1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. उत्तराखंड: चंपावत विधायक कैलाश गहतोड़ी का विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा, अध्यक्ष ने किया स्वीकार

उत्तराखंड: चंपावत विधायक कैलाश गहतोड़ी का विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा, अध्यक्ष ने किया स्वीकार

चंपावत विधायक कैलाश गहतोड़ी ने गुरुवार को उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी को अपना इस्तीफा सौंपा। अब इसी सीट से मुख्यमंत्री धामी चुनाव लड़ेंगे।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

देहरादून, 21 अप्रैल। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के चंपावत विधायक कैलाश गहतोड़ी ने गुरुवार को उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी को अपना इस्तीफा सौंपा। विधानसभा अध्यक्ष ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। इस मौके पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, संगठन महामंत्री अजेय कुमार सहित अन्य नेता उपस्थित रहे।

पढ़ें :- उत्तराखंड: केदारनाथ मंदिर के पास हुआ जबरदस्त हिमस्खलन, किसी नुकसान की खबर नहीं

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी खटीमा से विधानसभा चुनाव हार गए थे। अब इसी सीट से मुख्यमंत्री धामी चुनाव लड़ेंगे।

गुरुवार को यमुना कालोनी स्थित विधानसभा अध्यक्ष के आवास पर चंपावत विधायक कैलाश गहतोड़ी ने पत्रकारों की मौजूदगी में विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी को अपना इस्तीफा सौंपा। विधानसभा अध्यक्ष ऋतू खंडूड़ी ने बताया कि विधायक कैलाश गहतोड़ी का इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया।

इस मौके पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि चंपावत के कार्यकर्ताओं ने बैठक कर प्रस्ताव भेजा था कि चंपावत से मुख्यमंत्री चुनाव लड़ें। कार्यकर्ता और जनता की इच्छा को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय नेतृत्व और संगठन ने निर्णय लिया। विधायक गहतोड़ी ने जनता के दिलों पर राज किया है और उन्होंने भी अनेक बार ऐसी इच्छा जाहिर की है। उनका यह मानना है कि मुख्यमंत्री का चुनाव लड़ना चंपावत के विकास में है। हम गहतोड़ी को शुभकामनाएं देते हैं। एक सवाल पर उन्होंने कहा कि उपचुनाव निर्वाचन आयोग पर निर्भर करता है और पार्टी इसके लिए तैयार है।

इस मौके पर कैलाश गहतोड़ी ने कहा कि मैं किसी लायक़ नहीं था लेकिन मेरे संगठन ने मुझे दो-दो बार टिकट दिया। मेरे मातृ संगठन आरएसएस में हजारों-हजार लोग अपने जीवन को राष्ट्र कार्य में लगा रहे हैं। उनसे प्रेरणा लेकर यह मेरा छोटा-सा योगदान है। उत्तराखंड के विकास के लिए और चंपावत की जनता के हित में निर्णय है। मुख्यमंत्री के बगल की सीट थी।इसलिए और ज्यादा भाव आया, उनके लिए इस सीट को खाली करने का। विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा को कम सीट आने की खबरें चल रही थी। ऐसे व्यक्ति को बागडोर मिला और भाजपा भारी बहुमत से चुनाव जीती। अपने क्षेत्र की जनता को धन्यवाद देता हूं कि प्रस्ताव रखने के बाद मुख्यमंत्री को चुनाव लड़ने पर सहमति व्यक्त की।

पढ़ें :- Uttarakhand : IAS अधिकारी रामविलास यादव आय से अधिक सम्पत्ति मामले में फंसे, कई ठिकानों पर उत्तराखंड विजिलेंस की रेड

इस मौके पर मंत्री सौरव बहुगुणा, प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, मंत्री चंदन राम दास, गणेश जोशी, मेयर सुनील यूनियाल गामा, राजपुर विधायक खजान दास, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष अनिल गोयल, प्रदेश मंत्री आदित्य चौहान सहित अन्य मौजूद रहे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...