1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. रायबरेली शराब कांड में UP पुलिस की बड़ी कार्रवाई, शराब के ठेके पर चलाया बुलडोजर

रायबरेली शराब कांड में UP पुलिस की बड़ी कार्रवाई, शराब के ठेके पर चलाया बुलडोजर

आरोपी प्रधान के घर को भी सील कर दिया गया है और जांच की जा रही है। यहां भी प्रशासन बुलडोजर चलाने की तैयारी में है, जिससे फरार प्रधान के परिजन खौफ़जदा हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

Rai Bareli Liquor Case : जहरीली शराब पीने से हुई मौतों के बाद प्रशासन ने कारवाई तेज़ कर दी है, जिसकी शासन के उच्चाधिकारियों द्वारा लगातार निगरानी की जा रही है। रविवार को इसी मामले में पहाड़पुर स्थित शराब के ठेके पर प्रशासन ने अपना बुलडोजर चलाया और दुकान को जमीदोंज कर दिया।

पढ़ें :- UP में 10 मार्च के बाद महिलाओं को सरकारी बसों में मुफ्त यात्रा : CM योगी

इस दौरान डीएम एसपी सहित भारी मात्रा में पुलिस फ़ोर्स मौजूद रही। आरोपी प्रधान के घर को भी सील कर दिया गया है और जांच की जा रही है। यहां भी प्रशासन बुलडोजर चलाने की तैयारी में है, जिससे फरार प्रधान के परिजन खौफ़जदा हैं। इसके पहले दुकान मालिक धीरेन्द्र सिंह को हिरासत में लिया गया है और कड़ी पूछताछ की जा रही है जबकि सेल्समैन रामप्रताप को जेल भेज दिया गया है।

शराब पीने के बाद 12 लोगों की हुई थी मौत

उल्लेखनीय है कि मंगलवार के दिन इसी शराब के ठेके से शराब दी गई थी, जिसे पीने के बाद 12 लोगों ने अपनी जान गंवा दी। जांच के बाद जिस शख़्स को मुख्य दोषी माना जा रहा है वह है बगल के गांव पिण्डारी का प्रधान केतन उर्फ प्रवीण सिंह, जो इस ठेके का संचालन करता है।

वह प्रतापगढ़ स्थित अपनी ससुराल से शराब लाकर दुकान में देता था। घटना के दिन भी दो पेटी शराब प्रतापगढ़ से ही आई थी जिसे मृतकों और उनके परिजनों ने इसी ठेके से खरीदा था। इस बात की जानकारी सेल्समैन रामप्रताप ने पुलिस को दी है।

पढ़ें :- गुरुवार को अमेठी और प्रयागराज में रैली करेंगे प्रधानमंत्री मोदी

35 लोग अभी भी जिंदगी और मौत से लड़ रहे हैं 

महराजगंज क्षेत्र के पहाड़पुर गांव में रामधनी के यहां एक दावत थी, जिसमें करीब सौ लोगों ने शराब का सेवन किया था,जिसमें 12 लोगों की जान चली गई और 35 अभी भी जीवन के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इनमें 25 का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है और बाकी को लखनऊ में भर्ती कराया गया है।

घटना के बाद से ही प्रशासन ने कार्रवाई शुरू कर दी और वेन्ड्रीज शराब को प्रतिबंधित कर दिया। सरकारी ठेकों पर छापेमारी भी तेज़ हो गई,जिसका असर यह हुआ कि इन धंधे से जुड़े लोगों में अफरातफरी मच गई और सड़कों के किनारे और जंगलों में अवैध शराब को फेंकना भी शुरू कर दिया।

 

पढ़ें :- खीरी : ईवीएम में फेवीक्विक लगाने के मामले में दो के खिलाफ मुकदमा दर्ज
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...