Booking.com

राज्य

  1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तराखंड
  3. Uttarakhand : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत सहित कई कांग्रेस उम्मीदवार नहीं कर पाए मतदान, जानें क्या है वजह ?

Uttarakhand : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत सहित कई कांग्रेस उम्मीदवार नहीं कर पाए मतदान, जानें क्या है वजह ?

कांग्रेस पार्टी के दूसरे वरिष्ठ नेता यशपाल आर्य भी ऊधमसिंह नगर जनपद की बाजपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने और नाम हल्द्वानी विधानसभा में होने के कारण अपने लिए मतदान नहीं कर पाए।

By Ujjawal Mishra 

Updated Date

Uttarakhand Election 2022 : उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में जहां हर एक वोट की कीमत बहुत मायने रखती है। खासकर उम्मीदवारों के लिए जो मतदाताओं से एक-एक वोट को अपने पक्ष में देने की गुहार लगाते हैं, लेकिन नैनीताल जनपद में कई उम्मीदवार स्वयं न केवल खुद को वोट दे पाए, बल्कि कई मतदान ही नहीं कर पाए।

पढ़ें :- Dehradun: पूर्व सीएम हरीश रावत की तबीयत बिगड़ी,अस्पताल में कराया भर्ती

नामांकन सूची नाम ना होने के कारण नहीं डाल सकें वोट

इस सूची में पहला नाम प्रदेश के पूर्व सीएम एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत का है, जो जनपद की लालकुआं विधानसभा सीट से उम्मीदवार हैं, परंतु उनका नाम देहरादून की धरमपुरा विधानसभा की नामांकन सूची में है। इस कारण वह मतदान ही नहीं कर पाए।

इसी तरह कांग्रेस पार्टी के दूसरे वरिष्ठ नेता यशपाल आर्य भी ऊधमसिंह नगर जनपद की बाजपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने और नाम हल्द्वानी विधानसभा में होने के कारण अपने लिए मतदान नहीं कर पाए। अलबत्ता उनके पुत्र नैनीताल के निवर्तमान विधायक संजीव आर्य ने बताया कि संभवतया वह सुबह हल्द्वानी में मतदान कर बाजपुर को निकले हों। अलबत्ता उनके द्वारा मतदान किए जाने की पुष्ट सूचना नहीं है।

संजीव आर्य भी नहीं कर सकें मतदान

पढ़ें :- उत्तराखंड में दोपहर तीन बजे तक 49 फीसदी से अधिक हुआ मतदान, आपस में भिडे़ भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ता

इसी तरह स्वयं संजीव आर्य भी हल्द्वानी में नाम होने और नैनीताल से चुनाव लड़ने के कारण खुद के लिए मतदान नहीं कर पाए। अलबत्ता, उन्होंने बताया कि नैनीताल की सभी 42 विधानसभाओं का निरीक्षण करने के उपरांत वह हल्द्वानी के छड़ायल स्थित अपने बूथ पर मतदान करने जा रहे हैं। नैनीताल विधानसभा के एक अन्य, बसपा के उम्मीदवार राजकमल सोनकर भी हल्द्वानी से होने की वजह से खुद के लिए मतदान नहीं कर पाए।

रामनगर से कांग्रेस उम्मीदवार डॉ. महेंद्र सिंह पाल नहीं कर सके मतदान 

इसी तरह रामनगर से कांग्रेस उम्मीदवार डॉ. महेंद्र सिंह पाल भी नैनीताल से होने और रामनगर सीट से लड़ने की वजह से मतदान नहीं कर पाए। रामनगर से सल्ट चुनाव लड़ने को भेजे गए कांग्रेस उम्मीदवार रणजीत सिंह रावत भी रामनगर विधानसभा क्षेत्र के मतदाता होने की वजह से मतदान नहीं कर पाए। इसी तरह कांग्रेस के टिकट पर गंगोलीहाट सीट से मैदान में उतरे हल्द्वानी विधानसभा के निवासी खजान चंद्र गुड्डू भी मतदान नहीं कर पाए।

बुजुर्गों ने भी लिया मतदान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा

मतदान के प्रति बुजुर्ग भी खासे जोश से लबरेज नजर आये हैं। इस क्रम में जहां रुड़की में 120 साल की बुजुर्ग महिला मरियम ने मतदान किया वहीं राजधानी दून में 100 वर्षीय कमला देवी, 88 वर्षीय कमला गेरा ने भी खासे उत्साह से अपना वोट डाला। लोकतंत्र के महापर्व में आज मतदान के लिए बुजुर्गों में खासा उत्साह देखा गया हैं। रुड़की के रामपुर गांव निवासी 120 वर्षीय बुजुर्ग महिला मरियम ने आज अपना मतदान किया है। खास बात यह है कि यह बुर्जुग महिला चलने फिरने में असमर्थ है।

पढ़ें :- उत्तराखंड में दोपहर एक बजे तक 35.21 फीसद हुआ मतदान

जिसके चलते उनके पोते उन्हे गोद में उठाकर पोलिंग बूथ तक लाये। बुजुर्ग महिला ने बताया कि वह ऐसा उम्मीदवार चाहती है जो क्षेत्र का विकास करे और ऐसी सरकार हो जो बेरोजगारी व महंगाई पर अंकुश लगा सके। राजधानी दून के रायपुर विधानसभा क्षेत्र के केशरवाला पोलिंग बूथ पर 100 वर्षीय बुजुर्ग महिला कमला देवी अपने पोते योगेश राणा सहित मतदान करने पहुंची। इस दौरान दादी पोते में मतदान के प्रति खासा उत्साह देखा गया।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...
Booking.com
Booking.com
Booking.com
Booking.com