1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. सेवानिवृत्त होने के बाद न्यूटन ने खोजा था गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत

सेवानिवृत्त होने के बाद न्यूटन ने खोजा था गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत

आज के इतिहास में जानें किस समय न्यूटन ने खोजा था गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत?

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

गुरुत्वाकर्षण और पेड़ से सेव गिरने की घटनाः गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत और गति के नियम प्रतिपादित करने वाले इंग्लैंड के महान भौतिकी विज्ञानी, गणितज्ञ और दार्शनिक सर आइजक न्यूटन का जन्म 4 जनवरी 1643 में हुआ था। गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत को प्रतिपादित करने के संदर्भ में न्यूटन के सामने पेड़ से सेब गिरने की बहुप्रचारित घटना का उल्लेख मिलता है। कहा जाता है कि इसी घटना ने न्यूटन को गुरुत्व के बल से परिचय कराया। इस संदर्भ में न्यूटन के सहयोगी रहे जॉन कनदुइत ने लिखा थाः

पढ़ें :- औरंगजेब की नींद उड़ा देने वाले संभाजी का आज ही के दिन हुआ था राज्याभिषेक

1666 में वे कैम्ब्रिज से सेवानिवृत्ति के बाद अपनी मां के पास लिंकनशायर चले गए। वहां एक बाग में घूमते समय पेड़ से नीचे की ओर सेब को गिरते हुए देखकर उन्हें विचार आया कि गुरुत्व की शक्ति धरती से एक निश्चित दूरी तक सीमित नहीं है। यह शक्ति उससे भी कहीं ज्यादा विस्तृत हो सकती है, जितना आमतौर पर सोचा जा सकता था। उन्होंने खुद से सवाल किया कि क्या ऐसा उतना ऊपर भी होगा जितना ऊपर चांद है और यदि ऐसा है तो यह उसकी गति को प्रभावित करेगा और संभवतः उसे उसकी कक्षा में बनाए रखेगा।

सर आइजक न्यूटन का शोधपत्र ‘प्राकृतिक दर्शन के गणितीय सिद्धांत’ 1687 में प्रकाशित हुआ जिसमें गुरुत्वाकर्षण एवं गति के नियमों की व्याख्या की गयी, जिसने क्लासिकल भौतिकी की नींव रखी। यांत्रिकी में न्यूटन ने संवेग तथा कोणीय संवेग, दोनों के संरक्षण के सिद्धांतों को स्थापित किया। उन्होंने न्यूटन विधि का विकास किया।

अन्य अहम घटनाएं:

1906: दृष्टिहीनों को पढ़ने-लिखे में मददगार लिपि के आविष्कारक लुई ब्रेल का जन्म, जो तीन वर्ष की उम्र में एक दुर्घटना की वजह से खुद आंखों की रोशन गंवा बैठे थे।

पढ़ें :- क्या आपको मालूम है आज के दिन क्यों मनाया जाता है सेना दिवस?

1948: दक्षिण पूर्व एशियाई देश बर्मा (म्यांमार) को ब्रिटेन से आजादी मिली।

1958: न्यूजीलैंड के सर एडमंड हिलेरी ने दक्षिणी ध्रुव पर कदम रखा।

1964: वाराणसी लोकोमोटिव वर्क्स में डीजल का पहला लोकोमोटिव बनकर तैयार।

1966: भारत-पाकिस्तान के बीच 1965 के युद्ध के बाद ताशकंद में शिखर बैठक की शुरुआत।

2010: संयुक्त अरब अमीरात के दुबई स्थित बुर्ज खलीफा को आधिकारिक तौर पर खोला गया, जिसे उस समय दुनिया की सबसे ऊंची इमारत कहा गया।

पढ़ें :- कभी लाईब्रेरियन तो कभी कार्टूनिस्ट से फिल्म दुनिया तक का सफर तय किया इस महान फिल्मकार ने

हिन्दुस्थान समाचार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...