1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. गोरखपुर में बनेगा प्रदेश का पहला स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, पढ़ें क्या होगी विशेषता ?

गोरखपुर में बनेगा प्रदेश का पहला स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, पढ़ें क्या होगी विशेषता ?

प्रदेश के मुख्यमंत्री ने प्रदेश के पहले स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट का शिलान्यास किया है। पर्यटन विभाग द्वारा संचालित इस संस्थान में प्रवेश लेने वाले छात्रों को कम खर्च पर होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करने का मौका मिलेगा।

By Ujjawal Mishra 
Updated Date

प्रदेश में अगले कुछ महीनों में विधानसभा का चुनाव होना है ऐसे में प्रदेश की योगी सरकार हर रोज प्रदेशवासियों को नई नई परियोजनाओं की भेंट दे रही है। आज उसी सिलसिले में आगे बढ़ते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण में प्रदेश के पहले स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (SIHM) का शिलान्यास किया। इस दौरान ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ महाराज की मूर्ति का अनावरण भी हुआ।

पढ़ें :- Uttar Pradesh : सीएम योगी ने पेश किया अपने 100 दिन के कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड, देखें क्या रहीं उपलब्धियां

केंद्र सरकार ने दिए 16.50 करोड़, 10 करोड़ से बनेगी बिल्डिंग

इसके लिए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने पहले ही मंजूरी दे दी थी और 16.50 करोड़ रुपये आवंटित भी कर दिए हैं। इसमें 10 करोड़ रुपये से बिल्डिंग निर्माण होगा, जबकि 2.50 करोड़ रुपये से उपकरण खरीद किये जाएंगे। चार करोड़ रुपये से छात्रावास का निर्माण होगा।

पर्यटन विभाग द्वारा संचालित इस संस्थान में प्रवेश लेने वाले छात्रों को कम खर्च पर होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई करने का मौका मिलेगा। इससे न केवल गोरखपुर, बल्कि पूर्वांचल समेत बिहार से सटे जिलों और नेपाल के विद्यार्थियों को भी लाभ मिलेगा। शहर के होटलों के साथ इस संस्थान का अनुबंध भी होगा ताकि अध्ययन पूर्ण करने वाले छात्रों को तत्काल प्लेसमेंट भी मिल सके।

आईएचएम से इस इंस्टीट्यूट को कराया जाएगा पंजीकृत 

पढ़ें :- योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, प्रदेश में बिना अनुमति नहीं निकाल पाएंगे धार्मिक जुलूस व शोभायात्रा

करीब चार महीने पहले ही मानव संसाधन विकास प्रभाग के उप महानिदेशक, प्रदेश सरकार के प्रमुख सचिव और महाप्रबंधक पर्यटन एवं संस्कृति विभाग से इंस्टीट्यूट निर्माण के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर भेजने का निर्देश दिया था। मानव संसाधन विकास प्रभाग की तरफ से राज्य सरकार को इंडियन होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) सोसायटी में इस इंस्टीट्यूट का पंजीकरण कराया जाएगा।

अनुमानित लागत से अधिक खर्च होने की दशा में उसका वहन राज्य सरकार करेगी। राज्य सरकार ने इसके लिए अपनी सहमति दी है। जुलाई में पिपराइच ब्लॉक के अगया गांव में पांच एकड़ जमीन इंस्टीट्यूट के नाम अंकित कर दी गई थी। लेकिन महाप्रबंधक पर्यटन विभाग ने इसे अनुपयोगी बताते हुए जिला प्रशासन को दूसरी जगह जमीन चिह्नित करने के लिए कहा था।

डिप्लोमा से लेकर मास्टर डिग्री तक के पाठ्यक्रम होंगे संचालित 

डीएम विजय किरन आनंद ने सीईओ गीडा को गीडा क्षेत्र में ही इंस्टीट्यूट के लिए जमीन चिह्नित करने को कहा था। आखिरकार गीडा में ही इंस्टीट्यूट के लिए जमीन चिह्नित कर ली गई। संस्थान में होटल मैनेजमेंट के क्षेत्र में डिप्लोमा से लेकर बैचलर एवं मास्टर डिग्री तक के पाठ्यक्रम संचालित होंगे। संस्थान में 400 से अधिक छात्र-छात्राओं को पढ़ाने की व्यवस्था होगी। संस्थान में शिक्षकों और सभी कर्मचारियों की नियुक्ति नियमित होगी।

पढ़ें :- मुख्यमंत्री योगी ने देखी 100 दिन की कार्ययोजना, निर्धारित किया विभागों का लक्ष्य
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...