1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. इस्तीफे पर पीटीआई में दोफाड़, इमरान छोड़ेंगे नेशनल असेंबली

इस्तीफे पर पीटीआई में दोफाड़, इमरान छोड़ेंगे नेशनल असेंबली

अविश्वास प्रस्ताव के दौरान नेशनल असेंबली का बहिष्कार कर बाहर गए इमरान खान की पार्टी के सांसदों के इस्तीफे पर पार्टी में दोफाड़ की नौबत आ गई है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

इस्लामाबाद, 11 अप्रैल । पाकिस्तान में राजनीतिक हालात दिन-प्रति-दिन करवट ले रहे हैं। अविश्वास प्रस्ताव के दौरान नेशनल असेंबली का बहिष्कार कर बाहर गए इमरान खान की पार्टी के सांसदों के इस्तीफे पर पार्टी में दोफाड़ की नौबत आ गई है। इमरान ने नेशनल असेंबली से इस्तीफे का ऐलान किया है। वहीं पहले प्रधानमंत्री पद के लिए अपने उम्मीदवार शाह महमूद कुरैशी को जिताने की अपील जारी करने वाली इमरान की पार्टी से प्रधानमंत्री पद के चुनाव का बहिष्कार करने की आवाजें भी उठीं।

पढ़ें :- Pakistan National Assembly : इमरान की सरकार को मिले 3 दिन, पाकिस्तान नेशनल एसेंबली का सत्र स्थगित, देखें अब क्या होगा?

पूर्व प्रधानमंत्री के भाई शहबाज शरीफ ने पीएम पद के लिए किया नामांकन

पाकिस्तान में अविश्वास प्रस्ताव से इमरान खान को प्रधानमंत्री पद से हटाने के बाद रविवार को नया प्रधानमंत्री चुनने की प्रक्रिया शुरू हुई। विपक्ष की ओर से पाकिस्तान मुस्लिम लीग – नवाज (पीएमएल-एन) के नेता और पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भाई शहबाज शरीफ ने प्रधानमंत्री पद के लिए नामांकन कराया है। उधर, इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने पूर्व व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को उम्मीदवार बनाया है। कुरैशी ने भी नामांकन भर दिया है। दोनों नामांकन स्वीकार हो गए हैं और सोमवार दोपहर बाद नेशनल असेंबली में नए प्रधानमंत्री का चुनाव होगा।

इस बीच पीटीआई के प्रधानमंत्री उम्मीदवार शाह महमूद कुरैशी ने पीटीआई के सभी सांसदों के इस्तीफा देने की खबरों का खंडन किया है। उन्होंने कहा कि पीटीआई कोर कमेटी की बैठक में अधिकांश सांसदों का मानना था कि नेशनल असेंबली में रहकर अंदर और बाहर नई सरकार के खिलाफ लड़ाई लड़ी जाए। बाद में इमरान खान की अध्यक्षता में हुई पीटीआई सांसदों की बैठक में इस मसले पर साफ दोफाड़ नजर आया। सांसदों का एक समूह इस्तीफे का पक्षधर था, वहीं दूसरा इस्तीफा न देकर संघर्ष की बात कर रहा था। बाद में इसके अधिकार इमरान को सौंप दिए गए। इमरान ने नेशनल असेंबली से इस्तीफे का ऐलान किया और कहा कि वे ऐसे भ्रष्ट लोगों के साथ असेंबली में नहीं बैठेंगे। इसी तरह प्रधानमंत्री चुनाव को लेकर भी भ्रम रहा। सुबह पीटीआई के महासचिव असद उमर ने पार्टी के सभी सांसदों से शाह महमूद कुरैशी को जिताने के लिए प्रधानमंत्री पद के चुनाव के दौरान नेशनल असेंबली में मौजूद रहने की अपील की थी। उन्होंने पार्टी से बगावत करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी भी दी थी। शाम होते होते पीटीआई सदस्यों द्वारा प्रधानमंत्री चुनाव के बहिष्कार की बात भी सामने आई।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...