1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Cryptocurrency : क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्स लगाने का मतलब कानूनी मान्यता देना नहीं- वित्त मंत्री

Cryptocurrency : क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्स लगाने का मतलब कानूनी मान्यता देना नहीं- वित्त मंत्री

निर्मला सीतारमण ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी जैसी अभाषी मुद्रा पर टैक्स लगाने का मतलब ये नहीं है कि हम उन्हें मान्यता दे रहे हैं। हम क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्स लगाएंगे, क्योंकि ये हमारा अधिकार है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 11 फरवरी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश में क्रिप्टोकरंसी की वैधता को साफ करते हुए कहा कि बिटक्वाइन जैसी अभाषी संपत्ति पर टैक्स लगाने का मतलब उन्हें वैध करना नहीं है। उन्होंने कहा कि हम क्रिप्टोकरेंसी को वैध बनाने या प्रतिबंधित करने के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं।

पढ़ें :- Budget 2022: इस बार किसानों को बजट से क्या फायदे मिले? पढ़ें आगे

क्रिप्टोकरेंसी को मान्यता नहीं- सीतारमण

निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को राज्यसभा में क्रिप्टोकरेंसी पर सरकार का पक्ष साफ करते हुए ये बात कही। निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2022-23 की केंद्रीय बजट पर राज्यसभा में हुई चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि सरकार ने केवल डिजिटल एसेट्स से होने वाली आमदनी पर टैक्स लगाया है। उन्होंने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी जैसी अभाषी मुद्रा पर टैक्स लगाने का मतलब ये नहीं है कि हम उन्हें मान्यता दे रहे हैं। हम क्रिप्टोकरेंसी पर टैक्स लगाएंगे, क्योंकि ये हमारा अधिकार है।

गौरतलब है कि वित्त मंत्री ने वित्त वर्ष 2022-23 के अपने बजट भाषण में डिजिटल एसेट्स से होने वाली कमाई पर 30 फीसदी टैक्स लगाने का ऐलान किया था, जिसे अगले वित्त वर्ष यानी एक अप्रैल, 2022 से लागू किया जाएगा। RBI के गवर्नर शक्तिकांत दास ने भी एक दिन पहले साफ किया था कि क्रिप्टोकरेंसी वृहत आर्थिक और वित्तीय स्थिरता के लिए खतरा है। दास ने निवेशकों को आगाह करते कहा कि ऐसे एसेट्स में कोई अंतर्निहित मूल्य नहीं है, जो एक ‘ट्यूलिप’ के बराबर भी नहीं है।

पढ़ें :- GST Collecton : वित्त मंत्रालय ने जारी किया आकड़ा, नवंबर में GST रिकॉर्ड 1,31 लाख करोड़ रुपये के पार
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...