1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. National Defense Academy : वाइस एडमिरल अजय कोचर राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के कमांडेंट नियुक्त, कार्यभार संभाला

National Defense Academy : वाइस एडमिरल अजय कोचर राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के कमांडेंट नियुक्त, कार्यभार संभाला

वाइस एडमिरल ने विमानवाहक पोत INS विक्रमादित्य की कमान संभाली। कोचर ने ही तैयार की भविष्य के समुद्री परिप्रेक्ष्य और क्षमताओं में वृद्धि की योजना।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 01 अप्रैल। वाइस एडमिरल अजय कोचर को राष्ट्रीय रक्षा अकादमी का कमांडेंट नियुक्त किया गया है। उन्होंने शुक्रवार को एयर मार्शल संजीव कपूर से चार्ज लिया। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र के रूप में वाइस एडमिरल अजय कोचर को 01 जुलाई, 1988 को भारतीय नौसेना में कमीशन दिया गया था। वो डिफेंस सर्विस स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन, नेवल वॉर कॉलेज, मुंबई और यूनाइटेड किंगडम में रॉयल कॉलेज ऑफ डिफेंस स्टडीज से स्नातक हैं।

पढ़ें :- अगले साल NDA की परीक्षा में शामिल होंगी महिलाएं, मई से शुरू होगी दाखिले की तैयारी

कई महत्वपूर्ण और चुनौतीपूर्ण पदों पर काम किया

फ्लैग ऑफिसर कोचर ने अपने 34 साल के करियर में कई महत्वपूर्ण और चुनौतीपूर्ण पदों पर काम किया है। अजय कोचर भारतीय नौसेना के पश्चिमी बेड़े की तलवार शाखा के फ्लीट कमांडर रहे हैं, जहां उन्होंने महत्वपूर्ण परिचालन मिशनों, विदेशी द्विपक्षीय अभ्यासों और प्रमुख HADR टास्किंग के लिए बेड़े का नेतृत्व किया। उन्होंने भारत के एकमात्र विमानवाहक पोत INS विक्रमादित्य की कमान संभाली है। उनके कार्यकाल के दौरान पूर्व और पश्चिम दोनों तटों पर संचालन के लिए विमानवाहक पोत को तैनात किया गया था। उन्हें कैलिनिनग्राद, रूस में नौसेना के लिए एक फ्रंटलाइन फ्रिगेट कमीशन करने का गौरव हासिल है। उनकी अन्य कमांड नियुक्तियों में आईएनएस कृपाण, एक मिसाइल कार्वेट और ऑपरेशन पराक्रम के दौरान मिसाइल पोत शामिल हैं।

फ्लैग ऑफिसर की स्टाफ नियुक्तियों में संयुक्त निदेशक नौसेना योजना और रक्षा मंत्रालय (नौसेना) के एकीकृत मुख्यालय में स्टाफ आवश्यकताओं के निदेशक शामिल हैं, जिसमें उन्होंने भारतीय नौसेना के लिए भविष्य के समुद्री परिप्रेक्ष्य और क्षमताओं में वृद्धि की योजना तैयार की। उन्होंने भारतीय नौसेना के लिए वाहक परियोजनाओं के सहायक नियंत्रक और युद्धपोत उत्पादन और अधिग्रहण के सहायक नियंत्रक के रूप में प्रमुख जहाज निर्माण परियोजनाओं का संचालन किया है। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) में नियुक्ति होने से उनके अनुभव का लाभ एनडीए को संचालन, प्रशिक्षण और मानव संसाधन प्रबंधन के सभी क्षेत्रों में लाभ मिलेगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...