Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Uzbekistan News: ‘मेड-इन-इंडिया सिरप’ पीने से 18 बच्चों की मौत, जांच शुरू ,WHO भी कर रहा मदद

Uzbekistan News: ‘मेड-इन-इंडिया सिरप’ पीने से 18 बच्चों की मौत, जांच शुरू ,WHO भी कर रहा मदद

उज्बेकिस्तान से एक बड़ी खबर सामने आ रही है,उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दावा किया है कि 'मेड-इन-इंडिया सिरप'पीने से 18 बच्चों की मौत हो गई है,उत्तर-प्रदेश स्थित मैरियन बायोटेक द्वारा निर्मित ‘डॉक-1 मैक्स’ के टैबलेट और सिरप के सेवन से कई बच्चों की मौत हो गई है,उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्राथमिक प्रयोगशाला अध्ययनों के बाद कहा गया है कि ‘डॉक-1 मैक्स’ सिरप में घातक रसायन एथिलीन ग्लाइकॉल कि मौजूदगी से बच्चों की मौत हुए है

By रेनू मिश्रा 

Updated Date

Tashkent: उज्बेकिस्तान से एक बड़ी खबर सामने आ रही है,उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दावा किया है कि ‘मेड-इन-इंडिया सिरप’पीने से 18 बच्चों की मौत हो गई है,उत्तर-प्रदेश स्थित मैरियन बायोटेक द्वारा निर्मित ‘डॉक-1 मैक्स’ के टैबलेट और सिरप के सेवन से कई बच्चों की मौत हो गई है,उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्राथमिक प्रयोगशाला अध्ययनों के बाद कहा गया है कि ‘डॉक-1 मैक्स’ सिरप में घातक रसायन एथिलीन ग्लाइकॉल कि मौजूदगी से बच्चों की मौत हुए है,रिपोर्ट में कहा गया है कि इन बच्चों को सांस से जुड़ी बीमारी के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

पढ़ें :- रक्षामंत्री बोले- पूरी दुनिया में भारत का कद बढ़ा, अंतरराष्ट्रीय मंचों पर गौर से सुनीं जाती हैं हमारी बातें

पश्चिम अफ्रीकी देश गाम्बिया में बच्चों की मौत का विवाद सुलझने से पहले ही यह नया विवाद सामने आ गया,उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने जिस रसायन (एथिलीन ग्लाइकॉल) को घातक बताते हुए बच्चों की मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया है गाम्बिया में भी बच्चों की मौतों के लिए इसी रसायन को जिम्मेदार ठहराया गया था. घटना की पुष्टि के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को भेजे गए मेल के जवाब में बताया कि ‘डब्ल्यूएचओ उज्बेकिस्तान में स्वास्थ्य अधिकारियों के संपर्क में है और आगे की जांच में सहायता के लिए तैयार है’.

भारतीय दवा कंपनी मैरियन बायोटेक और उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय को भेजे गए मेल का कोई जवाब नहीं आया. वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के दो प्रवक्ताओं को भेजे गए एक टेक्स्ट संदेश पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.भारत के औषधि महानियंत्रक डॉ.वी.जी. सोमानी ने कहा था कि गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत से जोड़े गये भारत में निर्मित चार कफ सिरप के नमूने, जिनकी यहां की सरकारी प्रयोगशाला में जांच की गई, नियमों के अनुरूप पाए गए है. सरकार ने भी बीते 15 दिसंबर को संसद में बताया था कि मेडेन फार्मा की खांसी (कफ) की दवा के नमूने गुणवत्ता पर खरे पाए गए हैं.

उज्बेकिस्तान में भारतीय दवा से बच्चों की मौत का मामला ऐसे समय में आया है, जबकि डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट में गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत भारत निर्मित खांसी के चार सिरप से होने की आशंका जताई गई है. हालांकि, भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को बताया है कि गाम्बिया ने सूचित किया है कि कफ सिरप के सेवन और बच्चों की मौत के मामले के बीच अभी तक कोई प्रत्यक्ष संबंध स्थापित नहीं किया गया है, और जिन बच्चों की मौत हुई थी, उन्होंने इस सिरप का सेवन नहीं किया था.

पढ़ें :- मास्को से गोवा आ रहे विमान को मिली बम से उड़ाने की धमकी, उज्बेकिस्तान में हुई इमरजेंसी लैंडिंग
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com