1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत पर डब्ल्यूएचओ अलर्ट के बाद केंद्र ने 4 खांसी की दवाई की जांच की

गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत पर डब्ल्यूएचओ अलर्ट के बाद केंद्र ने 4 खांसी की दवाई की जांच की

सूत्रों ने कहा कि भारत के दवा नियामक ने पहले ही हरियाणा में नियामक अधिकारियों के साथ इस मामले की तत्काल जांच शुरू कर दी है। डब्ल्यूएचओ (WHO) ने चेतावनी देते हुए कहा था कि चार कफ सिरप गुर्दे को नुकसान पहुंचाने और 66 बच्चों की मौत मामले से जुड़ी हो सकती है।

By रुचि उपाध्याय 
Updated Date

Indian Cough Syrup: भारत की कफ सिरप चर्चा में है और चर्चा में आने की वजह है गांबिया में हुई 66 लोगों की मौत। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की चेतावनी के बाद सरकार ने हरियाणा की एक फार्मास्युटिकल फर्म द्वारा निर्मित चार कफ सिरप की जांच शुरू कर दी है। गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत (Gambia Children Deaths) मामले से चार भारतीय कफ सिरप (Indian Cough Syrup) को जोड़ते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अलर्ट के बाद अब भारत ने भी इसे लेकर जांच शुरू कर दी है. सूत्रों ने बताया कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (CDSCO) ने तुरंत मामले को हरियाणा रेगुलेटरी अथॉरिटी के सामने उठाया और इसपर जांच शुरू कर दी है. कफ सिरप को हरियाणा के सोनीपत में मेसर्स मेडेन फार्मास्युटिकल लिमिटेड ने बनाया है।

पढ़ें :- WHO ने कहा- यूरोप में समाप्ति की ओर बढ़ रहा कोरोना, सीमाओं को खोलने की तैयारी में न्यूजीलैंड

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने 29 सितंबर को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (CDSCO) को कफ सिरप के बारे में अलर्ट किया था. सूत्रों ने कहा कि कफ सिरप का निर्माण हरियाणा के सोनीपत में मेसर्स मेडेन फार्मास्युटिकल लिमिटेड ने किया है. इस मामले पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार, ऐसा लगता है कि फर्म ने इन उत्पादों को केवल गाम्बिया को भेजा था. कंपनी ने अभी तक आरोपों का जवाब नहीं दिया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, WHO की ओर से दी गई रिपोर्ट में सामने आया कि मेडेन फार्मास्यूटिकल्स के कफ और कोल्ड सिरप में जरूरत से ज्यादा डायथिलीन ग्लाइकॉल और एथिलीन ग्लाइकॉल की मात्रा पाई गई है जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता. बताया जा रहा है कि ये सिरप ही गांबिया में बच्चों ने पी थी। इस मामले में डब्ल्यूएचओ ने चेतावनी दी है कि हो सकता है कि सिरप पश्चिम अफ्रीकी देश के बाहर वितरित किए गए हों, जिससे एक वैश्विक जोखिम की भी संभावना है. हालांकि, डब्ल्यूएचओ ने भी अभी तक कफ सिरप से मौत को जोड़े जाने के कारणों के बारे में नहीं बताया है.

भारता में बनी इन चार कफ सिरप को लेकर अलर्ट

आपको बता दें कि, WHO के प्रमुख टेड्रोस अदनोम घेब्येयियस ने बीते दिन (5 अक्टूबर) बताया कि यह चार भारतीय कफ सिरप गुर्दे को नुकसान और गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत मामले से जुड़ी है. डब्ल्यूएचओ के अलर्ट के अनुसार इसमें चार उत्पाद प्रोमेथाज़िन ओरल सॉल्यूशन, कोफ़ेक्समालिन बेबी कफ सिरप, मकॉफ़ बेबी कफ सिरप और मैग्रीप एन कोल्ड सिरप हैं.

पढ़ें :- Medical Waste : कोविड से मुकाबले के दौरान बढ़ा चिकित्सकीय कचरे का बोझ, WHO परेशान

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...