1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. Indian Army : सशस्त्र बलों में किया गया निवेश देश की अर्थव्यवस्था पर बोझ नहीं- सेना प्रमुख

Indian Army : सशस्त्र बलों में किया गया निवेश देश की अर्थव्यवस्था पर बोझ नहीं- सेना प्रमुख

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा- सशस्त्र बलों के मजबूत होने पर ही आर्थिक संकट से देश उबरता है, सशस्त्र बलों पर किए गए खर्च का सौ फीसदी रिटर्न देश को मिलता है।

By इंडिया वॉइस 
Updated Date

नई दिल्ली, 15 अप्रैल। सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने सशस्त्र बलों पर हो रहे खर्च को ऐसा निवेश बताया है जिसका 100 फीसदी रिटर्न मिलता है, इसलिए इसे अर्थव्यवस्था पर बोझ के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए। कोई भी राष्ट्र शेयर बाजार को मिटाने और हजारों निवेशकों को दिवालिया बनाने वाले उन झटकों से तभी उबर सकता है जब उस देश के सशस्त्र बल मजबूत होते हैं।

पढ़ें :- भारतीय सेना द्वारा मारा गया लश्कर आतंकी , पाकिस्तान ने आतंकी के शव को किया स्वीकार

‘किसी भी तरह का संकट पहले देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाता है’

राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय में एक पुस्तक का विमोचन करने के बाद जनरल नरवणे का ये बयान रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध और पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सीमा गतिरोध के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। सेना प्रमुख ने कहा कि जब भी हम सशस्त्र बलों पर किए गए निवेश और व्यय के बारे में बात करते हैं, तो हमें इसे एक निवेश के रूप में देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह का संकट आने पर सबसे पहले देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान होता है। युद्धकाल या क्षेत्र में अस्थिरता होने पर आप सीधे शेयरों और शेयर्स बाजार पर प्रभाव देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह के झटके से बचा जा सकता है जब देश के सशस्त्र बल मजबूत हों।

महिला अधिकारियों की आर्मी एविएशन में भर्ती

सेना प्रमुख ने कहा कि जहां एक राष्ट्र की सुरक्षा में सशस्त्र बल एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं, वहीं राज्य के अन्य अंगों की भी समान रूप से जिम्मेदारी होती है। इसलिए हम सभी की राष्ट्र की सुरक्षा करने में समान और अहम भूमिका होनी चाहिए। जनरल नरवणे ने कहा कि सेना में महिलाओं की एंट्री को अधिक आसान बनाकर कई रास्ते खोल दिए गए हैं। यहां तक कि सेना की एविएशन विंग भी महिलाओं के लिए खोली गई है। महिला अधिकारियों को आर्मी एविएशन में भर्ती करने के लिए पिछले साल जुलाई में कोर्स शुरू किया गया था, जिसमें एक साल की ट्रेनिंग के बाद महिला अधिकारी सेना में भी पायलट बन सकेंगीं। इसके साथ ही आने वाले समय में सशस्त्र बलों में महिलाओं के लिए और मौके उपलब्ध होंगे।

पढ़ें :- Agniveer : 01 जुलाई से सेना में 'अग्निवीरों' की भर्ती, आर्मी जवान से अलग होगा बैज, देंखे इस योजना में अग्निवीरों के लिए क्या-क्या सुविधा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook, YouTube और Twitter पर फॉलो करे...