1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Mumbai News:मनी लॉन्ड्रिंग केस में जेल में बंद संजय राउत को बड़ी राहत,कोर्ट से मिली जमानत

Mumbai News:मनी लॉन्ड्रिंग केस में जेल में बंद संजय राउत को बड़ी राहत,कोर्ट से मिली जमानत

Money Laundering Case:शिव सेना(उद्धव गुट)नेता संजय राउत मनी लॉन्ड्रिंग केस में तीन महीने से जेल में बंद थे,बुधवार को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में शिवसेना सांसद संजय राउत को मुंबई की एक विशेष अदालत ने जमानत दे दी है,इससे राउत को बड़ी राहत मिल गई है,पात्रा ‘चॉल’ पुनर्विकास परियोजना से जुड़े कथित मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में राउत को जेल हुई थी,फिलहाल संजय राउत न्यायिक हिरासत में है मुंबई की आर्थर रोड जेल में बंद हैं

By रेनू मिश्रा 
Updated Date

Mumbai News:शिव सेना(उद्धव गुट)नेता संजय राउत मनी लॉन्ड्रिंग केस में तीन महीने से जेल में बंद थे,बुधवार को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में शिवसेना सांसद संजय राउत को मुंबई की एक विशेष अदालत ने जमानत दे दी है,इससे राउत को बड़ी राहत मिल गई है,पात्रा ‘चॉल’ पुनर्विकास परियोजना से जुड़े कथित मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में राउत को जेल हुई थी,फिलहाल संजय राउत न्यायिक हिरासत में है मुंबई की आर्थर रोड जेल में बंद हैं

पढ़ें :- Maharashtra News:पुणे में भीषण सड़क हादसे में एक साथ टकराई 48 गाड़ियां,अनियंत्रित टैंकर के चलते हुआ हादसा

PMLA (पीएमएलए) यानी धन शोधन निवारण अधिनियम से संबंधित मामलों की सुनवाई के लिए नामित विशेष न्यायाधीश एम.जी. देशपांडे ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद संजय राउत की जमानत याचिका को मंजूर कर लिया. बता दें कि ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय ने राज्यसभा सदस्य संजय राउत को इस साल जुलाई में उपनगरीय गोरेगांव में पात्रा ‘चॉल’ के पुनर्विकास में कथित वित्तीय अनियमितताओं से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में उनकी कथित संलिप्तता के लिए गिरफ्तार किया था.

संजय राउत ने अपनी जमानत याचिका में दावा किया था कि उनके खिलाफ मामला ‘सत्ता के दुरुपयोग’ और ‘राजनीतिक प्रतिशोध’ का उदाहरण है. हालांकि, ईडी ने राउत की याचिका का विरोध करते हुए कहा था कि उन्होंने पात्रा चॉल पुनर्विकास से संबंधित धनशोधन मामले में प्रमुख भूमिका निभाई और धन के लेन-देन से बचने के लिए ‘पर्दे के पीछे’ से काम किया.ईडी की जांच पात्रा चॉल के पुनर्विकास से संबंधित कथित वित्तीय अनियमितताओं और कथित रूप से उनकी पत्नी और सहयोगियों से संबंधित वित्तीय लेनदेन से संबंधित है. मामले की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय ने अदालत से शुक्रवार तक जमानत आदेश को प्रभावी नहीं करने का अनुरोध किया है.

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...