल , झक्की, सनकी या फिर कहें सौदाई। जी हाँ आज हम रोती,बिलखती लड़कियों को अपनी कहानियों का हिस्सा कभी ना बनाने वाली उर्दू की मशहूर शायरा इस्मत चुग़ताई की कहानी ‘सौदाई ’ की बात करेंगे।सौदाई को कई भाषाओं में अनुवाद किया गया है। ‘सौदाई’ का हिंदी अनुवादन शकील सिद्द्की

सावित्रीबाई फुले, जिन्होंने लोगों के पत्थर और गन्दगी का जवाब शिक्षा के सन्देश से दिया

सावित्रीबाई फुले, जिन्होंने लोगों के पत्थर और गन्दगी का जवाब शिक्षा के सन्देश से दिया

स्त्री अधिकारों और शिक्षा को लेकर नई सामाजिक चेतना जगाने वाली भारत की प्रथम महिला शिक्षिका सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले का जन्म 3 जनवरी 1831 को महाराष्ट्र के सतारा जिला स्थित नायगांव में हुआ था। महज नौ वर्ष की आयु में ज्योतिराव गोविंदराव फुले से उनका विवाह हो गया। इसके बाद

आजाद भारत में जब चुनाव हुआ तो किसने संभाली थी इसकी पूरी जिम्मेदारी

आजाद भारत में जब चुनाव हुआ तो किसने संभाली थी इसकी पूरी जिम्मेदारी

भारतीय लोकतंत्र का अहम चेहराः भारतीय सिविल सेवा के अधिकारी सुकुमार सेन की बदौलत भारतीय नागरिक पहली बार मताधिकार का इस्तेमाल कर पाए। 2 जनवरी 1899 को बंगाल में पैदा हुए सुकुमार सेन भारत के पहले चुनाव आयुक्त थे, जिन्होंने 25 अक्टूबर 1951 से फरवरी 1952 तक पहला आम चुनाव

Worlds Shortest Woman Dies: विश्व की सबसे छोटी महिला एलीफ कोकामन का निधन

Worlds Shortest Woman Dies: विश्व की सबसे छोटी महिला एलीफ कोकामन का निधन

नई दिल्ली, 1 जनवरी। विश्व की सबसे छोटी महिला एलीफ कोकामन का निधन हो गया है। एलीफ कोकामन 33 साल की थीं। उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है। एलीफ का निधन निमोनिया के कारण हुआ है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एलीफ कोकामन की तबीयत मंगलवार को

आखिर कब से 1 जनवरी को मनाया जाता है नया साल, पढ़ें आगे

आखिर कब से 1 जनवरी को मनाया जाता है नया साल, पढ़ें आगे

सिर्फ 440 साल पुरानी है यह परिपाटी: अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से जब हम आज नया वर्ष शुरू कर रहे हैं, यह जानना रोचक है कि भारतवर्ष के विभिन्न हिस्सों में वर्ष- गणना इसके मुकाबले अति प्राचीन और वैज्ञानिक है। हिन्दू पंचाग के अनुसार चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को साल

जानें किस वजह से संस्कृत के विद्वान विश्वनाथ को कहा जाता है इतिहासाचार्य राजवाडे

जानें किस वजह से संस्कृत के विद्वान विश्वनाथ को कहा जाता है इतिहासाचार्य राजवाडे

इतिहासाचार्य राजवाडेः देश के सुप्रसिद्ध इतिहासकार, टिप्पणीकार, लेखक और श्रेष्ठ वक्ता विश्वनाथ काशीनाथ राजवाडे का 31 दिसंबर 1926 को निधन हो गया। संस्कृत के प्रकांड विद्वान विश्वनाथ काशीनाथ अपने योगदान के कारण इतिहासाचार्य राजवाडे के नाम से भी जाने जाते हैं। विश्वनाथ काशीनाथ राजवाडे का जन्म 24 जून 1863 को

हिंदी जगत के महान कवि और ग़ज़लकार दुष्यंत कुमार ने दुनिया को आज कहा था अलविदा

हिंदी जगत के महान कवि और ग़ज़लकार दुष्यंत कुमार ने दुनिया को आज कहा था अलविदा

मैं सजदे में नहीं था आपको धोखा हुआ होगाः जिनकी शायरी आज भी नारे की तरह इस्तेमाल होती है। जिनके शेर इंक़लाब का सबब बने। जिनके लेखन ने बेलगाम सत्ता के ख़िलाफ़ प्रतिरोध को स्वर दिया। हम बात कर रहे हैं हिंदी के उस महान शायर दुष्यंत कुमार की, जिन्हें

कभी साबुन बेचने और ट्रक क्लीनर का काम करते थे रामानंद सागर, रामायण ने बदली थी जिंदगी

कभी साबुन बेचने और ट्रक क्लीनर का काम करते थे रामानंद सागर, रामायण ने बदली थी जिंदगी

‘रामायण’ से अमर हुए रामानन्दः यह नाम ही कुछ खास है, पर रामानन्द नाम तो औरों के भी हैं। हम रामानन्द सागर की बात कर रहे हैं, जिनका जन्म 29 दिसंबर,1917 को अविभाजित भारत के लाहौर में हुआ था। पता नहीं क्या फर्क पड़ता, यदि उनका मूल नाम चंद्रमौलि चोपड़ा

इस लेखक को मराठी के राजनीतिक उपन्यास का जनक कहा जाता है, पढ़ें इनके बारे में

इस लेखक को मराठी के राजनीतिक उपन्यास का जनक कहा जाता है, पढ़ें इनके बारे में

गजानन त्र्यंबक माडखोलकरः पत्रकारिता हो अथवा साहित्यिक रचना-संसार, यह नाम मराठी जगत में बहुश्रुत और बहुचर्चित है। फिर देश के स्वाधीनता आंदोलन और संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन में उनकी प्रमुख भागीदारी इतिहास-विज्ञ है। तत्कालीन बंबई (अब मुंबई) में 28 दिसंबर, 1900 को पैदा हुए गजानन त्र्यंबक माडखोलकर को इस अर्थ में

जानें क्या था मिर्ज़ा ग़ालिब का असल नाम

जानें क्या था मिर्ज़ा ग़ालिब का असल नाम

कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयां औरः उर्दू और फारसी के सर्वकालिक मक़बूल शायर मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्म 27 दिसंबर 1796 को आगरा में हुआ। उनका असल नाम मिर्ज़ा असदुल्लाह बेग ख़ान था, जिन्हें फ़ारसी शायरी की लयबद्धता और उसकी गति को हिंदुस्तानी जबान में लोगों तक पहुंचाने का

27 December News Bulletin : पढ़ें आज की 10 बड़ी खबरें

27 December News Bulletin : पढ़ें आज की 10 बड़ी खबरें

  नई दिल्ली, 27  दिसंबर 2021   1. प्रधानमंत्री मोदी करेंगे हिमाचल प्रदेश के मंडी शहर का दौरा  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज हिमाचल प्रदेश के मंडी शहर का दौरा करेंगे। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 हजार करोड़ रुपए के हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट की सौगात देंगे। कल दोपहर 12 बजे