Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. Joshimath Land Sinking: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पहुंचे जोशीमठ, प्रभावित क्षेत्रों का लिया जायजा

Joshimath Land Sinking: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पहुंचे जोशीमठ, प्रभावित क्षेत्रों का लिया जायजा

Joshimath Land Sinking: उत्तराखंड से एक बड़ी खबर सामने आ रही है यहाँ के सीएम पुष्कर सिंह धामी जोशीमठ ने प्रभावित छेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद जायजा भी लिया। धामी ने प्रभावित क्षेत्रों से करीब 600 को तुरंत बाहर निकालने का आदेश दिया। और प्रभित छेत्रों में रेह रहे लोगों से मुलाक़ात भी की।

By इंडिया वॉइस 

Updated Date

Joshimath Land Sinking: उत्तराखंड से एक बड़ी खबर सामने आ रही है यहाँ के सीएम पुष्कर सिंह धामी जोशीमठ ने प्रभावित छेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद जायजा भी लिया। धामी ने प्रभावित क्षेत्रों से करीब 600 को तुरंत बाहर निकालने का आदेश दिया। और प्रभित छेत्रों में रेह रहे लोगों से मुलाक़ात भी की। बता दें कि जोशीमठ में मकानों में दरारें आ गई हैं और लोग ठंड में डेरा डाले हुए हैं। यहां करीब 600 घरों और अन्य संरचनाओं में मिट्टी के खिसकने के कारण दरारें आ गई हैं। जमीन धंसने से मकानों में दरारें आने से दहशत का माहौल है।

पढ़ें :- Joshimath Crisis: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने प्रभावित परिवारों को अंतरिम सहायता के रूप में 1.5 लाख रुपये देने की घोषणा की

धामी ने जोशीमठ का किया हवाई सर्वेक्षण
मुख्यमंत्री ने जोशीमठ का हवाई सर्वेक्षण किया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने यहां प्रभावित क्षेत्रों का जमीनी निरीक्षण भी किया और प्रभावित परिवारों से मुलाकात भी की। राज्य सरकार ने शुक्रवार को उन घरों में रहने वाले लगभग 600 परिवारों को तत्काल खाली करने का आदेश दिया, जिनमें भारी दरारें आ गई हैं।

तीर्थ और पर्यटक स्थल का द्वार है जोशीमठ
बता दें कि जोशीमठ बद्रीनाथ, हेमकुंड साहिब जैसे प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों का प्रवेश द्वार है और इसे उस स्थान के रूप में जाना जाता है जहां सदियों पहले आदि गुरु शंकराचार्य ने तपस्या की थी।

सूत्रों ने बताया कि जोशीमठ-मलारी सीमा सड़क, जो भारत-चीन सीमा को जोड़ती है, जोशीमठ में भूस्खलन के कारण कई स्थानों पर दरारें आ गई हैं।

जोशीमठ में एक मंदिर शुक्रवार की शाम को ढह गया, जो एक साल से अधिक समय से अपने घरों की भारी दरार वाली दीवारों के बीच लगातार भय के साये में जी रहे निवासियों के लिए चिंता का विषय है। शहर के इलाके में घरों की दीवारों और फर्श में दरारें दिन-ब-दिन गहरी होती जा रही हैं, जो लोगों के लिए खतरे की घंटी है।

पढ़ें :- सीएम पुष्कर सिंह धामी पहुंचे दून मेडिकल कॉलेज, ओटी, इमरजेंसी और आईसीयू ब्लॉक भवन का किया लोकार्पण

पहाड़ एक बार फिर ‘प्राकृतिक और मानवजनित’ आपदा का शिकार हो रहा है? आखिर देवभूमि का जोशीमठ किनके कर्मों की सजा भुगत रहा है? कुछ ऐसे ही सवाल लोगों के मन में उठ रहे हैं। कुछ ऐसे ही सवालों का जवाब देते हुए देहरादून स्थित वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी के निदेशक कलाचंद सेन ने अपनी राय रखी। पढ़ें पूरी खबर

निर्माण परियोजनाओं, गतिविधियों पर लगाई रोक
आपको बता दें कि, उत्तराखंड सरकार ने जोशीमठ शहर में सभी तरह की निर्माण परियोजनाओं और निर्माण गतिविधियों पर रोक लगा दी है। जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने शनिवार को कहा कि उत्तराखंड के चमोली जिले के जोशीमठ और उसके आसपास सभी निर्माण गतिविधियों को रोक दिया गया है, क्योंकि कस्बे की इमारतों में दरारें आ गई हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com