1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Jharkhand : विधायकों से नकदी मिलने का मामला, CID ने एक भवन से बरामद किया 3 लाख रुपए से ज्यादा का कैश

Jharkhand : विधायकों से नकदी मिलने का मामला, CID ने एक भवन से बरामद किया 3 लाख रुपए से ज्यादा का कैश

CID के एक सूत्र के मुताबिक दफ्तर से 3 लाख 31 हजार 700 रुपये नकदी बरामद की गई है। इसके अलावा 250 चांदी के सिक्के भी मिले हैं। साथ ही कई सारे बैंक अकाउंट और कारोबार से संबंधित दस्तावेज बरामद किए गए हैं।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

कोलकाता, 2 अगस्त। झारखंड कांग्रेस के तीनों विधायकों की गाड़ी से 49 लाख रुपये नगदी बरामद होने के मामले में जांच कर रही राज्य CID की टीम ने मंगलवार को लालबाजार स्थित कोलकाता पुलिस मुख्यालय के सामने बीकानेर भवन के एक दफ्तर में छापेमारी की है। जहां से 3 लाख 31 हजार 700 रुपये नकदी बरामद हुई है।

पढ़ें :- National Herald Case : नेशनल हेराल्ड मामले में ED की बड़ी छापेमारी, हेराल्ड हाउस सहित 12 स्थानों पर कार्रवाई

कॉस्मापॉलिटन कमोडिटी प्राइवेट लिमिटेड में रेड

CID के एक सूत्र के मुताबिक दफ्तर से 3 लाख 31 हजार 700 रुपये नकदी बरामद की गई है। इसके अलावा 250 चांदी के सिक्के भी मिले हैं। साथ ही कई सारे बैंक अकाउंट और कारोबार से संबंधित दस्तावेज बरामद किए गए हैं। DIG रैंक के एक अधिकारी के नेतृत्व में छापेमारी अभियान चलाया गया है। सूत्रों ने बताया है कि कॉस्मापॉलिटन कमोडिटी प्राइवेट लिमिटेड नाम के कंपनी के दफ्तर में छापेमारी हुई है। मूल रूप से यहां शेयर ट्रेडिंग का काम होता है, लेकिन CID का दावा है कि इसकी आड़ में यहां बड़े पैमाने पर हवाला का कारोबार होता रहा है।

कारोबारी महेंद्र अग्रवाल हवाला कारोबार से जुड़ा

CID अधिकारियों ने बताया है कि हावड़ा के पांचला थाना क्षेत्र में पिछले शनिवार की शाम 3 इनोवा गाड़ी में पकड़े गए झारखंड कांग्रेस के तीनों विधायकों को लालबाजार स्थित कोलकाता पुलिस मुख्यालय के सामने इसी बीकानी (बीकानेर) भवन से 49 लाख रुपये उपलब्ध कराए गए थे। जिस दफ्तर में छापेमारी की गई है, वो महेंद्र अग्रवाल नाम के कारोबारी का है। दावा है कि वो हवाला कारोबार से जुड़ा हुआ है और उसी ने रुपये झारखंड कांग्रेस के विधायकों को उपलब्ध कराए थे। महेंद्र फिलहाल फरार है। साल्टलेक में उसका आवास है, जहां ED के अधिकारियों ने छापेमारी की थी, लेकिन वो मिला नहीं। उसकी तलाश तेज कर दी गई है। जांच अधिकारियों का दावा है कि झारखंड कांग्रेस के तीनों विधायकों के पास से बरामद रुपये का संबंध सीधे तौर पर इस दफ्तर से रहा है।

पढ़ें :- Jharkhand : झारखंड विधानसभा सत्र में गूंजा कांग्रेसी विधायकों का मुद्दा, सरयू ने कहा- सीएम सोरेन करें मामला स्पष्ट

गौरतलब है कि झारखंड कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि इन तीनों विधायकों को झारखंड की झामुमो-कांग्रेस गठबंधन सरकार गिराकर बीजेपी की सरकार बनाने के लिए रुपये दिए गए थे। आरोप लगाए गए थे कि असम के मुख्यमंत्री हेमंत विश्व शर्मा ने रुपये दिलवाए थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...