1. हिन्दी समाचार
  2. तकनीक
  3. Chinese Companies Warns Pakistan : पाकिस्तान को चीनी कंपनियों की धमकी, 300 अरब ना मिले तो बंद कर देंगे बिजली

Chinese Companies Warns Pakistan : पाकिस्तान को चीनी कंपनियों की धमकी, 300 अरब ना मिले तो बंद कर देंगे बिजली

जानकारी के मुताबिक चीन की 30 प्रमुख कंपनियां, चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (CPEC) परियोजना के अंतर्गत पाकिस्तान में काम करती हैं। पाकिस्तान के ऊर्जा, संचार, रेलवे सहित विभिन्न ढांचागत क्षेत्रों में इन चीनी कंपनियों का वर्चस्व कायम है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

इस्लामाबाद, 10 मई। सत्ता परिवर्तन के बाद भी पाकिस्तान में आर्थिक संकट कम नहीं हो पा रहा है। अब पाकिस्तान में कार्यरत चीनी कंपनियों ने धमकी दी है कि अगर उन्हें उनके बकाया 300 अरब रुपये का भुगतान नहीं हुआ तो वो बिजली उत्पादन संयंत्र बंद कर देंगी। इससे पाकिस्तान में गंभीर बिजली संकट का खतरा पैदा हो गया है। इन कंपनियों ने नए प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ के लिए परेशानी बढ़ा दी है।

पढ़ें :- दिल्ली सीएम केजरीवाल का केंद्र पर निशाना, कहा- अब राघव चड्ढा को भी ये लोग करेंगे गिरफ्तार

चीन की 30 प्रमुख कंपनियों का पाकिस्तान में वर्चस्व कायम

जानकारी के मुताबिक चीन की 30 प्रमुख कंपनियां, चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (CPEC) परियोजना के अंतर्गत पाकिस्तान में काम करती हैं। पाकिस्तान के ऊर्जा, संचार, रेलवे सहित विभिन्न ढांचागत क्षेत्रों में इन चीनी कंपनियों का वर्चस्व कायम है।

चीन की पाकिस्तान को धमकी

इन कंपनियों ने पाकिस्तान के योजना और विकास मंत्री अहसान इकबाल के साथ हुई बैठक में बिजली बकाए का मुद्दा उठाया। चीन के स्वतंत्र बिजली उत्पादकों के दो दर्जन से अधिक प्रतिनिधियों ने पाकिस्तान सरकार के मंत्री से साफ कहा कि सरकार पर बिजली कंपनियों का 300 अरब रुपया बकाया है। चेतावनी दी गई है कि अगर जल्द ही बकाया धनराशि का भुगतान नहीं किया गया तो वो पाकिस्तान में विद्युत आपूर्ति करने वाले बिजली संयंत्रों को बंद कर देंगे।

पढ़ें :- पाकिस्तान के बलूचिस्तान बाजार में हुआ बम विस्फोट, एक युवक की मौत, 20 घायल

पाकिस्तान में बिजली संकट गहराने का खतरा

दरअसल पाकिस्तानी अधिकारी गर्मी में बढ़ी विद्युत की मांग के अनुरूप उत्पादन बढ़ाने के लिए दबाव बना रहे थे। इस पर चीनी कंपनियों ने भुगतान ना होने पर मौजूदा उत्पादन भी ठप करने की चेतावनी दे डाली। साथ ही इन लोगों ने कोयले की बढ़ती कीमतों के मद्देनजर बिजली उत्पादन लागत बढ़ने का मुद्दा उठाया और बिजली दरें बढ़ाने की मांग की। चीनी कंपनियों के इन तेवरों से पाकिस्तान में बिजली संकट गहराने का खतरा पैदा हो गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...