1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. CM योगी की जगह एके शर्मा हो सकते हैं प्रदेश के नए मुख्यमंत्री ?

CM योगी की जगह एके शर्मा हो सकते हैं प्रदेश के नए मुख्यमंत्री ?

राजनीती में कुछ भी कभी भी हो सकता है। अब हाल ही में भाजपा के पूर्व सांसद हरिनारायण राजभर ने एक बयान देकर सबको चौंका दिया है।

By Ujjawal Mishra 
Updated Date

UP Assembly Election 2022 : प्रदेश में कुछ ही महीनों में विधानसभा का चुनाव होना है। ऐसे में चुनाव ठीक पहले जहां एक तरफ पक्ष विपक्ष के वार पलटवार तेजी से सामने आ रहे हैं वहीं दूसरी तरफ नेताओं की बयान बाजी भी तुल पकड़ती हुई नजर आ रही है। हाल ही में भाजपा के पूर्व सांसद हरिनारायण राजभर ने एक बयान देकर सबको चौंका दिया है।

पढ़ें :- UP में 10 मार्च के बाद महिलाओं को सरकारी बसों में मुफ्त यात्रा : CM योगी

प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री हो सकते हैं एके शर्मा – हरिनारायण राजभर 

हरिनारायण राजभर ने अपने एक बयान में यह कहा है कि, उत्तर प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष और पूर्व IAS ऑफिसर अरविंद कुमार शर्मा (AK Sharma) प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री हो सकते हैं। बता दें कि एके शर्मा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेहद ही करीबी माने जाते हैं, और फ़िलहाल में वह उत्तर प्रदेश भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष हैं। ऐसे में हरिनारायण राजभर का यह बयान कि अगले मुख्यमंत्री शर्मा हो सकते हैं राजनीति के गलियारों में नया भूचाल ला दिया है।

भाजपा के पूर्व सांसद हैं हरिनारायण राजभर

दरअसल हरिनारायण राजभर वर्ष 2014 में मऊ के घोसी से भाजपा के पूर्व सांसद थे। राजभर के बयान वाला वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है वहीं वायरल हो रही वीडियो में एके शर्मा हरिनारायण राजभर के बगल में नजर आ रहे हैं। जानकारी के मुताबिक वायरल हो रही वीडियो को 4 जनवरी को मऊ में बनाया गया है। बता दें कि जब राजभर इस बात का ऐलान कर रहे थे तब एके शर्मा ने कुछ नहीं बोला।

पढ़ें :- गुरुवार को अमेठी और प्रयागराज में रैली करेंगे प्रधानमंत्री मोदी

वीडियो में राजभर अपने मन की इच्छा जाहिर करते हुए कहते हैं कि मैं एके शर्मा को मुख्यमंत्री बनते हुए देखना चाहता हूं। उन्होंने आगे कहा है कि, हमारे प्रदेश के शर्मा जी मुख्यमंत्री हो सकते हैं। मैं इनके लिए काम करूंगा अपने प्रदेश के लिए काम करूंगा। इस बात का संकल्प लेता हूं।

1988 बैच के IAS अफसर हैं एके शर्मा

एके शर्मा जो पिछले कुछ महीनों से प्रदेश की राजनीति में चर्चा का विषय बने हुए हैं दरअसल वो 1988 बैच के IAS ऑफिसर हैं। वीआरएस लेने के बाद उन्होंने पिछले साल ही 14 जनवरी को भाजपा का दामन थामा। इसके अलावा यह भी कहा जाता रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और एके शर्मा के बीच एक गहरी दोस्ती है।

दोनों एक दूसरे के बेहद ही करीब हैं। पीएम मोदी और एके शर्मा के बीच दोस्ती तब से है जब पीएम मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री हुआ करते थे। तब एके शर्मा पीएम मोदी के सेक्रेट्री थे। नरेंद्र मोदी जब 2014 में देश के प्रधानमंत्री बनें तब एके शर्मा PMO में बतौर ज्वाइंट सेक्रेटरी शामिल हुए थे।

2001 से 2014 तक पीएम मोदी के साथ कर चुके हैं काम 

पढ़ें :- कर्नाटक में बजरंग दल कार्यकर्ता की हत्या के विरोध में मार्च

उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में वर्ष 1962 में पैदा हुए एके शर्मा अपने जिले से ही प्रारंभिक शिक्षा हासिल की। प्रारंभिक शिक्षा हासिल करने के उपरांत उन्होंने इलाहाबाद विश्विद्यालय से ग्रेजुएशन किया और साल 1988 में सिविल सर्विस ज्वाइन करने से पहले पॉलिटिकल साइंस में मास्टर्स भी किया।

एके शर्मा की पहली पोस्टिंग गुजरात में बतौर एडीएम मिली थी। इसके बाद 1995 में उन्होंने मेहसाणा के जिलाधिकारी के रूप में पदभार संभाला और वर्ष 2001 में एके शर्मा नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्री रहते हुए बतौर सेक्रेट्री उनके कार्यालय में शामिल हुए और 2014 तक साथ बने रहे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...