1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Agnipath : बिहार सहित देश के कई हिस्सों में ‘अग्निपथ’, बिहार में जलीं 5 ट्रेनें, हाजीपुर में पुलिस पर पथराव, BJP दफ्तर और विधायक पर हमला

Agnipath : बिहार सहित देश के कई हिस्सों में ‘अग्निपथ’, बिहार में जलीं 5 ट्रेनें, हाजीपुर में पुलिस पर पथराव, BJP दफ्तर और विधायक पर हमला

अग्‍न‍िपथ योजना के खिलाफ बिहार में दूसरे दिन उग्र प्रदर्शन हुआ। 17 जिलों में लोग सड़कों और रेलवे ट्रैक पर उतरे। प्रदर्शनकारियों ने छपरा, कैमूर और गोपालगंज में करीब 5 ट्रेनों को आग के हवाले कर दिया। लगभग 12 ट्रेनों में तोड़फोड़ की गई।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 16 जून। केंद्र सरकार ने 14 जून को अग्निपथ योजना लॉन्च की थी। जिसका विरोध लगातार दो दिनों से जारी है। अग्‍न‍िपथ योजना के खिलाफ बिहार में दूसरे दिन उग्र प्रदर्शन हुआ। 17 जिलों में लोग सड़कों और रेलवे ट्रैक पर उतरे। प्रदर्शनकारियों ने छपरा, कैमूर और गोपालगंज में करीब 5 ट्रेनों को आग के हवाले कर दिया। लगभग 12 ट्रेनों में तोड़फोड़ की गई। केवल छपरा में ही 3 ट्रेनों में आग लगा दी गई। इस दौरान यात्रियों ने भागकर अपनी जान बचाई। छपरा में सबसे ज्यादा प्रदर्शन का असर देखा गया है।

पढ़ें :- Agnipath Scheme : राहुल गांधी का बीजेपी पर हमला- कृषि कानूनों की तरह अग्निपथ योजना को भी लेना पड़ेगा वापस

नेताओं और पुलिस बल पर भी हमला

प्रदर्शन के दौरान बीजेपी के 2 विधायकों पर हमला भी किया गया है। छपरा सदर के बीजेपी विधायक सीएन गुप्ता के घर पर प्रदर्शनकारियों ने तोड़फोड़ की। तो वहीं वारिसलीगंज की विधायक अरुणा देवी की गाड़ी पर भी हमला हुआ। हमले के दौरान विधायक गाड़ी में ही मौजूद थीं। अरुणा देवी हमले में बाल-बाल बच गईं। उन्होंने बताया कि वो अपने क्षेत्र की जन समस्या को लेकर नवादा आ रही थी। उसी वक्त ये हमला हुआ। अचानक से 15 से 20 की संख्या में युवक पहुंचे और उनकी गाड़ी पर हमला कर दिया। तो वहीं नवादा में प्रदर्शनकारियों ने बीजेपी दफ्तर में आग लगा दी। हाजीपुर में पुलिस बल पर पथराव किया गया। पुलिस जवानों ने भी भाग कर जान बचाई। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सरकार अपना ये फैसला वापस ले।

देखें कहां-कहां क्या हुआ ?

जहानाबाद में कई युवाओं ने हाल ही में घोषित हुए अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शन किया।

पढ़ें :- Agnipath Scheme : अजीत डोभाल ने कहा- सरकार अग्निपथ योजना नहीं लेगी वापस, हिंसक प्रदर्शन करने वाले असल में सेना में भर्ती के उम्मीदवार नहीं

नवादा में भी सेना में बहाली की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों ने ‘अग्निवीर’ स्कीम का विरोध किया।

बक्सर में अभ्यर्थियों के प्रदर्शन के कारण कई ट्रेनें रोकनी पड़ीं, शहर में अलग-अलग जगहों पर चक्का जाम किया गया। केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाज़ी कर रहे है अभ्यर्थी।

पढ़ें :- Agnipath Scheme : पीएम मोदी पर कांग्रेस नेता सुबोध कांत सहाय का विवादित बयान, पूर्व सीएम रघुवर दास का पलटवार, दिया करारा जवाब

आरा में अग्निपथ के खिलाफ युवाओं का उग्र प्रदर्शन, रेलवे स्टेशन पर खूब ईंट-पत्थर चलाए।

अग्निपथ योजना के विरोध में बिहार के आरा में प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले चले।

सेना की नई भर्ती स्कीम ‘अग्निपथ’ का बिहार में जोरदार विरोध हुआ, छपरा में गुस्साए छात्रों ने ट्रेन की बोगी में आग लगा दी।

बिहार के नवादा में उपद्रवियों ने BJP ऑफिस में भी आग लगाई। कार्यालय में भी तोड़-फोड़ की गई।

कैमूर में कई युवाओं ने सशस्त्र बलों के लिए हाल ही में घोषित हुए अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन में आग लगाई।

बिहार के मोतिहारी में यात्रियों से भरी ट्रेन पर हुई प्रोटेस्ट कर रहे लोगों ने की पत्थरबाजी

सेना भर्ती ‘अग्निपथ’ के विरोध उत्तराखंड में विरोध प्रदर्शन, कई जिलों में युवाओं ने किया प्रदर्शन।

दिल्ली के नांगलोई रेलवे स्टेशन पर भी अग्निपथ भर्ती योजना के खिलाफ युवाओं का प्रदर्शन।

अलीगढ में अग्निपथ सेना भर्ती स्कीम के विरोध में युवाओं ने बस में की तोड़फोड़।

केंद्र की 4 साल तीनों सेनाओं में भर्ती की योजना

बतादें कि केंद्र सरकार ने 14 जून को सेना की तीनों शाखाओं थलसेना, नौसेना और वायुसेना में युवाओं की बड़ी संख्या में भर्ती के लिए अग्निपथ भर्ती योजना शुरू की है। इसी के तहत युवकों को 4 साल के लिए डिफेंस फोर्स में सेवा देनी होगी। माना जा रहा है कि सरकार ने ये कदम सैलरी और पेंशन का बजट कम करने के लिए उठाया है।

क्यों हो रहा है नौकरी का विरोध ?

एक प्रदर्शनकारियों ने बताया कि 2021 में सेना में नियुक्ति के लिए आवेदन मांगे गए थे। मुजफ्फरपुर समेत 8 जिलों के हजारों अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। उनमें से जिन्होंने फिजिकल टेस्ट पास किए उनका मेडिकल हुआ था। मेडिकल होने के बाद अब एक साल से लिखित परीक्षा का इंतजार कर रहे हैं। अब तक परीक्षा नहीं हुई। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अग्निपथ भर्ती योजना का ऐलान किया था कि अग्निपथ स्कीम के तहत अग्निवीरों की नियुक्ति होगी, जिन्हें 4 साल के लिए सेना में नौकरी दी जाएगी। 4 साल बाद 75 फीसदी जवानों को 11 लाख रुपए देकर घर वापस कर दिया जाएगा। सिर्फ 25 फीसदी की सेवा में कुछ विस्तार होगा। इसी नए नियम को लेकर देश में हंगामा और प्रदर्शन हो रहे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...