Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. झारखंड
  3. Garhwa :आदमखोर तेंदुआ के लिए हैदराबाद से आया शूटर, मेरठ से पिंजरा,100 गांवों में है दहशत

Garhwa :आदमखोर तेंदुआ के लिए हैदराबाद से आया शूटर, मेरठ से पिंजरा,100 गांवों में है दहशत

आदमखोर तेंदुए से निजात पाने के लिए हैदराबाद का मशहूर सूटर नवाब सफत अली खान को लाखों रुपये खर्च कर गढ़वा बुलाया गया है.

By Ruchi Kumari 

Updated Date

Garhwa Leopard: एक तेंदुए की दहशत पूरे पलामू प्रमंडल को डरा कर रखा हुआ है, जिसे लेकर दिल्ली से रांची और रांची से गढ़वा तक के वन विभाग के अधिकारी भी परेशान हो रखे हैं. इस आदमखोर तेंदुए से किसी तरह निजात पाना चाहता हैं. जिसके लिए हैदराबाद का मशहूर सूटर नवाब सफत अली खान को लाखों रुपये खर्च कर गढ़वा बुलाया गया है, ताकि इस समस्या से निजात पाया जा सके. इधर वन विभाग के अधिकारी तेंदुवा को पकड़ने के लिए ‘ऑपरेशन तेंदुआ’ का आगाज कर दिया है. झारखण्ड के गढ़वा में एक आदमखोर तेंदुए के द्वारा तीन बच्चों पर हमला कर मारने के बाद मुख्य वन पदाधिकारी ने इस खुनी तेंदुआ को आदमखोर घोषित कर दिया. जिसके बाद वन विभाग की टीम इस तेंदुए को पकड़ने के लिए एक से बढ़कर एक अत्याधुनिक पिंजड़ा और जाल मेरठ से मंगाया है, ताकि तेंदुआ को पकड़ा जा सके.

पढ़ें :- अडानी मामले को लेकर विपक्ष का जोरदार हंगामा, लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित

तेंदुआ को जिंदा पकड़ने की होगी कोशिश

विभाग ने अंतिम विकल्प के रूप मे तेंदुआ को मारने या बेहोश करने के लिए हैदराबाद के मशहूर सूटर नवाब सफत अली खान की टीम को गढ़वा बुलाया है. नवाब सफत अली गढ़वा पहुंचते ही तेंदुए की खोज में भंडरिया, रंका, रामकंडा और चिनिया के जंगलों में रात के अंधेरे में ऑपरेशन तेंदुआ चला रहे हैं. बीती देर रात्रि भंडरिया के बैरवा के जंगल मे तेंदुआ को सफत अली खान की टीम ने जंगली सुवर का पीछा करते हुआ देखा, तो सभी एलर्ट हो कर तेंदुआ का पीछा किया, लेकिन वह कहीं दूर जाकर छिप गया.

सफत अली खान की टीम भगौलिक आंकलन कर रहे हैं, ताकि उसे जिंदा पकड़ा जा सके. टीम का मानना है कि आखिरी विकल्प शूट करना होगा. नवाब सफत अली खान ने बताया कि कोशिश हमारी हमेशा रहती है, इसे हम जिंदा ही पकड़ ले.

मेरठ से तेंदुए के लिए मंगाया पिंजरा

पढ़ें :- Delhi : दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी सफलता, रोहिणी में मुठभेड़ के बाद 2 ​अपराधी गिरफ्तार

इसके बाद बीस किलोमीटर के दायरे में जंगल में मेरठ से मंगाया गया बड़ा केज और जाल को लगाया जा रहा है. उसके साथ सभी पिंजड़े में एक-एक सुवर को बांधा जा रहा है, ताकि तेंदुआ जाल में आ जाए और उसे पकड़ लिया जाए. नबाब सफत अली खान का मानना है कि सुवर के सुगंध से तेंदुवा जल्दी पिंजड़ा में फंस सकता है

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com