1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Jharkhand : अपनी मांगों को लेकर SBM कर्मियों ने निकाली हेमंत सरकार के खिलाफ ‘निंदा यात्रा’, सरकार पर सौतेला व्यवहार करने का आरोप

Jharkhand : अपनी मांगों को लेकर SBM कर्मियों ने निकाली हेमंत सरकार के खिलाफ ‘निंदा यात्रा’, सरकार पर सौतेला व्यवहार करने का आरोप

सोमवार को SBM कर्मियों ने राजभवन से अल्बर्ट एक्का चौक तक "निंदा यात्रा" निकालने की कोशिश की।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

रांची, 03 जनवरी। राजभवन के सामने पिछले 35 दिनों से स्वच्छ भारत मिशन (SBM) ग्रामीण के अनुबंधकर्मी अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं। सोमवार को अनुबंधकर्मियों ने राजभवन से अल्बर्ट एक्का चौक तक ‘निंदा यात्रा’ निकालने की कोशिश की। लेकिन प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों को राजभवन से थोड़ी दूर आगे बढ़ने पर ही रोक दिया। उन्हें आगे जाने की मंजूरी नहीं दी गई। जिससे गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और मंत्री मिथिलेश ठाकुर के खिलाफ जमकर नारे लगाए।

पढ़ें :- राज्य सरकार तुष्टीकरण की राजनीति में पूरी तरह लीन है, नमाज कक्ष आवंटित करना उसका बड़ा उदाहरण है : बाबूलाल मरांडी

‘निंदा यात्रा’ के दौरान संघ के नेता आशीष यादव ने कहा कि सरकार को इस यात्रा के जरिए से वो सचेत करना चाहते हैं। सरकार बातचीत कर हमारी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करे। जब सभी राज्यों ने SBMG कर्मियों का समायोजन केंद्र के दिशानिर्देश के आलोक में कर दिया है, तो झारखंड के भी सभी कर्मिचारियों का समायोजन करना चाहिए।

पढ़ें :- NIA झारखंड में माओवादियों और आपराधिक गिरोह पर लगाम लगाने में जुटी

बतादें कि झारखंड के 522 SBM कर्मियों के अनुबंध को 31 दिसंबर 2021 से खत्म कर दिया गया है। जिसकी वजह से ये सभी कर्मी बेरोजगार हो गये हैं। इन सभी की मांग है कि कई राज्यों की तरह झारखंड में भी SBM कर्मियों को दोबारा बहाल किया जाए। ये लोग अपनी मांग को लेकर के पिछले 35 दिनों से राजभवन के सामने धरना पर बैठे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...